बड़ी खबरें

हो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबितहो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबित 2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी मुख्यमंत्री का कार्यालय बिहार सरकार (जनसंपर्क कोपांग) से शिक्षकों के लिए प्रेस विज्ञप्ति जारी हो गई आखिरकार शिक्षकों को मिल ही गयामुख्यमंत्री का कार्यालय बिहार सरकार (जनसंपर्क कोपांग) से शिक्षकों के लिए प्रेस विज्ञप्ति जारी हो गई आखिरकार शिक्षकों को मिल ही गया शिक्षकों व प्रधानाध्यापकों के वेतन को 12.58 अरब जारी 15% वेतन बढ़ोतरी एरियर के साथ होगा भुगतानशिक्षकों व प्रधानाध्यापकों के वेतन को 12.58 अरब जारी 15% वेतन बढ़ोतरी एरियर के साथ होगा भुगतान शिक्षक नियुक्ति में फंसा पेच अब शिक्षकों को मिलेगी सीधा सेवा में प्रोन्नतिशिक्षक नियुक्ति में फंसा पेच अब शिक्षकों को मिलेगी सीधा सेवा में प्रोन्नति 72 हजार सरकारी स्कूलों के शिक्षकों को लिए शिक्षा निर्देशक  विशेष सामग्री की उपलब्धता कराई गई शिक्षक जान ले 72 हजार सरकारी स्कूलों के शिक्षकों को लिए शिक्षा निर्देशक विशेष सामग्री की उपलब्धता कराई गई शिक्षक जान ले

नियोजित शिक्षकों के 15% वेतन वृद्धि इंक्रीमेंट और प्रमोशन को लेकर आ गई बड़ी खबर।

नियोजित शिक्षकों के 15% वेतन वृद्धि इंक्रीमेंट और प्रमोशन को लेकर आ गई बड़ी खबर।

उप सचिव शिक्षा विभाग, बिहार के आदेश ज्ञापांक 1816 एवं दिनांक 12.11.2021 के कारण उत्पन्न विसंगतियों के निराकरण के संबंध में। कहना है कि शिक्षा विभाग के उप सचिव के 1816, दिनांक 12.11.2021 के आलोक में 01 अप्रैल, 2021 से मूल वेतन में वेतन वृद्धि का आदेश दिया गया है। परन्तु पहले से वेतन विसंगति को दूर किए बिना वेतन वृद्धि से घोर वेतन विसंगति उत्पन्न हो गया है, जो निम्नलिखित हैं:
1. 15 प्रतिशत वेतन वृद्धि 01 अप्रैल 2021 को देने के बाद निर्धारित जुलाई के वार्षिक इंक्रीमेंट नहीं देकर जनवरी, 2022 से कर दिया गया है जिसके करण शिक्षकों को फिर से आर्थिक नुकसान हो रहा है।
2. यदि 15 प्रतिशत वेतन वृद्धि के बाद जुलाई में इंक्रीमेंट नहीं दिया जा सकता है तो जिन शिक्षकों को जनवरी में 3 प्रतिशत इंक्रीमेंट दिया गया है उनको 15 प्रतिशत की वेतन द्वि अप्रैल में कैसे दिया जाएगा। इसलिए 15 प्रतिशत विशेष वेतन वृद्धि किया जाए तथा जो इंक्रीमेंट जैसे मिल रहा है वो मिलता रहे।

यह भी पढ़ें - राज्य के इन सभी सरकारी स्कूलों के लिए सरकार ने 25 - 25 हजार रुपये देने का किया ऐलान।

3. संकल्प संख्या 1632, दिनांक: 21.06.2017 को पे-मैट्रीक्स निर्धारित किया गया था। वेतन वृद्धि के लिए नया पे-मैट्रीक्स बनाने से शिक्षकों / पुस्तकालयध्यक्षों के वेतन में नुकसान हो रहा है। जब तक नया वेतन आयोग नहीं आता, पे-मैट्रीक्स नहीं बदला जाना चाहिए। उसी पेमेट्रीक्स से 15 प्रतिशत वेतन वृद्धि दिया जाना चाहिए।
4. पहले से चले आ रहे वेतन विसंगति को दूर किया जाए। 01 जुलाई 2015 के पूर्व नियुक्त शिक्षकों को तीन साल पर एक इंक्रीमेट दिया गया है वो नियुक्ति तिथि से वार्षिक इक्रीमेंट देकर वेतन निर्धारित किया जाए, ताकि वेतन विसंगति दूर हो एवं वरीयता भी बनी रहे।

यह भी पढ़ें - राज्य के इन सभी सरकारी स्कूलों के लिए सरकार ने 25 - 25 हजार रुपये देने का किया ऐलान।


5. शिक्षक / पुस्तकालयाध्यक्ष का मूल वेतन अपने से कनीय शिक्षक / पुस्तकालयाध्यक्ष से कम होने पर कनीय शिक्षक के मूल वेतन के अनुरूप होने से वेतन निर्धारण में विसंगति उत्पन्न होगा। 6. शिक्षकों / पुस्तकालयाध्यक्षों की प्रोन्नति 10 वर्ष पर दिया जाना चाहिए, ताकि शिक्षकों का मनोबल बना रहे तथा पूरे मनोयोग से कार्य कर सकें। अतः महोदय से अनुरोध है कि विभागीय संख्या 1816, दिनांक 1211.2021 में उपर्युक्त विसंगतियों के साथ पूर्व के अन्य विसंगतियों के निराकरण करने के बाद ही वेतन निर्धारण का कैलकुलेटर तैयार किया जाए करना च चाहेगें
भवदीय.
संजीव श्याम सिंह


Buy Amazon Product