बड़ी खबरें

राज्य के प्रारंभिक शिक्षकों के वेतन के लिए 914 करोड़ रुपए हो गए जारी नए वेतन में अब कितना बढ़कर मिलेगा जान ले।राज्य के प्रारंभिक शिक्षकों के वेतन के लिए 914 करोड़ रुपए हो गए जारी नए वेतन में अब कितना बढ़कर मिलेगा जान ले। नई नीति के तहत स्कूली पाठ्यक्रम को नए ढांचे में गढ़ने की तैयारी शिक्षकों को ऐसा करना होगा? नई नीति के तहत स्कूली पाठ्यक्रम को नए ढांचे में गढ़ने की तैयारी शिक्षकों को ऐसा करना होगा?  पप्पू यादव की ‘दहाड़’, कहा- नित्यानंद राय और तेजस्वी को चुल्लू भर पानी में डूब मर जाना चाहिए, जानें पूरा मामला पप्पू यादव की ‘दहाड़’, कहा- नित्यानंद राय और तेजस्वी को चुल्लू भर पानी में डूब मर जाना चाहिए, जानें पूरा मामला शिक्षकों के ग्रेड पे में हुआ बड़ा बदलाव, नियोजित शिक्षक फिर किए दक्षता परीक्षा की मांग।शिक्षकों के ग्रेड पे में हुआ बड़ा बदलाव, नियोजित शिक्षक फिर किए दक्षता परीक्षा की मांग।  महागठबंधन में दरार, कांग्रेस से पीछा छुड़ाने की फिराक में राजद! महागठबंधन में दरार, कांग्रेस से पीछा छुड़ाने की फिराक में राजद! प्रशिक्षित नियोजित शिक्षकों के लिए शिक्षा विभाग के प्राथमिक शिक्षा निदेशक ने वेतन निर्धारण को लेकर जारी किया निर्देश पत्र हुआ जारी।प्रशिक्षित नियोजित शिक्षकों के लिए शिक्षा विभाग के प्राथमिक शिक्षा निदेशक ने वेतन निर्धारण को लेकर जारी किया निर्देश पत्र हुआ जारी।

गोरखपुर के युवा वैज्ञानिक ने बनाया बैटरी से चलने वाला इको फ्रेंडली ट्रैक्टर, 3 घंटे में जोतता है एक एकड़ खेत

गोरखपुर के युवा वैज्ञानिक ने बनाया बैटरी से चलने वाला इको फ्रेंडली ट्रैक्टर, 3 घंटे में जोतता है एक एकड़ खेत

हर इंसान को कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो कुछ भी नामुमकिन नहीं होता है। उत्तर प्रदेश में महाराजगंज के युवा वैज्ञानिक राहुल सिंह ने इसे सच कर दिखाया है। राहुल ने इसी साल अक्टूबर माह में बैटरी से चलने वाली साइकिल बनाकर लोगों का ध्‍यान खींचा था। वहीं अब बैटरी से चलने वाले राहुल के ट्रैक्‍टर ने इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल में पहला स्‍थान हासिल किया है। तीन घंटे में एक एकड़ खेत जोतने वाला ये ट्रैक्‍टर स्वतः चार्ज होने के साथ पूरी तरह से ईको-फ्रैंडली भी है।

रिसर्च व पढ़ाई दोनों कर रहे राहुल, मिला युवा वैज्ञानिक का तमगा


महराजगंज जिले के सिसवा बाजार के बीजापार आसमान छपरा गांव के रहने वाले 16 वर्षीय राहुल सिंह गोरखपुर के एबीसी पब्लिक स्‍कूल दिव्‍यनगर में 12वीं के छात्र हैं। वे मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्‍वविद्यालय के डिजाइन इनोवटर एंड इंक्‍यूशन सेंटर में इनोवेटर हैं। यहां पर रिसर्च और पढ़ाई करते हैं। राहुल तीन साल से लगातार इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल में पहला स्‍थान हासिल कर रहे हैं। साल 2018 में रोटी मेकर, 2019 में बैटरी से चलने वाली इको-फ्रैंडली साइकिल और 2020 में कोरोना संकट काल में ऑनलाइन हुए इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल में उन्‍होंने बैटरी चालित ट्रैक्‍टर बनाकर उन्‍होंने पहला स्‍थान हासिल किया है।

सीबीएसई बोर्ड परीक्षा 2021 में 31 दिसंबर को जारी होगी 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने सोशल मीडिया पर दी जानकारी |

70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार, बैटरी चार्ज करने की आवश्यकता नहीं

राहुल बताते हैं कि ये ट्रैक्‍टर पूरी तरह से ईको-फ्रैंडली है। बैटरी से चलने की वजह से इसमें आवाज नहीं होती है। इसमें ईधन (डीजल-पेट्रोल) का प्रयोग नहीं होने से वायु प्रदूषण से भी ये पूरी तरह से मुक्त है। उन्‍होंने बताया कि 70 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चलने वाले इस ट्रैक्‍टर से 3 घंटे में एक एकड़ खेत की जुताई की जा सकती है। राहुल ने इसकी बैटरी और मोटर भी खुद ही बनाया है। वे बताते हैं कि इसकी बैटरी को चार्ज करने की जरूरत नहीं है। वो ट्रैक्‍टर के चलने के साथ ही स्वतः चार्ज होती रहेगी।

पिता किसान, जुताई में खर्च देखकर बनाने का आया विचार

राहुल के पिता किसान हैं। खेत की जुताई के समय ट्रैक्‍टर और उसमें लगने वाले ईधन के खर्च को देखने के बाद उनके मन में ये विचार आया था कि वे एक ऐसा ट्रैक्‍टर बनाएंगे, जो बैटरी से चले और उसे चार्ज करने का झंझट भी नहीं हो। इसके साथ ही वो पूरी तरह से ईको-फ्रैंडली भी हो। वे बताते हैं कि इसे बनाने में 1.5 लाख रुपए का खर्च आया है। अभी वो इस तैयारी में हैं कि इसे बल्क में तैयार करने पर ये किसानों को 45 से 50 हजार रुपए में ही उपलब्ध हो सके।


Buy Amazon Product