बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

इन सभी प्रारंभिक विद्यालयों के लिए समग्र शिक्षा के तहत शाला सिद्धि कार्यक्रम पोर्टल के लिए जारी कर दिया निर्देश।

इन सभी प्रारंभिक विद्यालयों के लिए समग्र शिक्षा के तहत शाला सिद्धि कार्यक्रम पोर्टल के लिए जारी कर दिया निर्देश।

पटना । अनुकरणीय विद्यालय के रूप में चयनित जिले के सात स्कूल अपना मूल्यांकन खुद करेंगे । चयनित सातों स्कूलों द्वारा स्व मरूल्यांकन नीपा (दिल्ली) द्वारा विकसित ऑनलाइन पोर्टल 'शाला सिद्धि' पर - आंकड़ों की प्रविष्टि कर किया जायेगा | आंकड़ों की इंट्री संबंधित स्कूलों के प्रधान द्वारा की जायेगी। 'शाला सिद्धि' कार्यक्रम समग्र शिक्षा के तहत एक महत्वपूर्ण स्वीकृत गतिविधि है। आंकड़ों की इंट्री को लेकर जिला शिक्षा पदाधिकारी अमित कुमार की अध्यक्षता में 25 सितंबर चयनित सातों स्कूलों के प्राचार्यों की बैठक होनी है। इस बाबत सातों स्कूलों के प्राचार्य को निर्देश दिये गये हैं। जिले के सात चयनित स्कूलों में बांकीपुर राजकीय बालिका उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, शहीद राजेंद्र प्रसाद सिंह राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय (पटना हाई स्कूल ), देवीपद चौधरी स्मारक (मिलर) उच्च माध्यमिक विद्यालय, टी. के. घोष एकेडमी, सर गणेशदत्त उच्च माध्यमिक विद्यालय, श्रीगणेश उच्च माध्यमिक विद्यालय ( बख्तियारपुर) एवं आरएसएम रेलवे एडेड उच्च विद्यालय ( मोकामा घाट ) शामिल हैं।

यह भी पढ़ें - डीईओ-डीपीओ को शिक्षा निदेशक मनोज कुमार ने तीन दिन की मोहलत दी, जान ले पूरी माजरा क्या है?

शैक्षिक योग्यता का अंतर प्रोन्नति के लिए वैध आधार
सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को प्रोन्नति में उचित उम्मीदवार के चयन को लेकर एक बेहद अहम फैसला दिया। शीर्ष अदालत ने कहा, समान श्रेणी के दावेदारों का वर्गीकरण करने के लिए शैक्षिक योग्यता वैध आधार है। ऐसा करने पर संविधान के अनुच्छेद 14 या 16 का उल्लंघन नहीं होता है। शीर्ष अदालत ने कहा कि शैक्षिक योग्यता का उपयोग निश्चित श्रेणी के दावेदारों के लिए प्रोन्नति में आरक्षण व्यवस्था के लिए किया जा सकता है या प्रोन्नति को पूरी तरह एक श्रेणी तक सीमित करने में भी उपयोग हो सकता है। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस विक्रम नाथ और जस्टिस हिमा कोहली की पीठ ने कहा, वर्गीकरण में न्यायिक समीक्षा इस निर्धारण तक सीमित है कि वर्गीकरण उचित है या नहीं और उससे संबंधित है या नहीं, जिसकी मांग की गई थी। 

यह भी पढ़ें - डीईओ-डीपीओ को शिक्षा निदेशक मनोज कुमार ने तीन दिन की मोहलत दी, जान ले पूरी माजरा क्या है?

कोर्ट वर्गीकरण के आधार के गणितीय मूल्यांकन में शामिल नहीं हो सकता। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने कलकत्ता हाईकोर्ट के एक निर्णय को बरकरार रखा है, जिसमें कोलकाता नगर निगम (केएमसी) के 3 जुलाई 2012 के एक सर्कुलर को वैध घोषित किया गया था। इस सर्कुलर में डिप्लोमा और डिग्रीधारक सब असिस्टेंट इंजीनियरों (एसएई) के लिए असिस्टेंट इंजीनियर (एई) पद पर प्रोन्नति की अलग-अलग शर्तें तय की गई थीं। शीर्ष अदालत ने कहा, यह मानते हुए कि केएमसी की अतिरिक्त पदों के लिए प्रोन्नति नीति तर्कहीन या मनमानी नहीं है और न ही इसकी मंशा डिप्लोमा धारक एसएई की हानि के लिए नहीं है। पीठ ने कहा, सार्वजनिक नीति और सार्वजनिक रोजगार के मामलों में, विधायिका या उसके प्रतिनिधि को अलग-अलग पदों पर नियुक्त करने वाले व्यक्तियों की गुणवत्ता तय करने के लिए पर्याप्त मौका देना चाहिए। न्यायालय को तब तक नीति के मामले में हस्तक्षेप से बचना चाहिए, जब तक ये निर्णय मनमाने नहीं होते। 


Buy Amazon Product