बड़ी खबरें

अब नियोजित शिक्षकों को नियमित शिक्षकों की भांति सहायक शिक्षक एवं राज्य कर्मी का दर्जा की कवायत हो गई शुरु।

अब नियोजित शिक्षकों को नियमित शिक्षकों की भांति सहायक शिक्षक एवं राज्य कर्मी का दर्जा की कवायत हो गई शुरु।

• ट्वीटर पर टीईटी शिक्षक और अभ्यर्थी मिलकर चला रहे हैं कैंपेन

पटना । टीईटी संवर्ग को अलग करो हैशटैग के साथ ट्वीटर पर टीईटी शिक्षक और अभ्यर्थी मिलकर कैंपेन चला रहे हैं। शनिवार को इस हैशटैग ने राष्ट्रीय स्तर पर 31वें नंबर पर ट्रेंड किया। नियमित शिक्षकों की भांति सहायक शिक्षक व राज्यकर्मी का दर्जा और हूबहू सेवाशर्त को लेकर विहार समेत देश के विभिन्न राज्यों के शिक्षक लंबे समय से अपने साथ हो रही हकमारी का विरोध कर रहे हैं ।

राज्य के नियोजित शिक्षकों के लिए शिक्षा विभाग के अधिकारी को निगरानी विभाग अहम फैसला।

टीईटी पास शिक्षकों का कहना है कि शिक्षा का अधिकार कानून-2009 और राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद् के मापदंडों पर नियोजित टीईटी उत्तीर्ण शिक्षक सहायक शिक्षक कानूनन के हकदार हैं । वगैर सहायक शिक्षकों के विद्यालयों का संचालन एवं शिक्षा अधिकार कानून का अनुपालन असंभव है। टीईटीएसटीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ ने कहा कि वर्तमान नियमावली के अधीन कार्यरत पात्रता उत्तीर्ण शिक्षक अपनी पेशागत प्रतिवद्धताओं के वावजूद इस दिशा में अपने भविष्य को लेकर आशंकित और चिंताग्रस्त हैं।

राज्य सरकार टीईटी शिक्षकों को सहायक शिक्षकों के विनिर्दिष्ट वेतन-भत्ते के अनुरूप सातवें वेतन आयोग में वर्णित वेतन भत्ते एवं अन्य सुविधाएं दे। टीईटी शिक्षकों के लिए अंतर जिला स्थानांतरण, प्रोन्नति, पदोन्नति, ईपीएफ, ग्रेच्युटी, अर्जित अवकाश, मातृत्वपितृत्व व शिशु देखभाल अवकाश समेत राज्यकर्मियों की तमाम सेवाशर्त की गारंटी सुनिश्चित की जाए।


एरियर के भुगतान को लेकर शिक्षक संघ ने दी आंदोलन की चेतावनी
प्रखंड के नव प्रशिक्षित शिक्षक संघ के प्रखंड अध्यक्ष सरोज कुमार ने कहा है कि बकाया एरियर के भुगतान को लेकर प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी सौरबाजार को दो तीन बार मांग पत्र दिया गया है। लेकिन अभी तक बकाया एरियर के भुगतान की दिशा में कोई पहल नहीं की गई है जो की बहुत ही दुख की बात है। वही जिलाध्यक्ष अजीत कुमार ने कहा है कि सहरसा जिले के सभी नव प्रशिक्षित शिक्षकों के बकाया एरियर के भुगतान हेतु जिला शिक्षा पदाधिकारी को तीन माह पूर्व मांग पत्र रिसीव कराया गया।

लेकिन अभी तक बकाया एरियर के भुगतान करने की दिशा में कोई पहल नहीं की गई है । इस पर जिलाध्यक्ष ने खेद व्यक्त करते हुए कहा है अगर नव प्रशिक्षित शिक्षकों के बकाया एरियर का भुगतान जल्द से जल्द नहीं किया गया तो शिक्षक संघ आंदोलन के लिए बाध्य होगी और धरना प्रदर्शन के साथ-साथ जिला कार्यालय का घेराव किया जाएगा।


Buy Amazon Product