बड़ी खबरें

राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दियाराज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दिया बेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहरबेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर सरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धिसरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धि हो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबितहो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबित 2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी मुख्यमंत्री का कार्यालय बिहार सरकार (जनसंपर्क कोपांग) से शिक्षकों के लिए प्रेस विज्ञप्ति जारी हो गई आखिरकार शिक्षकों को मिल ही गयामुख्यमंत्री का कार्यालय बिहार सरकार (जनसंपर्क कोपांग) से शिक्षकों के लिए प्रेस विज्ञप्ति जारी हो गई आखिरकार शिक्षकों को मिल ही गया

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सभी कर्मचारियों को दिया खुशखबरी अब मिलेगी पुरानी पेंशन टीम गठित हो गया।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सभी कर्मचारियों को दिया खुशखबरी अब मिलेगी पुरानी पेंशन टीम गठित हो गया।


केंद्र की तर्ज पर बिहार में बदलाव की तैयारी कर्मचारी की मौत होने पर उनके आश्रित को पुरानी पेंशन मिलेगी !
केंद्र की तर्ज बिहार सरकार भी नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीसी) के तहत मृतक कर्मचारी के आश्रित को पुरानी पारिवारिक पेंशन योजना का लाभ दे सकती है। इसकी नियमावली बनाने के लिए वित्त विभाग के सचिव (संसाधन) की अध्यक्षता में एक कमेटी गठित की गई है। सूत्रों की मानें तो कमेटी अपनी रिपोर्ट जून अंत तक राज्य सरकार को सौपेंगी। नए बदलाव के तहत मृतक कर्मचारियों के आश्रित को उनके आखिरी वेतन भुगतान की 50 फीसदी राशि पेंशन के तौर पर दी सकती है। हालांकि इसका लाभ नए नियुक्ति होने वाले कर्मचारियों को मिलेगा। इसके लिए कर्मचारियों को पहले ही ऑपशन चुनना होगा। वैसे, भविष्य में एनपीएस के तहत आने को भी यह लाभ दिया जा सकता है, क्योंकि केंद्र ने नए व पुराने सभी कर्मियों को यह फायदा दिया है। गौरतलब है कि केंद्र ने एनपीसी के तहत आने वाले कर्मचारियों की मृत्यु होने पर उनके आश्रितों को पुरानी पेंशन योजना के तहत मिलने वाली पारिवारिक पेंशन देने के लिए पेंशन नियम में संशोधन किया है।

यह भी पढ़ें - राज्य परियोजना निदेशक ने 6 से 18 आयु वर्ग के सभी बच्चों के शिक्षकों के लिए जारी किया निर्देश

शुरू में नए कर्मियों को ही लाभ, नियमावली बनाने के लिए कमेटी गठित... इसी माह राज्य सरकार को सौंपेगी रिपोर्ट।
बदलाव के लाभ के गणित को यूं समझें...
अगर किसी कर्मचारी की मौत हो जाती है तो उसके आश्रित को 7 साल तक बेसिक का 50 फीसदी और महंगाई भत्ता बतौर पेंशन मिलेगी। 7 साल के बाद बेसिक का 30% और महंगाई भत्ता मिलेगा। यानी अगर किसी कर्मचारी की मौत के समय बेसिक 50 हजार है तो आश्रित को 25 हजार और महंगाई भत्ता 7 साल तक मिलता रहेगा। सात साल के बाद बेसिक का 30 फीसदी यानी 15 हजार और महंगाई भत्ता पेंशन के रूप में मिलेगी।

यह भी पढ़ें - नियोजित शिक्षकों के SSA और GOB वाले शिक्षकों के वेतन प्राप्त हेतु बैंक में भेज दिया गया है

रिवारिक पेंशन के लिए अब 7 साल की सेवा ही जरूरी।
केंद्र ने 2004 में एनपीएस लागू किया था। 2005 में बिहार सरकार ने भी अपने कर्मचारियों के लिए एनपीएस शुरू किया। प्रदेश में 1.95 लाख कर्मचारी एनपीएस के दायरे में आते हैं। दोनों में फर्क में हम इस रूप में समझ सकते हैं पुरानी पेंशन के लिए कर्मचारी की सैलरी से कोई कटौती नहीं होती थी। वहीं, एनपीएस में सैलरी से 10% की कटौती की जाती है, इसमें 14% हिस्सा सरकार भी देती है। पुरानी पेंशन योजना में जीपीएफ की सुविधा होती थी, लेकिन एनपीएस में यह नहीं है। पुरानी पेंशन योजना में रिटायरमेंट के समय की सैलरी की करीब आधी राशि पेंशन मिलती थी, और हर 6 महीने में महंगाई भत्ते का लाभ भी दिया जाता था। लेकिन, एनपीएस में ऐसा कोई लाभ नहीं मिलता है। एनपीएस में कर्मियों को रिटायरमेंट के समय कुल जमा राशि का 60% एक मुश्त दे दिया जाएगा। शेष 40% को शेयर बाजार में निवेश कर उसके आधार पर पेंशन तय होगी।

यह भी पढ़ें - सरकार ने EPFO पर ब्याज दर को बढ़ाया सरकारी कर्मचारियों को अब और मिलेगा फायदा लिया गया बड़ा फैसला

कोरोना संक्रमण के कारण केंद्र सरकार ने अपने कर्मचारियों की सेवा शर्तों में कई बदलाव किए हैं।
ऐसा ही एक बदलाव पेंशन से भी जुड़ा है। मौत होने की स्थिति में अब पेंशन पाने के लिए सात साल की न्यूनतम सर्विस की शर्त ही रखी गई है। पहले प्रावधान था कि पेंशन पाने के लिए किसी भी स्थिति में दस साल की सेवा जरूरी है। लेकिन, अब मौत होने पर पारिवारिक पेंशन के लिए सात वर्ष की सेवा की शर्त रखी गई है। ऐसे में उनके परिजनों को आखिरी पेमेंट का 50 फीसदी पेंशन के तौर पर दी जाएगी। कार्मिक मंत्रालय ने हाल ही में इस आशय का आदेश भी जारी किया गया।


Buy Amazon Product