बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने किया ऐलान कहां चुनाव के बाद हो जाएंगे शिक्षकों के बरसों का इंतजार खत्म।

शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने किया ऐलान कहां चुनाव के बाद हो जाएंगे शिक्षकों के बरसों का इंतजार खत्म।

टीएनबी कॉलेज में रविवार को आयोजित पूर्ववर्ती छात्र सम्मेलन में भागीदारी के लिए बिहार के शिक्षामंत्री विजय कुमार चौधरी शनिवार को भागलपुर पहुंचे. शिक्षामंत्री ने सर्किट हाउस में मीडिया को बताया कि राज्य के हाई व इंटर स्कूलों में एसटीइटी पास अभ्यर्थियों की बहाली और नियोजित शिक्षकों के स्थानांतरण पंचायत चुनाव के बाद शुरू होगी। एसटीइटी अभ्यर्थी बहाली को लेकर दिव्यांग उम्मीदवारों से संबंधित मामला हाईकोर्ट चला गया था, इस कारण नियुक्ति में विलंब हो गया. शिक्षामंत्री ने कहा कि प्राथमिक व मध्य विद्यालय में 90 हजार प्रारंभिक शिक्षकों के नियोजन की प्रक्रिया जारी है. अबतक 50 हजार प्रारंभिक शिक्षकों की नियुक्ति हो चुकी है. उन्होंने बताया कि वर्तमान समय में लोग जारी प्रारंभिक शिक्षक नियोजन में जहां से शिकायत मिली, वहां पर नियोजन को निरस्त कर दोषियों पर कार्रवाई की जा रही है।

यह भी पढ़ें - बिहार के इन स्कूलों में डेढ़ साल बाद रौनक दो अक्टूबर से खुलेंगे शिक्षक हो जाएं तैयार।

मंत्री ने बताया कि अबतक प्राथमिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापक का पद ही नहीं थे. वरीय शिक्षक को प्रभार दिया जाता था. इससे स्कूल संचालन में काफी परेशानी होती थी. अब बीपीएससी के माध्यम से प्राथमिक स्कूलों में 40500 प्रधानाध्यापक की नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू हो गयी है. उन्होंने कहा कि निगरानी विभाग की ओर से 2015 से चल रहे फर्जी शिक्षकों की जांच अब अंतिम चरण में है, इसके बाद कार्रवाई की प्रक्रिया और तेज होगी. विश्वविद्यालय में शिक्षकों की कमी पूरी करेंगे : शिक्षामंत्री ने बताया कि स्कूलों के साथ साथ विश्वविद्यालयों में शिक्षकों की कमी दूर करने के सभी प्रयास जारी है. इस समय बिहार राज्य विश्वविद्यालय सेवा आयोग की तरफ से 4625 शिक्षकों की बहाली जारी है. इसकी समीक्षा के बाद फिर से बहाली करने का प्रयास करेंगे।

यह भी पढ़ें - बिहार के इन स्कूलों में डेढ़ साल बाद रौनक दो अक्टूबर से खुलेंगे शिक्षक हो जाएं तैयार।

स्कूल में अनुसूचित जाति के बच्चों के अलग रखे जा रहे थे बर्तन, प्रधानाध्यापक निलंबित। 
बेवर (मैनपुरी)। विकास खंड बेवर के प्राथमिक विद्यालय दौदापुर में छात्रों के साथ जातिगत भेदभाव किया जा रहा था। यहां अनुसूचित जाति के बच्चों के बर्तन अलग रखे जा रहे थे। गांव की प्रधान के पति की शिकायत पर सीडीओ ने स्कूल पहुंचकर पूरे मामले की जानकारी ली। उन्होंने दोनों रसोइयों को बर्खास्त करते हुए प्रधानाध्यापिका को उनके कर्तव्य में लापरवाही पर निलंबित कर दिया। बीएसए ने प्रधानाध्यापिका को एमडीएम की खराब गुणवत्ता पर फटकार लगाते हुए कार्य में सुधार लाने के निर्देश दिए। वहीं इस मामले का शुक्रवार को वीडियो भी वायरल हुआ। परिषदीय विद्यालय दौदापुर में अनुसूचित जाति के बच्चों के साथ भेदभाव किया जा रहा था। अनुसूचित जाति के बच्चों के बर्तन जहां उनके पास कक्षाओं में रखे जाते थे। 

यह भी पढ़ें - राज्य की कर्मचारियों के साथ बिहार के साढे चार लाख नियोजित शिक्षकों की बल्ले-बल्ले 2 महीने एरियर के साथ वेतन का होगा भुगतान

वहीं अन्य जाति के बच्चों के बर्तन रसोई में रखे जा रहे थे। दो दिन पहले गांव की प्रधान मंजूदेवी के पति सहाब सिंह स्कूल पहुंचे तो यहां उनसे अनुसूचित जाति के बच्चों के बर्तन अलग रखने की शिकायत की गई। तब उन्होंने ऐसा न करने की चेतावनी रसोइया को दी थी। फिर भी सुधार न होने पर उन्होंने बीएसए से शिकायत की। वहीं शुक्रवार को इस मामले का वीडियो भी वायरल हो गया। इसके बाद प्रशासन हरकत में आया। शुक्रवार को सीडीओ विनोद कुमार, बीएसए कमल सिंह और परियोजना निदेशक केके सिंह प्राथमिक विद्यालय दौदापुर पहुंचे। यहां जांच के बाद शिकायत को सही पाया। सीडीओ के सामने ही रसोइयों ने अनुसूचित जाति के छात्र-छात्राओं के बर्तन छूने से इनकार कर दिया। सीडीओ ने प्रधानाध्यापिका गरिमा सिंह राजपूत को कर्तव्य में लापरवाही पर निलंबित कर दिया। वहीं रसोइया लक्ष्मीदेवी व सोनवती को सेवा से बर्खास्त कर दिया। 


Buy Amazon Product