बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

आखिरकार चय. 632 शिक्षकों की सर्टिफिकेट निकल गई फर्जी अब शिक्षक पर एफ आई आर दर्ज हो सकती है।

आखिरकार  चय. 632 शिक्षकों की सर्टिफिकेट निकल गई फर्जी अब शिक्षक पर एफ आई आर दर्ज हो सकती है।

जिन चयनित अभ्यर्थियों के प्रमाण पत्र फर्जी मिल रहे हैं, उनके विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई जा रही है। यदि जांच में संबंधित नियोजन इकाई दोषी पाई गई तो उस पर भी केस दर्ज कराने के साथ उचित कार्रवाई होगी। संजय कुमार, अपर मुख्य सचिव, शिक्षा विभाग।

राज्य में चल रही 94 हजार प्रारंभिक शिक्षकों की नियोजन प्रक्रिया के दौरान जांच में फर्जी प्रमाण पत्र पकड़े जा रहे हैं। जिन चयनित शिक्षक अभ्यर्थियों के प्रमाण पत्र फर्जी निकले हैं उन पर सरकार एक्शन में है। शिक्षा विभाग के पोर्टल पर नियोजन इकाइयों द्वारा तकरी 49, 348 चयनित अभ्यर्थियों के प्रमाण पत्र अपलोड किए गए हैं जिनकी जांच चल रही है। अब तक 632 प्रमाण पत्र फर्जी पाए गए हैं। 

यह भी पढ़ें - शिक्षकों के लिए खुशखबरी विभिन्न परियोजना के साथ वेतन मद के लिए 7700 करोड़ की मिली मंजूरी।

इस मामले में संबंधित अभ्यर्थियों प्राथमिकी दर्ज कराई गई है ।जिलों से आई रिपोर्ट के मुताबिक सभी 38 जिलों में चयनित अभ्यर्थियों के प्रमाण पत्र पोर्टल पर अपलोड किए जा चुके हैं। इन प्रमाण पत्रों में 64 फीसद की जांच पूरी हो चुकी है। इनमें से नालंदा में 63, बक्सर में 121, सारण में 23, नवादा में 42, बेगूसराय में 19 चयनित अभ्यर्थियों के प्रमाण पत्र पर फर्जी पाए गए हैं। शेष चयनित अभ्यर्थियों के भी मैट्रिक और इंटरमीडिएट के प्रमाण पत्र, अंक पत्र, शिक्षक प्रशिक्षण प्रमाण पत्र, अंक पत्र, 'दक्षता परीक्षा यानी टीईटी उत्तीर्ण प्रमाण पत्र, अनुभव प्रमाण पत्र मेधा सूची प्रमाण पत्र, नियुक्ति प्रमाण पत्र, जातीय प्रमाण पत्र और आवासीय प्रमाण पत्र जैसे दस्तावेजों की जांच कराई जा रही है। ऐसी संभावना है कि जांच में अभी और प्रमाण पत्र फर्जी निकल सकते हैं।

यह भी पढ़ें - पंचायत चुनाव के दौरान सरकारी स्कूलों में शिक्षकों के लिए माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने जारी किया निर्देश।

स्मार्टफोन नहीं चला पाने वाले बीएलओ हटाए जाएंगे फैसला। 

मतदाता सूची बनाने में अहम भूमिका निभाने वाले बूथ लेवल अफसर (बीएलओ) अगर स्मार्टफोन चलाना नहीं जानते हैं तो उन्हें हटाया जाएगा। मतदाता सूची समरी रिविजन 2022 को लेकर दिल्ली मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. रणवीर सिंह ने सभी जिला चुनाव अधिकारी के साथ बैठक में यह निर्देश जारी किया है। बैठक में सभी डीएम को उनके इलाके में पड़ने वाले प्रत्येक पोलिंग स्टेशन की छह-छह फोटो चुनाव आयोग के एप पर अपलोड करने का भी निर्देश दिया है। बैठक में रणवीर सिंह ने कहा कि हमें मतदाता सूची में तकनीकी के इस्तेमाल बढ़ाना होगा, जिससे काम में तेजी के साथ पारदर्शिता रख सके। इसके लिए सुनिश्चित करना होगा बीएलओ को तकनीक की जानकारी हो। उन्होंने डीएम को कहा कि वह अपने-अपने जिले में बीएलओ के साथ बैठक करें। उन्हें स्मार्टफोन के प्रयोग करने के लिए प्रोत्साहित करने के साथ सीखने के लिए कहें।


Buy Amazon Product