बड़ी खबरें

नियोजित शिक्षकों के चालू वित्तीय वर्ष एवं बकाया वेतन का भुगतान के लिए राशि हुआ आवंटन जान ले कितना मिलेगा ।नियोजित शिक्षकों के चालू वित्तीय वर्ष एवं बकाया वेतन का भुगतान के लिए राशि हुआ आवंटन जान ले कितना मिलेगा । नियोजित शिक्षकों के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी बिहार सरकार ने वेतन के साथ एरिया का भी कर दिया आवंटन कौन सा महीना का मिलेगानियोजित शिक्षकों के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी बिहार सरकार ने वेतन के साथ एरिया का भी कर दिया आवंटन कौन सा महीना का मिलेगा सरकारी स्कूलों में चल रहे वर्ग में बैठकर अफसर करेंगे निरीक्षण, शिक्षकों को मिलेगा 15 जून के बाद सेवांत लाभ का मौका। सरकारी स्कूलों में चल रहे वर्ग में बैठकर अफसर करेंगे निरीक्षण, शिक्षकों को मिलेगा 15 जून के बाद सेवांत लाभ का मौका। डीईओ कार्यालय में मची हड़कंप, 2006 के बाद वाले नियोजित शिक्षकों के दक्षता को लेकर सबसे बड़ी खुशखबरी ।डीईओ कार्यालय में मची हड़कंप, 2006 के बाद वाले नियोजित शिक्षकों के दक्षता को लेकर सबसे बड़ी खुशखबरी । प्रारंभिक विद्यालय में प्रधान शिक्षक की बीपीएससी से होने वाली परीक्षा जून के इस तारीख की हो गई घोषणा जान ले पूरा दिशा निर्देश।प्रारंभिक विद्यालय में प्रधान शिक्षक की बीपीएससी से होने वाली परीक्षा जून के इस तारीख की हो गई घोषणा जान ले पूरा दिशा निर्देश। नियोजित शिक्षकों के लिए इस वक्त बड़ी खुशखबरी स्कूलों को मिलेगा दूरी का प्रमाण पत्र अब बढ़ेगा DAनियोजित शिक्षकों के लिए इस वक्त बड़ी खुशखबरी स्कूलों को मिलेगा दूरी का प्रमाण पत्र अब बढ़ेगा DA

नीट परीक्षा : 16 छात्रों ने दायर की है याचिका ओएमआर शीट में गड़बड़ी का आरोप, कोर्ट ने जवाब मांगा

नीट परीक्षा : 16 छात्रों ने दायर की है याचिका ओएमआर शीट में गड़बड़ी का आरोप, कोर्ट ने जवाब मांगा

दिल्ली हाइकोर्ट ने सितंबर, 2020 में हुई राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा ( नीट) की अपलोड की गयी ओएमआर शीट में गड़बड़ी होने का दावा करनेवाली एक याचिका पर जवाब मांगा है। सोमवार को जस्टिस जयंत नाथ ने 14 अभ्यर्थियों की याचिका पर सुनवाई करते हुए एनटीए से जवाब तलब किया। 

अदालत ने याचिका दायर करनेवालों को 11 दिसंबर को अनुमति दी थी कि वे अपनी ओएमआर शीट का परीक्षण करें और उनकी तस्वीरें लें। याचिकाकर्ताओं के वकीलों ने अदालत को बताया कि निरीक्षण मे पता चला है कि कुछ ओएमआर शीट खाली हैं और कुछ के कोने फटे हुए हैं, जिन्हें टेप से चिपकाया गया है। 

 

उन्होंने दावा किया कि जिन ओएमआर शीट का उन्होंने परीक्षण किया है, उनमें गड़बड़ियां हैं और इस मामले की जांच के लिए उच्चस्तरीय समिति का गठन किया जाना चाहिए। एनटीए के वकील ने इसका विरोध किया। कहा कि करीब 16 लाख छात्रों ने पंजीकरण कराया था और उनमें से सिर्फ 16 ने अदालत का रुख किया।

 इनमें से 14 लोग मौजूदा याचिका दायर करनेवाले हैं, जबकि दो ने पहले याचिका दायर की थी। एनटीए के वकील ने दावा किया कि नीट में अच्छा प्रदर्शन नहीं करनेवाले अब गड़बड़ी का दावा कर रहे हैं। अदालत ने एनटीए को जवाब देने के लिए चार जनवरी तक का समय दिया है।


Buy Amazon Product