बड़ी खबरें

बड़ी खबर मध्य प्रदेश में 1 जनवरी से अनलॉक होंगे कॉलेज |

बड़ी खबर मध्य प्रदेश में 1 जनवरी से अनलॉक होंगे कॉलेज |

पहले 10 दिन केवल प्रैक्टिकल के लिए क्लास लगाई जाएंगी; उसके बाद यूजी और पीजी की क्लास होंगी एक जनवरी से प्रदेश में कॉलेज खुलने को लेकर उच्च शिक्षा विभाग द्वारा भेजे गए प्रस्ताव पर शासन ने निर्णय ले लिया है। शनिवार को इसके आदेश जारी कर दिए जाएंगे।  20 जनवरी को सभी जिलों के आपदा प्रबंधन की बैठक के बाद आगे निर्णय होगा मध्य प्रदेश में 1 जनवरी से सभी शासकीय और अशासकीय कॉलेज खुल जाएंगे। पहले 10 दिन प्रैक्टिकल के लिए क्लास लगाई जाएंगी।

 

10 तारीख के बाद यूजी फाइनल ईयर और पीजी थर्ड सेमेस्टर की क्लास शुरू हो जाएंगी। उच्च शिक्षा विभाग द्वारा शासन को भेजे गए प्रस्ताव को लगभग तैयार कर लिया गया है। सूत्रों की माने तो नई गाइड लाइन के अनुसार नियमित क्लास शुरू करने के निर्देश शनिवार को जारी कर दिए जाएंगे। हालांकि क्लास में आने या न आने का निर्णय छात्रों को स्वयं लेना है। उन्हें क्लास में आने के लिए मजबूर नहीं किया जाएगा।

 

उच्च शिक्षा विभाग के अनुसार नई गाइडलाइन में कॉलेज लगाने को लेकर शासन ने प्रस्ताव तैयार कर दिया है। अभी फाइल शासन के पास ही है। एक जनवरी से सभी शासकीय और अशासकीय कॉलेज खुल जाएंगे। इसमें बीए से लेकर तकनीकी कॉलेज भी शामिल हैं। एक जनवरी से पहले प्रैक्टिकल और 10 जनवरी से नियमित क्लास शुरू की जाएंगी। इसके बाद 20 जनवरी को सभी जिलों के आपदा प्रबंधन की बैठक होगी। उसके बाद कॉलेज को आगे नियमित और क्लास की संख्या बढ़ाने पर निर्णय लिया जाएगा। इस में कोरोना की स्थिति को मुख्य रूप से ध्यान रखा जाएगा।

एक तिहाई उपस्थिति से कक्षाएं लगाई जाएंगी

प्रदेश भर के इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट, फाॅर्मेसी कालेज और पॉलीटेक्निक एक जनवरी से खोले जा सकेंगे। ये कॉलेज शासन और यूजीसी द्वारा जारी गाइडलाइन के तहत ही खोले जाएंगे। तकनीकी शिक्षा विभाग ने भी शासन को इसका प्रस्ताव भेजा है। इसके अलावा प्रदेश में खुले नए कोर्स की अनुमति भी रही। कार्यपरिषद की बैठक में कॉलेजों को कोरोना गाइड लाइन व नियमों का पालन कर खोले जाने के निर्णय के साथ ही अकादमिक विषयों पर चर्चा की गई।

 

इसमें कहा गया कि संस्थानों और विद्यार्थियों की सहमति से ही कॉलेज खोले जाएंगे। प्रबंधन विद्यार्थियों को कॉलेज आने के लिए मजबूर नहीं करेंगे। विद्यार्थी अपनी मर्जी से ही काॅलेज आकर कक्षाओं में उपस्थित होंगे। इसलिए काॅलेज विद्यार्थियों की एक तिहाई उपस्थिति से कक्षाएं लगाई जा सकेंगी। प्रदेश के इंजीनियरिंग कालेजों में 15 नई ब्रांच में विद्यार्थियों को प्रवेश दिया है। बैठक में उनकी स्कीम और सिलेबस को मंजूरी दे दी गई है। अब प्रदेश में इंजीनियरिंग की करीब 45 ब्रांच में विद्यार्थी प्रवेश लेने के बाद पढ़ाई कर पाएंगे।


Buy Amazon Product