बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

कैबिनेट से आई बड़ी खबर शिक्षकों की प्रोन्नति पर शिक्षा मंत्री के अनुमोदन के बाद कैबिनेट में जाएगी प्रस्ताव अनुमोदन के बाद लगेगा अंतिम मोहर

कैबिनेट से आई बड़ी खबर शिक्षकों की प्रोन्नति पर शिक्षा मंत्री के अनुमोदन के बाद कैबिनेट में जाएगी प्रस्ताव अनुमोदन के बाद लगेगा अंतिम मोहर

पटना। राज्य में कैरियर एडभांसमेंट प्रोन्नति योजना के तहत विश्वविद्यालय शिक्षकों को प्रोन्नति जल्द मिलेगी।

इससे संबंधित परिनियम जल्द लागू होने के आसार हैं है।

इस पर राज्य सरकार की अंतिम मुहर जल्द लगने वाली है।

विश्वविद्यालयों के शिक्षकों को कैरियर एडभांसमेंट प्रोन्नति योजना के तहत प्रोन्नति के परिनियम का ड्राफ्ट तैयार करने के लिए कुलपतियों की तीन सदस्यीय कमेटी गठित हुई थी। संशोधनों के बाद कमेटी द्वारा परिनियम के ड्राफ्ट को अंतिम रूप दिया गया। उसके बाद राजभवन ने पांच जुलाई को अपने पत्रांक 951 द्वारा इसकी अधिसूचना जारी की। लेकिन, परिनियम के तहत विश्वविद्यालय शिक्षकों को प्रोन्नति मिल पाती, उसके पहले ही राज्य सरकार ने राजभवन को पत्र भेज कर कहा कि उसके अनुमोदन - सहमति के पश्चात ही कैरियर एडभांसमेंट प्रोन्नति योजना से संबंधित परिनियम क्रियान्वित करने की काररवाई की जाय। 

यह भी पढ़ें - शिक्षा मंत्री और निर्देशक सचिव असंगबा चुबा आओ ने 72 हजार सरकारी स्कूलों के लिए कर दिए नए नियम लागू

इस बाबत राज्यपाल सचिवालय के प्रधान सचिव को संबोधित पत्र शिक्षा विभाग के सचिव असंगबा चुबा आओ के हस्ताक्षर से राजभवन को भेजा गया। शिक्षा मंत्री के अनुमोदन के बाद कैबिनेट जायेगा प्रस्ताव था । पत्र में कहा गया था कि राजभवन के स्तर से राज्य के विश्वविद्यालयों के शिक्षकों को कैरियर एडभांसमेंट जायेगा प्रोन्नति योजना के तहत प्रोन्नति संबंधी परिनियम का प्रारूप विभाग में सहमति हेतु प्राप्त है। उस पर राज्य सरकार का अनुमोदन सहमति प्राप्त करने की काररवाई प्रक्रियाधीन है। पत्र में अनुरोध किया गया था कि राजभवन के पत्रांक 951 (पांच जुलाई, 2022 ) द्वारा अधिसूचित परिनियम को राज्य सरकार से अनुमोदन - सहमति के पश्चात क्रियान्वित करने की कृपा की जाय । इसके साथ ही परिनियम पर राज्य सरकार की मुहर लगने की प्रक्रिया भी शुरू हुई। इस पर वित्त विभाग द्वारा अपने अनुमोदन की मुहर लगा दी गयी है । 

यह भी पढ़ें - मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षकों की तमन्ना पूरी कर दी बरसों से था इसका इंतजार

उसके बाद मंजूरी के लिए उसे कैबिनेट भेजने की तैयारी चल ही रही थी कि सरकार बदल गयी। नयी सरकार के गठन के बाद कैबिनेट भेजने के पूर्व प्रस्ताव नये शिक्षा मंत्री को भेजा गया। शिक्षा मंत्री के अनुमोदन के बाद उसे कैबिनेट भेजा आपको बता दूं कि परिनियम के दायरे में आने वाले राज्य के विश्वविद्यालयों में पटना विश्वविद्यालय, बी. आर. ए. बिहार विश्वविद्यालय, मगध विश्वविद्यालय, तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय, जयप्रकाश विश्वविद्यालय, भूपेंद्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय, मुंगेर विश्वविद्यालय, पूर्णिया विश्वविद्यालय, पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय, मौलाना मजहरुल हक अरबी-फारसी विश्वविद्यालय, नालंदा खुला विश्वविद्यालय एवं आर्यभट ज्ञान विश्वविद्यालय शामिल हैं।

]

यह भी पढ़ें - वर्ष 2003 से अब तक लाखों को नियोजित शिक्षकों को प्रधान शिक्षक बनने के लिए ऐसे करने होंगे बदल गए नियम शिक्षा मंत्री का आया आदेश

पांच हजार शिक्षाकर्मियों को अनुदान का इंतजार
14 को राजभवन मार्च करेंगे शिक्षक-शिक्षकेतरकर्मी
संबद्ध कॉलेजों में नहीं पहुंची विश्वविद्यालय को 10 माह पहले मिली राशि
पटना।
संबद्ध डिग्री कॉलेजों को रिजल्ट के आधार पर मिलने वाली अनुदान राशि राज्य सरकार द्वारा पिछले साल नवंबर माह में ही मगध विश्वविद्यालय को उपलब्ध कराने के बावजूद अधिकांश कॉलेजों को अब तक नहीं मिली है। इससे इन कॉलेजों के तकरीबन पांच हजार शिक्षक एवं शिक्षकेतर कर्मचारी आर्थिक संकट के गंभीर दौर से गुजर रहे हैं।

यह भी पढ़ें - नियोजित शिक्षकों को एक साथ दो-दो खुशखबरी अब बिना परीक्षा के होगा पदोन्नति शिक्षा विभाग के अधिकारी ने जारी किया पत्र

बिहार राज्य संबद्ध डिग्री महाविद्यालय शिक्षक शिक्षकेतर कर्मचारी महासंघ (फैक्टनेब) के प्रवक्ता अरुण गौतम ने मंगलवार को बताया कि गया, औरंगाबाद, नवादा, जहानाबाद, अरवल, पटना एवं नालंदा जिलों के तकरीबन 47 संबद्ध डिग्री महाविद्यालयों के स्नातक शैक्षिक सत्र 2009-12, 2010 - 13, 2011-14 एवं 2012-15 की अनुदान राशि राज्य सरकार द्वारा नवम्बर 2021 में ही मगध  विश्वविद्यालय को उपलब्ध करायी गयी, यह राशि विश्वविद्यालय ने अधिकांश कॉलेजों को नहीं दी है। इस बीच दर्जनों शिक्षक और शिक्षकेतर कर्मचारी अर्थाभाव में समुचित इलाज नहीं होने के कारण दम तोड़ चुके हैं। शिक्षक-शिक्षकेतर कर्मचारियों और उनके आश्रितों के समक्ष भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गयी है। संगठन का आरोप है कि जिन कॉलेजों राशि दी गयी है, उनसे चढ़ावा लिया गया है। 

यह भी पढ़ें - राज्य सरकार के सचिव ने सभी विभागों के कार्यालयों में बायोमेट्रिक अटेंडेंस लगाने का दिया निर्देश शिक्षकों में मचा हड़कंप

कॉलेजों को अनुदान राशि अविलंब उपलब्ध कराने की मांग को लेकर बिहार राज्य संबद्ध डिग्री महाविद्यालय शिक्षक शिक्षकेतर कर्मचारी महासंघ  (फैक्टनेब) द्वारा चलाये जा रहे आंदोलन के तहत एक सितंबर को मगध विश्वविद्यालय में तालाबंदी की गयी। उसके पहले यहां पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के समक्ष धरना दिया गया। इसलिए कि मगध विश्वविद्यालय के कुलपति के प्रभार में पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के कुलपति हैं। अब, आंदोलन के अगले चरण में शिक्षक-शिक्षकेतर कर्मचारी 14 सितंबर को राजभवन मार्च करेंगे। महासंघ की मांगों में संबद्ध डिग्री महाविद्यालयों का घाटानुदानित या अंगीभूतीकरण, स्थायी कुलपति की नियुक्ति, विश्वविद्यालय स्तर पर पदसृजन के मामलों का शीघ्र निपटारा, संबद्ध महाविद्यालयों के शिक्षाकर्मियों की शोध प्रवेश परीक्षा से मुक्ति शिक्षकों की शोध पर्यवेक्षक के रूप में नियुक्ति, शैक्षणिक सत्र का नियमितीकरण, लंबित परीक्षाफल की घोषणा एवं उत्तीर्ण विद्यार्थियों को प्रमाण पत्र दिया जाना भी शामिल है।


Buy Amazon Product