बड़ी खबरें

बड़ी खबर: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पढ़ाई के साथ कमाई भी होगी: धर्मेंद्र प्रधानबड़ी खबर: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पढ़ाई के साथ कमाई भी होगी: धर्मेंद्र प्रधान दिवाली से पहले कर्मचारियों ब शिक्षकों को मिल सकता है बंपर तोहफा 3 जगह से आएगा पैसा जान ले कैसे?दिवाली से पहले कर्मचारियों ब शिक्षकों को मिल सकता है बंपर तोहफा 3 जगह से आएगा पैसा जान ले कैसे? कैचअप कोर्स से बच्चों और शिक्षकों का 3 ग्रेड में होगा मूल्यांकन जाने विस्तार से उसके बाद शिक्षकों का क्या होने वाला है? कैचअप कोर्स से बच्चों और शिक्षकों का 3 ग्रेड में होगा मूल्यांकन जाने विस्तार से उसके बाद शिक्षकों का क्या होने वाला है? 3.57 लाख शिक्षकों को 15% वेतन वृद्धि का लाभ वित्त विभाग से आने के बाद अब नए साल में मिलने की उम्मीद: अपर मुख्य सचिव3.57 लाख शिक्षकों को 15% वेतन वृद्धि का लाभ वित्त विभाग से आने के बाद अब नए साल में मिलने की उम्मीद: अपर मुख्य सचिव प्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक प्रधानाध्यापक पद का जिला भार हुआ आवंटन पत्र हुआ जारी।:प्राथमिक शिक्षा निर्देशकप्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक प्रधानाध्यापक पद का जिला भार हुआ आवंटन पत्र हुआ जारी।:प्राथमिक शिक्षा निर्देशक शिक्षकों को बरगला रही सरकार 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी स्थानांतरण एवं प्रोन्नति का भी मामला लटका। शिक्षकों को बरगला रही सरकार 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी स्थानांतरण एवं प्रोन्नति का भी मामला लटका।

बड़ी खबर रिटेल में बढ़ा हरी सब्जियों का दाम 30 रुपए किलो टमाटर |

बड़ी खबर रिटेल में बढ़ा हरी सब्जियों का दाम 30 रुपए किलो टमाटर |

इस सर्द जाड़े में दिल्ली में पिछले करीबन एक महीने से आंदोलन पर बैठे किसानों की मांग अगर पहले ही पूरी हो गई होती तो आज यह नौबत तो नहीं होती कि किसान को 30 पैसे किलो टमाटर बेचना पड़ता। जी हां, आँध्र प्रदेश के किसानों के लिए यह एक बुरा दिन है। दो दिनों से यहां टमाटर की कीमतें 30 पैसे प्रति किलो पर आ गई हैं। एक ऐसी रकम जो कि फिलहाल चलन में ही नहीं है।

टमाटर की बंपर पैदावार

आंध्र प्रदेश के किसानों के लिए टमाटर इसलिए बुरा दिन लाया है क्योंकि टमाटर की बंपर पैदावार हुई है। इस पैदावार से टमाटर की कीमतें बहुत नीचे आ गई हैं। इससे किसानों का खासा नुकसान हो रहा है। आंध्र प्रदेश के रायलसीमा इलाके में टमाटर की थोक कीमतें घटकर 30 से 70 पैसे प्रति किलो तक पहुंच गयी हैं। इससे किसानों की हालत खराब है। उन्होंने स्थानीय मंडी अधिकारियों के खिलाफ प्रदर्शन भी किया है। मंडी प्रबंधकों का कहना है कि गुरुवार को अचानक मंडी में 150 टन टमाटर आ गया, जिसकी वजह से कीमतें काफी नीचे आ गयीं।

 

टमाटर के लिए प्रसिद्ध है यह इलाका

यहां का रायलसीमा इलाका टमाटर के लिए काफी प्रसिद्ध है। यहां का प्रसिद्ध बाजार पाथीकोंडा एग्रीकल्चर प्रोड्यूस मार्केट कमिटी (APMC) में गुरुवार को टमाटर की थोक कीमतें 30 से 70 पैसे के बीच पहुंच गईं। यहां किसानों को एक किलो टमाटर का रेट 30-70 पैसे तक मिल रहा है। जबकि किसानों को यह टमाटर मंडी में लाने के लिए इससे ज्यादा किराया खर्च करना पड़ रहा है। इसको लेकर किसानों ने मंडी के अधिकारियों और प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन भी किया।

गुजारा होना मुश्किल है

किसानों का कहना है कि हमारी फसल इसी भाव पर बिकेगी तो गुजारा होना मुश्किल है। किसानों का कहना है कि टमाटर को पैदा करने में इससे कई गुना ज्यादा लागत लगती है। फिर उसमें मेहनत और मंडी तक लाना होता है। इसके लिए भी किराया लगता है। अगर मंडी में लाकर 30 पैसे ही किलो बेचना है तो इससे अच्छा कि हम न लाएं। हमारा किराया तो बच जाएगा। घाटा नहीं होगा। किसानों का कहना है कि ऐसी हालत में परिवार का खर्च कैसे निकलेगा? इस हालत के लिए मंडी के अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए किसानों ने विरोध प्रदर्शन भी किया।

प्रति एकड़ लागत 30 हजार रुपए

यहां के अनंतपुर और कुर्नूल के किसानों का दावा है कि उन्होंने टमाटर उगाने और कीटनाशक आदि पर प्रति एकड़ 30 हजार रुपए खर्च किए हैं। उन्हें मंडी तक टमाटर लाने के लिए किराया भी देना पड़ता है। इससे किसानों की लागत भी नहीं वसूल हो पा रही। दिलचस्प यह है कि किसानों से 30 पैसे किलो थोक बाजार में खरीदा गया टमाटर बाजार में 30 रुपए किलो बिक रहा है। यानी थोक भाव में खरीदा गया टमाटर बाजार में 100 गुना भाव पर बिक रहा है।


Buy Amazon Product