बड़ी खबरें

राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दियाराज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दिया बेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहरबेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर सरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धिसरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धि हो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबितहो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबित 2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी मुख्यमंत्री का कार्यालय बिहार सरकार (जनसंपर्क कोपांग) से शिक्षकों के लिए प्रेस विज्ञप्ति जारी हो गई आखिरकार शिक्षकों को मिल ही गयामुख्यमंत्री का कार्यालय बिहार सरकार (जनसंपर्क कोपांग) से शिक्षकों के लिए प्रेस विज्ञप्ति जारी हो गई आखिरकार शिक्षकों को मिल ही गया

इन सभी शिक्षकों को चिकित्सा के लिए 20- 20 हजार रुपए मिलेंगे राष्ट्रीय शिक्षक कल्याण प्रतिष्ठान की स्थाई समिति की बैठक में लिया गया निर्णय

इन सभी शिक्षकों को चिकित्सा के लिए 20- 20 हजार रुपए मिलेंगे राष्ट्रीय शिक्षक कल्याण प्रतिष्ठान की स्थाई समिति की बैठक में लिया गया निर्णय

पटना। राज्य के 29 शिक्षकों को शिक्षक कल्याण कोष से चिकित्सा के लिए राशि मिलेगी। हर शिक्षक को 20 हजार रुपये मिलेंगे।

यह निर्णय राष्ट्रीय शिक्षक कल्याण प्रतिष्ठान की स्थायी समिति की मंगलवार को हुई बैठक में लिया गया। इसमें बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष व विधान पार्षद केदारनाथ पाण्डेय, बिहार प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष ब्रजनंदन शर्मा एवं प्राथमिक शिक्षा निदेशक अमरेंद्र प्रसाद सिंह उपस्थित थे। हालांकि, जिन 29 मामलों को स्वीकृति दी गयी है, उनमें कई मामलों में कागजात मांगे गये हैं। बैठक में तय हुआ कि कोविड से जुड़े मामलों के आने पर उस पर विचार होगा। इसके साथ ही 20 हजार रुपये की राशि में बढ़ोतरी पर भी चर्चा हुई। इसके लिए केंद्र को लिखा जायेगा।

मगध विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार समेत चार लोग भेजे गये जेल

पटना। निगरानी के विशेष जज मनीष द्विवेदी की अदालत में मंगलवार को निगरानी की विशेष इकाई ने मगध विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार डा. पुष्पेन्द्र कुमार वर्मा, जयनंदन प्रसाद सिंह, पुस्तकालय प्रभारी विनोद सिंह व कुलपति के निजी सचिव सुबोध कुमार को पेश किया। अदालत ने पेश किये गये चारों आरोपियों को न्यायिक हिरासत में लेते हुए चार जनवरी तक के लिए जेल भेज भेजा। विशेष कोर्ट ने न्यायिक हिरासत में भेजने के पूर्व दोनों पक्षों को सुना। जहां आरोपियों के अधिवक्ता ने कोर्ट में यह बताया कि विशेष निगरानी इकाई द्वारा की गयी गिरफ्तारी वह अवैध है तथा संविधान में दिये गये स्वरंगा के स्वतंत्रता के अधिकार का हनन है तथा प्राथमिकी में भी जो आरोप लगाया गया है वह इन आरोपियों पर लागू ही नहीं होता है। क्योंकि जिस समय की घटना बतायी जाती है उस समय इन चारों आरोपियों ने विश्वविद्यालय ज्वाइन भी नहीं किया था। वहीं निगरानी इकाई के अधिवक्ता ने अदालत को बताया कि यह गबन का बहुत बड़ा मामला है तथा इससे पूरा शिक्षा जगत को बदनामी होती है तथा आरोपी दबंग हैं तथा वे बाहर रहेंगे तो साक्ष्य को मिटा देने का प्रयास करेगी।

पक्षों को सुनने के पश्चात विशेष कोर्ट ने चारों आरोपियों को जेल भेजने का आदेश दिया। निगरानी इकाई कांड संख्या ०२१/२१ दर्ज करते हुए अपने प्रारंभिक जांच में पाया है कि कापी व ई बुक खरीदगी में करोड़ों रुपये का गबन किया गया है। आरोपियों ने अन्य पदाधिकारियों से सांठ-गांठ करने कॉपी-छपाई व खरीदने का ठेका नियमों की ताक पर रखकर अपने नजदीकी लोगों को दिया तथा बिना कमेटी की अनुमति के ई-किताब व अन्य किताब खरीदी गयी। उक्त गबन में विश्वविद्यालय के अन्य पदाधिकारियों को संलिप्तता है तथा निगरानी विशेष ईकाई जल्द ही इन्हें गिरफ्तार कर सकती है।


Buy Amazon Product