बड़ी खबरें

बड़ी खबर: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पढ़ाई के साथ कमाई भी होगी: धर्मेंद्र प्रधानबड़ी खबर: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पढ़ाई के साथ कमाई भी होगी: धर्मेंद्र प्रधान दिवाली से पहले कर्मचारियों ब शिक्षकों को मिल सकता है बंपर तोहफा 3 जगह से आएगा पैसा जान ले कैसे?दिवाली से पहले कर्मचारियों ब शिक्षकों को मिल सकता है बंपर तोहफा 3 जगह से आएगा पैसा जान ले कैसे? कैचअप कोर्स से बच्चों और शिक्षकों का 3 ग्रेड में होगा मूल्यांकन जाने विस्तार से उसके बाद शिक्षकों का क्या होने वाला है? कैचअप कोर्स से बच्चों और शिक्षकों का 3 ग्रेड में होगा मूल्यांकन जाने विस्तार से उसके बाद शिक्षकों का क्या होने वाला है? 3.57 लाख शिक्षकों को 15% वेतन वृद्धि का लाभ वित्त विभाग से आने के बाद अब नए साल में मिलने की उम्मीद: अपर मुख्य सचिव3.57 लाख शिक्षकों को 15% वेतन वृद्धि का लाभ वित्त विभाग से आने के बाद अब नए साल में मिलने की उम्मीद: अपर मुख्य सचिव प्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक प्रधानाध्यापक पद का जिला भार हुआ आवंटन पत्र हुआ जारी।:प्राथमिक शिक्षा निर्देशकप्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक प्रधानाध्यापक पद का जिला भार हुआ आवंटन पत्र हुआ जारी।:प्राथमिक शिक्षा निर्देशक शिक्षकों को बरगला रही सरकार 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी स्थानांतरण एवं प्रोन्नति का भी मामला लटका। शिक्षकों को बरगला रही सरकार 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी स्थानांतरण एवं प्रोन्नति का भी मामला लटका।

बिहार के नियोजित शिक्षकों के लिए SWSP की फिर उठी मांग दो साल में भी नहीं दिए गए नियुक्ति पत्र: तेजस्वी

बिहार के नियोजित शिक्षकों के लिए SWSP की फिर उठी मांग  दो साल में भी नहीं दिए गए नियुक्ति पत्र: तेजस्वी

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा है कि बिहार में प्राइमरी से लेकर सेकेंड्री स्तर तक शिक्षकों की भारी कमी है। उन्होंने सोमवार को ट्वीट कर आरोप लगाया कि राज्य सरकार ने शिक्षा व्यवस्था को बर्बाद कर दिया और शिक्षकों का लगातार निरादर किया गया है। उन्होंने कहा कि शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया को येन केन प्रकारेण टालना सरकार की द्वेषपूर्ण मानसिकता को उजागर करता है । तेजस्वी यादव ने कहा कि हमने अपने प्रण पत्र में संविदा प्रथा खत्म कर समान काम समान वेतन देने का संकल्प लिया था। 

नियोजित शिक्षकों की मांग समस्याओं का हो समाधान वेतन एवं एरियर पर बङा फैसला ।


साथ ही सभी रिक्त पदों को पहली कलम से भरने का संकल्प लिया था । उन्होंने कहा कि नियोजन प्रक्रिया की सारी अर्हताएं और प्रक्रिया पूरी करने के बावजूद पिछले दो वर्षो से नीतीश सरकार ने नियुक्ति पत्र प्रतिभावान शिक्षकों को नहीं दिया है। सवाल उठाया कि आखिर सरकार बिहार के नौजवानों को बेरोजगार और बंधुआ मजदूर ही क्यों बनाना चाहती है। अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि राजद का हर सिपाही कोरोना संकट की इस घड़ी में राज्यवासियों की सेवा के लिए जी जान लगाए हुए है। उन्होंने पार्टीजनों का आह्वान किया कि राज्य सरकार की निष्क्रियता और लापरवाही के बावजूद हम और आप मिलकर बिहार से इस महामारी को जड़ से मिटाएंगे!


Buy Amazon Product