बड़ी खबरें

78 हजार केंद्रीय राज्य कर्मियों को 188 करोड़ से ज्यादा दिवाली बोनस के रूप में बड़ी धनराशि मिलेगी।78 हजार केंद्रीय राज्य कर्मियों को 188 करोड़ से ज्यादा दिवाली बोनस के रूप में बड़ी धनराशि मिलेगी। राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दियाराज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दिया बेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहरबेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर सरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धिसरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धि हो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबितहो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबित 2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी

शिक्षा मंत्री और निर्देशक सचिव असंगबा चुबा आओ ने 72 हजार सरकारी स्कूलों के लिए कर दिए नए नियम लागू

शिक्षा मंत्री और निर्देशक सचिव असंगबा चुबा आओ ने 72 हजार सरकारी स्कूलों के लिए कर दिए नए नियम लागू

 3री तक के बच्चों के लिए शुरू हुई शिक्षा की नयी योजना

'निपुण बिहार' से बुनियादी साक्षरता व संख्या ज्ञान में बच्चे होंगे दक्ष

पटना। राज्य के 72 हजार प्राइमरी-मिडिल स्कूलों में 1 ली से 7 3री कक्षा में पढ़ने वाले लाखों बच्चों की न शिक्षा के लिए एक नयी योजना शुरू हुई ड है। 'निपुण बिहार' नामक इस नयी न योजना का शुभारंभ शिक्षा मंत्री प्रो. चन्द्रशेखर ने सोमवार को शिक्षक दिवस समारोह में किया। शिक्षा मंत्री द्वारा पटना एवं नालंदा जिले के लिए ' निपुण रथ' भी 5 रवाना किये गये। बाद में 'निपुण रथ' बाकी सभी जिलों में भी जायेंगे। रथ पर नु सवार स्वयंसेवक पंचायत प्रतिनिधियों, समाज के लोगों एवं अभिभावकों से बात कर उन्हें प्रेरित करेंगे। इस योजना के तहत - 1ली, 2री एवं 3री कक्षा के बच्चे अपनी अपनी कक्षा के अनुरूप बुनियादी साक्षरता एवं संख्या ज्ञान में दक्ष बनेंगे। वर्ष 2026-27 तक 3री कक्षा तक के सभी बच्चों को अपनी-अपनी कक्षा के अनुरूप बुनियादी साक्षरता एवं संख्या ज्ञान में दक्ष बनाने की योजना है। इसके लिए स्कूलों का शैक्षिक परिवेश बेहतर बनेगा। इस योजना के कार्यान्वयन में मातृ-समूह, विद्यालय शिक्षा समिति एवं टोला स्वयंसेवक विद्यालय वालंटियर की भूमिका में होंगे।

यह भी पढ़ें - मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षकों की तमन्ना पूरी कर दी बरसों से था इसका इंतजार

स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति की निगरानी होगी। शतप्रतिशत बच्चों की उपस्थिति के लिए माताओं एवं समुदाय को प्रेरित किया जायेगा घरों में भी बच्चों के सीखने का माहौल बने, इसके लिए माता-पिता जागरूक किये जायेंगे । पढ़ने-लिखने के कौशल में सुधार हेतु बच्चों के लिए प्रश्नोत्तरी, भाषण और वाद-विवाद प्रतियोगिताएं जैसी कार्यशालाएं होंगी। सप्ताह की सर्वश्रेष्ठ हाइलाइट्स या गतिविधियां प्रदर्शित किये जायेंगे। पुस्तकालयों की स्थापना, मध्याह्न भोजन प्रक्रिया में सुधार और स्कूलों में स्वच्छता अभियान चलाने के लिए समुदाय को प्रेरित किया जायेगा बच्चों के साथ-साथ पढ़ने और अंकगणित की गतिविधियों को शामिल करने के लिए मोहल्ला कक्षाओं का आयोजन होगा

यह भी पढ़ें - मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षकों की तमन्ना पूरी कर दी बरसों से था इसका इंतजार

शिक्षा मंत्री लाख लोगों को नौकरी एवं 10 लाख

• शिक्षा मंत्री के हाथों 20 शिक्षकों को मिला राजकीय पुरस्कार

• नालंदा, पटना व पश्चिम चंपारण के

• 22वें कॉमनवेल्थ में सिल्वर प्राप्त करने वाले शिक्षक का हुआ सम्मान
योजना के तहत सर्वाधिक बहाली शिक्षा विभाग में होगी।

शिक्षा मंत्री प्रो. चन्द्रशेखर सोमवार को यहां श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में आयोजित शिक्षक दिवस समारोह में 20 शिक्षकों को राजकीय शिक्षक पुरस्कार से पुरस्कृत करने के बाद समारोह को संबोधित कर रहे थे। गुरु वंदना गाकर गुरुजनों एवं बिहार की धरती को नमन करते हुए शिक्षा मंत्री प्रो. चन्द्रशेखर ने राज्यवासियों का आह्वान किया कि बच्चों को पढ़ाने के लिए एक शाम का पेट काटना पड़े, शिक्षकों का आह्वान किया कि अपनी प्रतिबद्धता में कमी नहीं आने दें। अपने दायित्व को समझें। बच्चों को सर्वपल्ली डॉ. राधाकृष्णन के व्यक्तित्व एवं कृतित्व के बारे में बता कर उन्हें प्रेरित करें कि किस तरह उन्होंने संसाधनों एवं पैसे की कमी के बावजूद हार नहीं मानी। उनके पिता उन्हें मंदिर में पुजारी बनाना चाहते थे, लेकिन वे राष्ट्रपति की कुर्सी पर पहुंच गये, जबकि वे न तो राजनीति में रहे और न ही कांग्रेस के सदस्य ही थे

यह भी पढ़ें - वर्ष 2003 से अब तक लाखों को नियोजित शिक्षकों को प्रधान शिक्षक बनने के लिए ऐसे करने होंगे बदल गए नियम शिक्षा मंत्री का आया आदेश

स्कूली शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए जिन 20 शिक्षकों को राजकीय शिक्षक पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया, उनमें रामगढ़ (कैमूर) के अनिल कुमार सिंह, माधोपट्टी (दरभंगा) के रवि रौशन कुमार, बरदाहा (अररिया) के अजय कुमार, न्यू गंगासागर (दरभंगा) के चंद्रमोहन पोद्दार, कुटुम्बा (औरंगाबाद) के सुमन्त कुमार, मधुबनी की डॉ. मीनाक्षी कुमारी, अररिया के युगेश झा, सिलौटा (कैमूर) के धीरज कुमार, बंभई (अरवल) के डॉ. ज्योति कुमार, मानपुर (गया) के विवेक कुमार, सरायरंजन (समस्तीपुर ) के अखिलेश ठाकुर, चोरौत (सीतामढ़) के शशिकांत कर्ण, पठखौली (पश्चिम चंपारण) की सुश्री रहमत यास्मीन, वारसलीगंज (नवादा) की श्रीमती श्वेता सिन्हा, कुमारबाग (पश्चिम चंपारण) की सुश्री मेरी आडलिन, परसौनी (सीतामढ़ी) की श्रीमती नुसरत जहां, पचरूखी (सिवान) की डॉ. शोभा कुमारी, कुल्हरिया (बांका) की श्रीमती सुरभि रानी एवं डुमरिया (किशनगंज) की श्रीमती जूही कुमारी शामिल हैं। उन्हें प्रशस्ति पत्र, मोमेंटो, अंगवस्त्र एवं पंद्रह हजार रुपये के चेक दिये गये। इसके साथ ही शिक्षक कल्याण कोष में सर्वाधिक राशि से योगदान करने वाले तीन जिलों के जिला शिक्षा पदाधिकारी सम्मानित किये गये। इनमें नालंदा के जिला शिक्षा पदाधिकारी केशव प्रसाद, पटना के जिला शिक्षा पदाधिकारी अमित कुमार एवं पश्चिम चंपारण के जिला शिक्षा पदाधिकारी रजनीकान्त प्रवीण शिक्षकों और बच्चों की उपस्थिति की जांच विद्यालय शिक्षा समिति करेगी। राज्य स्तर पर बिहार शिक्षा परियोजना परिषद तथा राज्य शिक्षा शोध एवं प्रशिक्षण परिषद राज्य, जिला एवं प्रखंड स्तर पर बुनियादी साक्षरता एवं संख्या ज्ञान के उद्येश्यों एवं लक्ष्यों को प्राप्त करना सुनिश्चित करेंगे।

यह भी पढ़ें - नियोजित शिक्षकों को एक साथ दो-दो खुशखबरी अब बिना परीक्षा के होगा पदोन्नति शिक्षा विभाग के अधिकारी ने जारी किया पत्र

टीईटी-एसटीईटी शिक्षकों ने मनाया स्मरण दिवस

पटना। टीईटी-एसटीईटी शिक्षकों ने सोमवार को शिक्षक दिवस को स्मरण दिवस के रूप में मनाया ।

शिक्षक दिवस को स्मरण दिवस के रूप में मनाने का आह्वान टीईटी एसटीईटी शिक्षक संघ (गोपगुट) ने किया था। संगठन के प्रदेश अध्यक्ष मार्कण्डेय पाठक एवं प्रवक्ता अश्विनी पाण्डेय ने बताया कि शिक्षकों ने स्मरण दिवस मनाते हुए नवगठित सरकार को वायदे के अनुरूप सभी स्थानीय निकायों के शिक्षकों को समान काम के बदले समान वेतन की मांग का स्मरण कराया। संगठन ने समान समान वेतन सहित अन्य मांगों पर उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव की चुप्पी पर नाराजगी जतायी है । इस मुद्दे पर 11 सितंबर को संगठन ने राज्य कार्यकारिणी की बैठक बुलायी है नवनियुक्त माध्यमिक उच्च माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. गणेश शंकर पाण्डेय ने कहा है कि शिक्षा विभाग में होगी सर्वाधिक बहालीमिल हैं।

साथ ही बरमिंघम (इंग्लैंड) में 22वें कॉमनवेल्थ प्रतियोगिता में लॉन बॉल्स प्रतियोगिता में सिल्वर मेडल प्राप्त करने वाले हवेली खड़गपुर (मुंगेर) के मध्य विद्यालय, समदा हथियां के शिक्षक चंदन कुमार सिंह को सम्मानित किया गया। पेटेंट प्राप्त करने वाले 'किलकारी' के तीन बच्चों अभीजीत कुमार, अर्पित कुमार एवं अक्षत आदर्श भी सम्मानित हुए।प्रारंभ में प्राथमिक शिक्षा निदेशक रवि प्रकाश ने आयोजन के औचित्य की चर्चा की। क्षेत्रीय शिक्षा उपनिदेशक सुनयना कुमारी ने धन्यवाद ज्ञापन किया । इस अवसर पर शिक्षा विभाग के सचिव असंगबा चुबा आओ, विशेष सचिव


Buy Amazon Product