बड़ी खबरें

78 हजार केंद्रीय राज्य कर्मियों को 188 करोड़ से ज्यादा दिवाली बोनस के रूप में बड़ी धनराशि मिलेगी।78 हजार केंद्रीय राज्य कर्मियों को 188 करोड़ से ज्यादा दिवाली बोनस के रूप में बड़ी धनराशि मिलेगी। राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दियाराज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दिया बेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहरबेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर सरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धिसरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धि हो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबितहो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबित 2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी

नियोजित शिक्षकों के लिए खुशखबरी इसी माह में 15% बढ़े हुए वेतन एवं एरियर के साथ 75,000 से 1,50,000 तक का होगा भुगतान

नियोजित शिक्षकों के लिए खुशखबरी इसी माह में 15% बढ़े हुए वेतन एवं एरियर के साथ 75,000 से 1,50,000 तक का होगा भुगतान

जनवरी में शिक्षकों को मिलेगा बढ़ा हुआ वेतन प्रदेश के शिक्षकों और पुस्तकालयाध्यक्षों को 15 प्रतिशत की वृद्धि के साथ जनवरी में वेतन भुगतान होगा। वित्त विभाग की सहमति मिलने के बाद शिक्षा विभाग साफ्टवेयर के माध्यम से वेतन निर्धारण एवं भुगतान की प्रक्रिया को अंतिम रूप देने में जुटा है। इस कार्य के लिए शिक्षा विभाग एनआइसी की मदद की है और आनलाइन कैलकुलेटर तैयार कराया है। प्राथमिक शिक्षा निदेशालय की ओर से यह जानकारी दी गई। शिक्षा विभाग के मुताबिक इस माह के अंत तक नियोजित शिक्षकों एवं पुस्तकालयाध्यक्षों के वेतन का निर्धारण होगा। बकाया वेतन एरियर एवं वेतन का भुगतान 75,000 से 1,50,000 तक हो सकेगा।

यह भी पढ़ें - शिक्षा विभाग ने प्राथमिक मध्य माध्यमिक विद्यालय के लिए जारी किया दिशा निर्देश 20 बिंदुओं के अनुसार विद्यालयों का होगा संचालन।

• जिले के ढाई सौ स्कूलों को मिला निर्देश

• आकांक्षी जिले के तहत कराई जा रही है यह तैयारी

सरकारी स्कूलों में 10वीं-11वीं में पढ़ने वाले मेधावी बच्चों को मेडिकल और इंजीनियरिंग की मुफ्त कोचिंग सुविधा दी जाएगी, जहां ये इन दोनों प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर सकेंगे। जिले के सरकारी हाई स्कूल, प्लस टू स्कूल के बच्चों का इसके लिए चयन किया जाएगा। लगभग 2000 बच्चों का चयन इसके तहत किया जाना है। नीति आयोग की आकांक्षी जिला कार्यक्रम योजना के तहत यह पहल की गई है। इसे लेकर डीपीओ सर्वशिक्षा अभियान अमरेंदर पांडे ने सभी सरकारी हाई स्कूल प्लस टू स्कूल के प्रधानाध्यापक को निर्देश किया है। इसके तहत सरकारी स्कूलों में कक्षा 10वीं और 11वीं में पढ़ने वाले मेधावी छात्र छात्राओं का चयन करना है, जिन्हें निःशुल्क कोचिंग की सुविधा दी जा सके।

यह भी पढ़ें - नियोजित शिक्षकों के बरसो का इंतजार खत्म कैलकुलेटर हुआ तैयार 15% वेतन वृद्धि का होगा भुगतान।

पिछली कक्षाओं के रिकॉर्ड के आधार पर होगा चयन: मेधावी छात्र-छात्राओं का चयन उनकी पिछली कक्षाओं के रिकॉर्ड के आधार पर किया जाना है। डीपीओ ने बताया कि इसके तहत कक्षा 10 एवं 11वीं के वैसे मेधावी छात्रों का चयन किया जाएगा, जिनकी कक्षा 8, 9, 10 एवं 11 की वार्षिक परीक्षा में सर्वोत्तम उपलब्धि रही है। इसके साथ ही छात्र-छात्राओं की उम्र 15 साल से कम तथा 23 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए। जिन बच्चों को नीट की कोचिंग कराई जाएगी, उनका स्कूल विषय निश्चित रूप से फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायो होना चाहिए। जेईई कोचिंग के लिए छात्र-छात्राओं का स्कूली विषय फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ होना आवश्यक है। सभी सरकारी स्कूल नीट कोचिंग के लिए एक छात्र और एक छात्रा तथा जेईई कोचिंग के लिए एक छात्र और छात्रा का चयन करके विभाग की ओर से दिए गए फॉर्मेट में सूची उपलब्ध कराएंगे। एक सप्ताह के भीतर यह सूची उपलब्ध करा देनी है।

यह भी पढ़ें - शिक्षा परियोजना परिषद ने प्राथमिक से लेकर माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों के लिए जारी किया निर्देश पत्र हुआ जारी।

यह कोचिंग बायजू और आकाश की ओर से बच्चों को दी जाएगी।

इस निर्धारित फॉर्मेट में देनी है बच्चों की सूची

डीपीओ ने बताया कि जो फॉर्मेट दिया गया है, उसके तहत बच्चों का नाम, अभिभावक का नाम, ईमेल आईडी, जन्मतिथि, क्लास, संकाय, जिला, राज्य, फोन नंबर और स्कूल का नाम आवश्यक तौर पर देना है। सभी स्कूल प्राचार्य को इस संबंध में निर्देश दिया गया है कि वह निर्धारित तिथि के अंदर बच्चों की सूची उपलब्ध करा दें।


Buy Amazon Product