बड़ी खबरें

 राज्य के नियोजित शिक्षकों को वरीयता को लेकर शिक्षा मंत्री मुख्यमंत्री अपर मुख्य सचिव का संयुक्त बयान जारी राज्य के नियोजित शिक्षकों को वरीयता को लेकर शिक्षा मंत्री मुख्यमंत्री अपर मुख्य सचिव का संयुक्त बयान जारी सुबे के लाखों शिक्षकों को मिलेगी बड़ी राहत शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह को मिलीसुबे के लाखों शिक्षकों को मिलेगी बड़ी राहत शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह को मिली शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं

डेढ वर्षों के बाद भी 3.5 लाख नियोजित शिक्षकों को नहीं मिला 15% बढ़ा हुआ वेतन।

डेढ वर्षों के बाद भी 3.5 लाख नियोजित शिक्षकों को नहीं मिला 15% बढ़ा हुआ वेतन।

12 हजार के डाटा पर अब तक नहीं हुआ डिजिटल सिग्नेचर।
मुजफ्फरपुर। शिक्षा विभाग की घोषणा के 10 महीने बीतने के बाद भी जिले के 14 हजार शिक्षकों को वेतन वृद्धि का लाभ नहीं मिला है। इसे लेकर जिला प्राथमिक शिक्षक संघ ने मोर्चा खोल दिया है। संघ ने सीएम और शिक्षा मंत्री को अनुरोध पत्र भेजा है। इसमें उन्होंने 15 फीसदी बढ़ोतरी के साथ शिक्षकों को जल्द लाभ दिए जाने की मांग की है। अगर ऐसा नहीं होता है तो शिक्षक आंदोलन करेंगे। संघ ने कहा है कि पिछले दिनों शिक्षकों के राज्यव्यापी हड़ताल के दौरान हुए समझौते के तहत राज्य सरकार की ओर से शिक्षकों को एक अप्रैल 2021 से 15 फीसदी वेतनवृद्धि का लाभ मिलना था। बावजूद इसके जिले के शिक्षक इसका इंतजार कर रहे हैं।

शिक्षक संघ के संगठन सचिव पवन कुमार प्रतापी ने कहा, शिक्षा विभाग की ओर से एनआईसी के ऑनलाइन कैलकुलेटर सॉफ्टवेयर पर जिले के 14 हजार शिक्षकों का डाटा अपलोड किया गया है। शिक्षा विभाग की ओर से 2 हजार शिक्षकों के डाटा को डिजिटल सिग्नेचर के लिए स्वीकृति प्रदान की है। इसके लिए आखिरी समय सीमा 27 जनवरी निर्धारित की गई थी, लेकिन अब तक 12 हजार शिक्षकों का डाटा पर डिजिटल सिग्नेचर नहीं होना विभागीय उदासीनता को दर्शाता है।

डीपीओ स्थापना बोले- कम से कम 15 दिनों का अभी और लगेगा समय।
डीपीओ स्थापना जमालुद्दीन ने कहा कि शिक्षकों का डाटा अपलोड करने में मुजफ्फरपुर नंबर वन था। पर, डाटा में कई सुधार की जरूरत थी। पूर्व में विसंगति के कारण कई शिक्षक अपने निर्धारित वेतनमान से अधिक वेतन ले रहे थे। उसमें सुधार किया गया। सभी बीईओ को निर्देश है कि शिक्षकों के अपलोड डाटा का सत्यापन और समीक्षा कर प्रमाण पत्र स्थापना कार्यालय में जमा कराएं। इसमें जिला टीम भी कार्य कर रही है। डीपीओ ने बताया कि यह वित्तीय भुगतान का मामला है। एक-एक बिंदु को देखा जा रहा। जल्दीबाजी नहीं की जा सकती है। कम से कम 15 दिन और लगेंगे। जनवरी का वेतन पुराने स्केल के तहत भुगतान किए जाने का आदेश दिया जा चुका है।


Buy Amazon Product