बड़ी खबरें

78 हजार केंद्रीय राज्य कर्मियों को 188 करोड़ से ज्यादा दिवाली बोनस के रूप में बड़ी धनराशि मिलेगी।78 हजार केंद्रीय राज्य कर्मियों को 188 करोड़ से ज्यादा दिवाली बोनस के रूप में बड़ी धनराशि मिलेगी। राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दियाराज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दिया बेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहरबेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर सरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धिसरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धि हो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबितहो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबित 2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी

अब शिक्षकों को नियुक्ति तिथि से मिलेगा वेतनमान का लाभ अन्य जिलों के शिक्षकों को मिलेगा लाभ शिक्षकों में खुशी की लहर।

अब शिक्षकों को नियुक्ति तिथि से मिलेगा वेतनमान का लाभ अन्य जिलों के शिक्षकों को मिलेगा लाभ शिक्षकों में खुशी की लहर।

1)पहले प्रशिक्षण उत्तीर्णता या उच्च योग्यता के आधार पर मिलता था लाभ।
2)नियुक्ति तिथि से मिलेगा वरीय वेतनमान का लाभ।
3)जिले के सैकड़ों शिक्षकों को मिल सकता है फायदा, शिक्षकों में खुशी की लहर, अन्य जिलों के शिक्षकों को भी मिलेगा इसका लाभ।

बक्सर शिक्षकों को वरीय वेतनमान का लाभ अब नियुक्ति तिथि में मिलेगा उच्च न्यायालय ने एक मामले में इस तरह का आदेश दिया है। इसमें आपेशिक्षित उच्च योग्यताधारी शिक्षकों में खुशी की लहर है। उक्त मामले ये न्यायालय ने जिला कार्यक्रम पदाधिकारी स्थापना को 60 दिनों के अंदर न्यायालय के आदेश का पालन करते हुए भुगतान का आदेश दिया है।पिछले दिनों वरीय वेतनमान को लेकर सुनील कुमार फैयारी समेत तीन शिक्षक धीरेंद्र प्रताप सिंह एवं अवधेश कुमार राय ने कोर्ट में मामला दायर किया था कि उन्हें नियुक्ति तिथि मिल सकता है। से वरीय वेतनमान का लाभ मिलना चाहिए। जबकि विभाग अब तक उन्हें प्रशिक्षण उत्तीर्णता या उच्च योग्यता आधार पर इसका लाभ दे रहा था कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई करते हुए अन्य जिलों के शिक्षक भी होंगे लाभान्वित

यह भी पढ़ें - आखिरकार बरसों इंतजार के बाद शिक्षकों को स्थानांतरण तबादला करना ही पड़ा विभाग ने पत्र किया जारी।

उच्च न्यायालय ने सुनील केशरी, धीरेन्द्र प्रताप सिहे एवं अवधेश कुमार राय बनाम बिहार सरकार के मामले में जो फैसला सुनाया है, उसका लाभ केवल जिले के ही शिक्षकों को ही नहीं मिलेगा अपितु इसका लाभ प्रदेश के अन्य जिलों के शिक्षक भी ले सकते है। न्यायालय के इस आदेश को आंधार बनाकर अगर शिक्षक कोर्ट में केस फाइल करते है तो उन्हें भी नियुक्ति तिथि से वेतनमान का लाभ मिलेगा ।

सुनील कुमार केशरी के पक्ष में फैसला सुनाया और विभाग को आदेश दिया कि साठ दिनों के अंदर उन्हें नियुक्ति तिथि से वरीय वेतनमान का लाभ देते हुए भुगतान करे। बताया जाता है कि इससे अन्य शिक्षकों में भी खुशी की लहर है। क्योंकि, अन्य शिक्षक भी अगर कोर्ट के इस आदेश को आधार बनाकर उसको शरण में जाते हैं तो उन्हें भी इसका लाभ मिलेगा। श्री केशरी ने बताया कि कोर्ट के आदेश के बाद अब 1994-99 एवं 2000 एवं अनुकंपा सहित सभी अप्रशिक्षित उच्च योग्यताधाये शिक्षकों को लाभ मिलेगा।

यह भी पढ़ें - 2003 से अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए आ गई सबसे बड़ी खबर इस फंड से 50 हजार से 75 हजार तक एकमुश्त होगा भुगतान।

कुलपति के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी।
मगध विश्वविद्यालय में ओएमआर शीट, प्रश्न पत्र की छपाई और ई-बुक्स की खरीदारी में 20 करोड़ रुपये के घोटाले में निगरानी के विशेष जज मनीष द्विवेदी की अदालत ने शनिवार को तत्कालीन कुलपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है. मामला भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम, आइपीसी की धारा 120 (बी), 420 सहित अन्य अधिनियम के अंतर्गत दर्ज किया गया था. निगरानी ने प्राथमिक जांच में पाया कि ओएमआर शीट, प्रश्न पत्र एवं ई-बुक्स की खरीदारी का ठेका आरोपितों ने नियम-कानून को ताक पर रखकर अपने चहेतों को दिया था. अधिवक्ता आनंदी सिंह ने बताया कि कुलपति डा. राजेंद्र प्रसाद की अग्रिम जमानत याचिका पटना उच्च न्यालय में खारिज की जा चुकी है. कुलपति इस मामले के मुख्य आरोपी हैं।

 

यह भी पढ़ें - UTI, SSA, EPFO राशि भुगतान को लेकर जिला अध्यक्ष रंजीत वर्मा एवं अन्य संगठन पदाधिकारी के साथ लिया अहम फैसला जल्द होगा भुगतान

 


Buy Amazon Product