बड़ी खबरें

78 हजार केंद्रीय राज्य कर्मियों को 188 करोड़ से ज्यादा दिवाली बोनस के रूप में बड़ी धनराशि मिलेगी।78 हजार केंद्रीय राज्य कर्मियों को 188 करोड़ से ज्यादा दिवाली बोनस के रूप में बड़ी धनराशि मिलेगी। राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दियाराज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दिया बेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहरबेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर सरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धिसरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धि हो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबितहो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबित 2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी

बिहार में NDA का सरकार टूट गया तेजस्वी का बना सरकार नियोजित शिक्षकों को मिलेगा पूर्ण वेतनमान जाने कब और कैसे मिलेगा

बिहार में NDA का सरकार टूट गया तेजस्वी का बना सरकार नियोजित शिक्षकों को मिलेगा पूर्ण वेतनमान जाने कब और कैसे मिलेगा

बिहार में नीतीश की सरकार एनडीए के साथ टूट चुकी है कुछ ही देर में अब आरजेडी यानी तेजस्वी यादव के साथ सरकार बनाएगी जिसके मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ही होंगे तेजस्वी यादव ने चुनाव के दौरान किए वादों के अनुसार अब शिक्षकों को पूर्ण वेतन मान मिल सकती है। 

बिहार में सियासी भूचाल है। नीतीश कुमार भाजपा से गठबंधन तोड़कर तेजस्वी यादव से हाथ में। 

चल पलट। ये पटना में खूब चल रहा है। समझ गए होंगे। किसके लिए है ये। हां, नीतीश कुमार के लिए। पलटूराम कहना तो तेजस्वी यादव ने 22 अप्रैल से ही छोड़ दिया। इसलिए ये मत समझिए कि राष्ट्रीय जनता दल वाले ऐसा कह रहे हैं। वो तो इस बार की पलटी में सत्ता पाने वाले हैं। पिछली बार जब नीतीश कुमार ने पलटी मारी थी तो तेजस्वी सत्ता से बाहर हो गए थे। इसलिए नीतीश कुमार भी पलटूराम हो गए थे। इस बार तो नैचुरल अलायंस पार्टनर भारतीय जनतापार्टी इसका इंतजार कर रही थी- चल पलट। खैर, ये हो भी गया है।

 नीतीश कुमार ने भाजपा-जदयू गठबंधन तोड़ने का ऐलान कर दिया है।पर नीतीश पलट क्यों रहे हैं, इस पर भी बहुत बात हो चुकी है। जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) को तोड़ने की कथित साजिश सबसे बड़ा कारण बताया जा रहा है। इसी का हिस्सा है टेप। हर कोई चर्चा कर रहा है। जेडीयू वाले भी और बीजेपी वाले भी। टेप में कुछ ऐसी रिकॉर्डिंग की चर्चा है जिसमें जेडीयू को तोड़ने की साजिश का पर्दाफाश हो सकता है। नीतीश कुमार कैबिनेट में जेडीयू और बीजेपी दोनों कोटे से एक-एस वरिष्ठ मंत्री ने एनबीटी को बताया - हां, ऐसा कुछ है।

यह भी पढ़ें - प्राथमिक शिक्षा निदेशालय ने सरकारी स्कूलो के लिए जारी किया था पत्र प्रत्येक माह के तीसरे शनिवार को रहेंगे अवकाश शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर

भाजपा कोटे वाले मंत्री ने तो कुछ नाम भी बताए। पर वो खुद उस ऑडियो टेप को सुन नहीं पाए थे। इसलिए चर्चा के आधार पर नाम सार्वजनिक करना ठीक नहीं है। उन्होंने कहा, हां, सुन रहे हैं फलां फलां आरसीपी से बात कर रहे थे। वही कोई रिकॉर्डिंग है। अब ये सब कैसे हो गया, पता नहीं। उन्होंने स्पष्ट बताया कि नीतीश कुमार की खुन्नस इसी बात को लेकर सबसे ज्यादा है।

 मतलब फोन टेप से एक और सरकार गिरनी तय है। भले नए सरकार का मुखिया नीतीश कुमार ही रहें। पहली सरकार तो रामकृष्ण हेगड़े की गिरी थी। कर्नाटक में। साल 1988 था। तब हेगड़े जनता पार्टी के एक धड़े और वीपी सिंह के जन मोर्चा के साथ जनता दल बनाए थे। उधर एचडी देवगौड़ा और अजित सिंह जनता पार्टी में ही रहे। इसी बीच देवगौड़ा और अजित सिंह की बातचीत टेप हो गई।

नीतीश का फोन भी टेप हुआ

संसद में संचार मंत्री बीर बहादुर सिंह ने सबूत के साथ बता दिया कि 50 नेताओं के फोन टेप हो रहे थे। बकायदा का डीआईजी इंटेलिजेंस के आदेश की चिट्ठी पटल पर रख दी गई। साफ हो गया कि पार्टी के भीतर और बाहर हेगड़े सरकार फोन टेप करवा रही थी। उन्हें इस्तीफा देना पड़ा। अब तो मोबाइल का जमाना है। 

यह भी पढ़ें - शिक्षकों के वेतन भुगतान से पहले अब होगी हाजिरी की जांच शिक्षा विभाग ने जारी कर दिया निर्देश शिक्षकों में वेतन को लेकर मची खलबली।

सरकारी टेलीकॉम नहीं रहा। दो साल पहले 2020 में अशोक गहलोत ने माना कि पार्टी में ही विरोधियों के फोन टेप किए गए। सचिन पायलट ने सरकार गिरा ही दी थी। पर ऐन मौके पर बच गई। कर्नाटक में ही 2019 में एचडी कुमारस्वामी के समय फिर फोन टेपिंग ने सियासी भूचाल ला दिया। इस बीच तो वित्त मंत्री रहे प्रणब मुखर्जी, अमर सिंह, शरद पवार, अरुण जेटली जैसे बड़े नेताओं के फोन टेप होने की बातें सामने आई।

खुद नीतीश कुमार का फोन 2007 में टेप हुआ था। जब वो दिल्ली में बिहार के रेजिडेंट कमिश्नर का फोन इस्तेमाल कर रहे थे। तब भारत-अमेरिका सिविल न्यूक्लियर डील पर लेफ्ट के दबाव से मनमोहन सरकार हिली हुई थी। इस बार जिस टेप से नीतीश तमतमाए हुए हैं वो कैसे सामने आया होगा। या तो मोबाइल पर बात कर रहे नेताओं में से किसी ने खुद ही रिकॉर्ड कर लिया होगा और लीक कर दिया हो। 

या फिर किसी ने टेलीकॉम कंपनियों को किसी खास नेता के फोन को सर्विलांस पर लगाने का आदेश दिया हो। टेलीग्राफ एक्ट के मुताबिक राज्य सरकार के गृह सचिव ऐसा आदेश दे सकते हैं। सच्चाई क्या है पता नहीं। टेप है, इतना तो दोनों खेमा मान रहे हैं। कुछ तो ये भी बता रहे कि ललन सिंह ने जिस सबूत की बात की है वो यही टेप है।


Buy Amazon Product