बड़ी खबरें

राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दियाराज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दिया बेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहरबेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर सरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धिसरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धि हो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबितहो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबित 2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी मुख्यमंत्री का कार्यालय बिहार सरकार (जनसंपर्क कोपांग) से शिक्षकों के लिए प्रेस विज्ञप्ति जारी हो गई आखिरकार शिक्षकों को मिल ही गयामुख्यमंत्री का कार्यालय बिहार सरकार (जनसंपर्क कोपांग) से शिक्षकों के लिए प्रेस विज्ञप्ति जारी हो गई आखिरकार शिक्षकों को मिल ही गया

राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में नई पॉलिसी हो गई लागू शिक्षा विभाग इसी माह से करेंगी निरीक्षण I

राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में नई पॉलिसी हो गई लागू शिक्षा विभाग इसी माह से करेंगी निरीक्षण I

राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शौचालयों और पेयजल व्यवस्था समेत साफ-सफाई से जुड़ी शिकायते मिलती हैं, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। अब स्कूलों में शौचालय व पेयजल समेत साफ-सफाई का जिम्मा प्रधानाध्यापक, विद्यालय प्रबंधन समिति और विद्यालय विकास समिति के जिम्मे होगा। नए सत्र से शौचालय और शुद्ध पेयजल प्रबंधन के लिए मेनटेनेंस पालिसी लागू होगी इसके लिए शिक्षा विभाग की ओर से नीति बनायी जा रही है। अब सरकार नई व्यवस्था के माध्यम से विद्यालयों में शौचालय और पेयजल के अलावा स्वच्छता पर सख्ती भी दिखाएगी। प्रधान शिक्षक व प्रधानाध्यापक के अतिरिक्त शिक्षक की भी जवाबदेही तय होगी। स्वच्छता के लिए हर साल विद्यालयों को पुरस्कार भी दिए जाएंगे। इसके पीछे एक बड़ा कारण रैंकिंग भी है क्योंकि अभी देश और प्रदेशभर में स्वच्छता के लिए स्कूलों की रैंकिंग चल रही है।

यह भी पढ़ें - नियोजित शिक्षक केलकुलेटर से बने वेतन निर्धारण को डाउनलोड कर गड़बड़ी होने पर आपत्ति दर्ज कर सकेंगे इस प्रकार।

साफ-सफाई की निगरानी शिक्षा विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि प्रदेश के 90 हजार स्कूलों की साफ-सफाई व्यवस्था की निगरानी होगी। इस कार्य में विद्यालय प्रबंधन समिति का एक सदस्य, एक शिक्षक व एक विद्यार्थी प्रतिनिधि शामिल होगा। इन सदस्यों को रोज विद्यालय की साफ सफाईका अवलोकन करना होगा। इसके लिए अलग से एक रजिस्टर बनाना होगा, जिसमें रोजाना की सफाई की स्थिति को बताना होगा। अभिभावक भी विद्यालय में साफ-सफाई का जायजा लेंगे। वो भी रजिस्टर में कमेंट लिखेंगे। विद्यालय परिसर व कक्षा आदि की नियमित सफाई के लिए एक लाख रुपए से कम का खर्च किया जा सकेगा। इसमें शौचालय में पानी आदि की व्यवस्था के लिए टंकी और पानी की मोटर की भी व्यवस्था करनी होगी।

यह भी पढ़ें - नियोजित शिक्षक केलकुलेटर से बने वेतन निर्धारण को डाउनलोड कर गड़बड़ी होने पर आपत्ति दर्ज कर सकेंगे इस प्रकार।

प्रस्तावित पालिसी की मुख्य बातें
1) शिक्षा अधिकारी, दो प्रधानाध्यापक, दो जूनियर इंजीनियर (सिविल व इलेक्ट्रिकल) स्कूलों का निरीक्षण करेंगे और रिपोर्ट सौंपेंगे
2) प्रधानाध्यापकों को हर माह यह रिपोर्ट अपलोड करनी होगी कि विद्यालय में शौचालय व पेयजल की व्यवस्था सुदृढ़ है।
3)शौचालय के सभी हिस्सों को जांच कर इस्तेमाल लायक बनाना एवं बच्चों के इस्तेमाल के लिए
खोलना
क) प्रत्येक शौचालय ब्लाक में एक बड़े आकार का ढका हुआ कूड़ेदान होना, जिसकी दिन में कम-से कम दो बार सफाई हो
ख) सभी शौचालय ब्लाक की नियमित रूप से एक दिन में दो बार की सफाई सुनिश्चित करना, जिससे वहां किसी तरह की बदबू न हो और बिना गंध वाली फिनायल का प्रयोग करना


Buy Amazon Product