बड़ी खबरें

बड़ी खबर: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पढ़ाई के साथ कमाई भी होगी: धर्मेंद्र प्रधानबड़ी खबर: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पढ़ाई के साथ कमाई भी होगी: धर्मेंद्र प्रधान दिवाली से पहले कर्मचारियों ब शिक्षकों को मिल सकता है बंपर तोहफा 3 जगह से आएगा पैसा जान ले कैसे?दिवाली से पहले कर्मचारियों ब शिक्षकों को मिल सकता है बंपर तोहफा 3 जगह से आएगा पैसा जान ले कैसे? कैचअप कोर्स से बच्चों और शिक्षकों का 3 ग्रेड में होगा मूल्यांकन जाने विस्तार से उसके बाद शिक्षकों का क्या होने वाला है? कैचअप कोर्स से बच्चों और शिक्षकों का 3 ग्रेड में होगा मूल्यांकन जाने विस्तार से उसके बाद शिक्षकों का क्या होने वाला है? 3.57 लाख शिक्षकों को 15% वेतन वृद्धि का लाभ वित्त विभाग से आने के बाद अब नए साल में मिलने की उम्मीद: अपर मुख्य सचिव3.57 लाख शिक्षकों को 15% वेतन वृद्धि का लाभ वित्त विभाग से आने के बाद अब नए साल में मिलने की उम्मीद: अपर मुख्य सचिव प्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक प्रधानाध्यापक पद का जिला भार हुआ आवंटन पत्र हुआ जारी।:प्राथमिक शिक्षा निर्देशकप्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक प्रधानाध्यापक पद का जिला भार हुआ आवंटन पत्र हुआ जारी।:प्राथमिक शिक्षा निर्देशक शिक्षकों को बरगला रही सरकार 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी स्थानांतरण एवं प्रोन्नति का भी मामला लटका। शिक्षकों को बरगला रही सरकार 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी स्थानांतरण एवं प्रोन्नति का भी मामला लटका।

21 जून से 20 जुलाई तक नियोजित शिक्षकों के लिए प्राथमिक शिक्षा निदेशक ने दे दिया निर्देश कार्य को जरूर कर लें।

21 जून से 20 जुलाई तक नियोजित शिक्षकों के लिए प्राथमिक शिक्षा निदेशक ने दे दिया निर्देश कार्य को जरूर कर लें।

जिले के विभिन्न स्कूलों में बहाल जिन शिक्षकों के शैक्षणिक तथा प्रशासनिक प्रमाण पत्र जांच के लिए निगरानी विभाग के पास जमा नहीं है वैसे शिक्षक अब खुद व्यवसायिक पर अपना प्रमाण पत्र अपलोड करेंगे इस प्रमाण पत्र को निगरानी विभाग की टीम शिक्षा विभाग के साथ मिलकर वेबसाइट से ही प्राप्त कर लेगी और उसकी जांच कराएगी ताकि यह पता चल सके कि कितने शिक्षक फर्जी प्रमाणपत्रों के आधार पर बहाल है।

नई शिक्षा नीति क्रांतिकारी परिवर्तन लेकर आएगी : डॉ रंजीत कुमार सिंह

जिन शिक्षकों का प्रमाण पत्र फर्जी पाया जाएगा उन पर विभागीय कार्रवाई या नहीं सेवा समाप्त करने के साथ ही आवश्यक कानूनी कार्रवाई भी होगी जबकि निर्धारित अवधि के दौरान जो शिक्षक प्रमाण पत्र अपलोड नहीं करेंगे वैसे शिक्षकों की भी सेवा समाप्त की जाएगी। प्राथमिक शिक्षा निदेशक डॉ रंजीत कुमार ने ऐसे शिक्षकों को 21 जून से 20 जुलाई तक शैक्षणिक प्रमाण पत्र पर शैक्षणिक प्रमाण पत्र अंकपत्र आवासीय प्रमाण पत्र तथा मेधा सूची अपलोड करने का निर्देश दिया है। किस शिक्षक को प्रमाण पत्र अपलोड करना है इसकी सूची 21 जून को व्यवसायिक पर ही जारी होगी।

इसके बाद शिक्षकों को पता चल सकेगा कि इस सूची के अनुसार किसे प्रमाण पत्र अपलोड करना है। 21 जून 2021 से आप इस लिंक से देख पाएंगे कि आपका भी नाम कहीं राज्यभर के उन 88 हजार शिक्षकों में तो नहीं है। प्राथमिक शिक्षा निदेशक के अनुसार मैट्रिक अंक पत्र एवम प्रमाण पत्र, इंटर अंक पत्र एवं प्रमाण पत्र, स्नातक अंक पत्र एवं प्रमाण पत्र, शिक्षक प्रशिक्षण अंक पत्र एवं प्रमाण पत्र, दक्षता अथवा टीईटी उत्तीर्णता प्रमाण पत्र, अनुभव प्रमाण पत्र (20 प्रतिशत वेटेज हेतु), मेधा सूची नियुक्ति पत्र, जाती प्रमाण पत्र तथा आवासीय प्रमाण पत्र शामिल है। इन सभी कागजी का स्कैन कॉपी अपलोड करना है।

शैक्षणिक प्रमाणपत्रों की हो रही जांच

शिक्षा विभाग ने जारी कर दिया है लिंक

प्रमाण पत्र अपलोड करने के लिए लिंक बनाया गया है शिक्षकों को इसी लिंक पर जानकारी लेकर प्रमाण पत्र को अपलोड करना है। http://state.bihar.gov.in/ educationbihar/ citizen Home.html, http://appsonline.bih.nic.in/, https://t.me/BiharTeachers इस लिंक के माध्यम से जिलावार अपलोड किये गये शिक्षकों के नामों को देखा जा सकता है। पोर्टल पर नाम देख कर सूची में शामिल शिक्षक उपलब्ध लिंक के माध्यम से अपना रजिस्ट्रेशन करेंगे। रजिस्ट्रेशन के बाद प्राप्त यूजर आइडी और पासवर्ड से लॉक इन कर पोर्टल में उपलब्ध प्रपत्र में आवश्यक जानकारी भरेंगे।

निगरानी विभाग की टीम कर रही जांच
फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर शिक्षक बनने के मामले की जांच हाईकोर्ट के आधार पर निगरानी विभाग की टीम कर रही है। यह जांच वर्ष 2015 से ही हो रही है लेकिन अभी तक बहुतेरे शिक्षकों का प्रमाण पत्र निगरानी विभाग को उपलब्ध नहीं हो सका है जबकि नियोजन के समय ही प्रमाण पत्र निगरा नियोजन इकाइयों के पास जमा कर दिया जाता है। कई नियोजन इकाइयों द्वारा शिक्षकों के प्रमाण पत्र उपलब्ध नहीं कराया गया है।

मेघा सूची मांगे जाने पर शिक्षकों ने जताई आपत्ति
जिस शिक्षकों के प्रमाण पत्र के साथ ही मेधा सूची मांगे जाने पर शिक्षकों ने आपत्ति जताई है। कारण कि मेधा सूची शिक्षकों के पास नहीं रहता है मेधा सूची नियोजन इकाइयों के पास ही रहता है। इस स्थिति में शिक्षकों को मेधा सूची लाना मुश्किल होगा। बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ सचिव राजीव रंजन तिवारी ने कहा कि मेधा सूची नियोक्ता के पास रहता है न कि नियुक्त होने वाले के पास इसलिए इस नियमावली में छूट देने की जरूरत है।


Buy Amazon Product