बड़ी खबरें

78 हजार केंद्रीय राज्य कर्मियों को 188 करोड़ से ज्यादा दिवाली बोनस के रूप में बड़ी धनराशि मिलेगी।78 हजार केंद्रीय राज्य कर्मियों को 188 करोड़ से ज्यादा दिवाली बोनस के रूप में बड़ी धनराशि मिलेगी। राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दियाराज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दिया बेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहरबेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर सरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धिसरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धि हो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबितहो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबित 2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी

नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर कब होगा बढे 15 % वेतन राशि का शिक्षकों को भुगतान जरूर जाने।

नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर कब होगा बढे 15 % वेतन राशि का शिक्षकों को भुगतान जरूर जाने।

पटना। राज्य सरकार ने विधानसभा चुनाव से ठीक पहले अगस्त 2020 में स्थानीय निकाय के तहत वहाल शिक्षकों को 1 अप्रैल 2021 से 15 प्रतिशत वेतन बढ़ोत्तरी का कैविनेट में फैसला लिया गया और उसके बाद संकल्प जारी किए गए। उससे पहले मई 2020 में शिक्षकों के आंदोलन को समाप्त कराने के लिए शिक्षक संघों से समझौते के दौरान तत्कालीन शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने वेतन वढ़ोतरी का आश्वासन देकर हड़ताल को समाप्त कराया। उसके वाद फरवरी 2021 में शिक्षा विभाग की ओर से सभी जिलों से वेतन वढोतरी मद के लिए अतिरिक्त राशि की अधियाचना का आदेश जारी किया गया। अव 11 नवंबर को शिक्षा विभाग की ओर से वेतन बढ़ोतरी से संबंधि पुनः एक और आदेश जारी कर दिए गए। नए आदेश में पहले के ही कई वातों को शामिल कर इसमें एक नया पेंच वेतन शामिल कर इसमें एक नया पेंच वेतन निर्धारण के लिए ऑनलाइन कैलुकेटर तैयार करने की वात शामिल कर दी गई। इस तरह से विगत 15 महीनों से शिक्षकों का 15 प्रतिशत वेतन बढ़ोतरी को कई वार आदेश जारी करना और उसका वेतन भुगतान नहीं करने से शिक्षकों में आक्रोश व्याप्त है। शिक्षक सरकार से यह जानना चाह रहे हैं कि आखिर कब तक होगी वेतन बढ़ोतरी के लाभ का भुगतान । यह वातें शिक्षक अस्मिता वचाओ अभियान समिति के प्रदेश प्रतिनिधि आनंद मिश्रा ने कही। उन्होंने कहा कि जव वेतन बढ़ोतरी का भुगतान ही नहीं करना है तो वारवार एक ही मुद्दे को सुर्खिया बटोरना कहां तक जायज है। उन्होंने कहा कि इससे शिक्षक अपने आप को अपमानित महसूस कर रहे हैं। आखिर कदम कदम पर शिक्षकों को क्यों वरगलाती है सरकार देने से अधिक ढ़िढ़ोरा अधिक पीट रही है सरकार।

यह भी पढ़ें - साढे तीन लाख नियोजित शिक्षकों को 15%वेतन वृद्धि की शिक्षा मंत्री ने दी बधाई ₹4000 सैलरी में होगी वृद्धि एरियर का एकमुश्त होगा भुगतान।

उन्होंने कहा कि यदि कुल मिलाकर देखा जाए तो शिक्षकों की ऐतिहासिक लंबी चली हड़ताल एवं उसके वाद सरकार की घोषणा और आदेशों को लागू नहीं होने से शिक्षकों एवं पुस्तकालयाध्यक्षों में काफी निराशा है और वे अपने आप को ठगा महसूस कर रहे हैं। टालमटोल नीति की वजह से शिक्षक तनाव में रहते हैं, जिससे गुणवतापूर्ण शिक्षा पर भी असर पड़ना लाजिमि है।

आनंद मिश्रा ने बताया कि वर्ष 2015 में शिक्षकों ने अपनी वाजिव मांग को लेकर 37 दिन और वर्ष 2020 में 78 दिनों का हड़ताल किया। 

सरकार से हुई समझौता वार्ता के वावजूद अव भी कई मांगों को कोई न कोई वहाना वनाकर लंवित रखा गया है। उन्होंने वताया कि 2009 से लागातार अपनी मांगों को लेकर आंदोलन करनेवाले राज्य के नियोजित शिक्षकों एवं पुस्तकालयाध्यकक्षों को 2015 में सरकार से हुई समझौता के वाद कुछ आस जगी थी। लेकिन हुआ वही ढाक के तीन पात।


Buy Amazon Product