बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

अपर मुख्य सचिव ने शिक्षकों के हक में जारी किया आदेश DEO एवं BEO को जारी कर दिया पत्र।

अपर मुख्य सचिव ने शिक्षकों के हक में जारी किया आदेश DEO एवं BEO को जारी कर दिया पत्र।


शिक्षा विभाग ने जिलों के शिक्षा अधिकारियों को चेताया है कि बिना किसी ठोस कारण शिक्षकों का वेतन रोका तो कार्रवाई होगी। अपर मुख्य सचिव ने शुक्रवार को सभी डीईओ व डीपीओ (स्थापना) को पत्र भेज कर कहा है कि प्रायः देखा जा रहा है कि शिक्षकों को वेतन बिना कारण ही रोक दिया जाता है। ऐसे मामले न्यायालय में जाते हैं। अपर मुख्य सचिव ने इस तरह के एक मामले में हाईकोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए अधिकारियों को निर्देश दिया कि शिक्षकों के कार्यरत अवधि का वेतन भुगतान करना सुनिश्चित करें।

यदि किसी शिक्षक की नियुक्ति अवैध हो या अन्य किसी प्रकार की अनियमितता हो तो मात्र वेतन रोकने की कार्रवाई को वित्तीय अनियमितता मानते हुए संबंधित पदाधिकारी पर कार्रवाई की जाएगी। ऐसे मामले में या तो निलंबित करते हुए विभागीय कार्यवाही की जाए या बिना निलंबन के विभागीय कार्रवाई की जाए। लेकिन बिना निलंबन या विभागीय कार्रवाई के मात्र वेतन नहीं रोकना है। यह भी कहा कि आधारभूत नियम यह है कि जिस भी कर्मी से आप कार्य ले रहे हैं, उनका वेतन भुगतान आवंटन के अभाव के अलावा अन्य किसी भी परिस्थिति में नहीं रोका जा सकता।

यह भी पढ़ें - 70 हजार सरकारी स्कूलों के लिए शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार ने जारी किया निर्देश ऐसा नहीं होने पर शिक्षकों पर होगी कार्रवाई।

राज्य के 12 से अधिक जिलों में नवनियुक्त शिक्षकों को वेतन भुगतान शुरू नहीं।
पटना | राज्य के दो दर्जन से अधिक जिलों के प्रारंभिक स्कूलों में नवनियुक्त शिक्षकों को वेतन भुगतान शुरू नहीं हो सके हैं। मुजफ्फरपुर, भागलपुर जैसे जिलों के शिक्षकों को वेतन भुगतान प्रक्रियाधीन है, जबकि बांका, गया, शेखपुरा सीतामढ़ी जैसे जिलों में नवनियुक्त शिक्षकों का ईपीएफ अभी ईपीएफ खाता खुलवाए जा रहे हैं। पटना में कुछ शिक्षकों के वेतन भुगतान शुरू हो गए हैं। जबकि कटिहार, जहानाबाद सहित आधा दर्जन जिलों में अधिकांश शिक्षकों का भुगतान हो चुका है।

लगभग डेढ़ माह पहले ही शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी के निर्देश के बाद प्राथमिक शिक्षा निदेशक ने सभी जिलों को नवनियुक्त शिक्षकों को वेतन भुगतान के •लिए कहा था। नवनियुक्त शिक्षकों को वेतन भुगतान की प्रक्रिया में देरी से शिक्षक निराश हैं। बिहार संघर्षशील शिक्षक संघ के सुजीत कुमार झा और नवनियुक्त शिक्षक सौरभ कुमार ने कहा कि सभी शिक्षकों को जून तक का वेतन भुगतान कर दिया जाए। शिक्षा विभाग को एक तिथि निर्धारित कर देना चाहिए, ताकि समय पर वेतन भुगतान हो सके।

यह भी पढ़ें - राज्य के सभी कर्मचारियों एवं शिक्षकों को पुरानी पेंशन प्राप्त करने के लिए इस अभियान से चलना होगा

मई से स्कूलों में नहीं मिला मिड डे मील, पीएमओ पहुंचा मामला।
मुजफ्फरपुर | इस वर्ष अप्रैल माह के बाद सकरा प्रखंड के स्कूलों में बच्चों को मिड डे मील नहीं उपलब्ध कराया जा रहा है। इसकी सूचना अभिभावक आनंद कुमार साह ने पीएमओ से करते हुए बच्चों को मिड डे मिल उपलब्ध करवाने का आग्रह किया है। पीएमओ से इस मामले में डीएम कार्यालय को सूचना देते हुए मामले में कार्रवाई करते हुए बच्चों को मीड डे मिल उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है।

सकरा प्रखंड के सादिकपुर मुरौल गांव के आनंद कुमार साह ने बच्चों को अप्रैल 2022 के बाद मिड डे मील नहीं मिलने की शिकायत पहले स्थानीय अधिकारियों से की। उन्होंने बताया कि उनके दो बच्चे राजकीय आदर्श मध्य विद्यालय शंभूनाथपुर ढोली में पढ़ते हैं। बच्चों को अप्रैल के बाद मिड डे मील नहीं मिलने पर मैंने पीएमओ को पूरे मामले की जानकारी देते हुए यहां के बच्चों को मिड डे मिल उपलब्ध कराने का आग्रह किया है। इसके संबंध में मैने पहले प्रखंडस्तरीय अधिकारियों से भी शिकायत की, लेकिन, कोई नतीजा नहीं निकला। अब पीएमओ से डीएम कार्यालय को सूचना देने तथा कार्रवाई करने का निर्देश दिए जाने की सूचना दी गई है।


Buy Amazon Product