बड़ी खबरें

DA News : महंगाई भत्ते में हो सकती है 4 फीसदी की बढ़ोतरी, जानें कब से होगा लागू, इन लोगों को मिलेगा लाभDA News : महंगाई भत्ते में हो सकती है 4 फीसदी की बढ़ोतरी, जानें कब से होगा लागू, इन लोगों को मिलेगा लाभ शिक्षा विभाग के निर्देशक मनोज कुमार एवं शिक्षा मंत्री का आया संयुक्त बयान पत्र हुआ जारीशिक्षा विभाग के निर्देशक मनोज कुमार एवं शिक्षा मंत्री का आया संयुक्त बयान पत्र हुआ जारी नियोजित शिक्षकों का वेतन हुआ जारी 2 महीने का वेतन एवं एरियर मिलाकर ₹1,00,000 से ₹1,30,000 तक मिलेगा 10 दिन के अंदर। नियोजित शिक्षकों का वेतन हुआ जारी 2 महीने का वेतन एवं एरियर मिलाकर ₹1,00,000 से ₹1,30,000 तक मिलेगा 10 दिन के अंदर। तबादले की मांग लेकर शिक्षकों का अनिश्चितकालीन धरना शुरू शिक्षा विभाग के अधिकारी क्या बोले सुन लीजिए। तबादले की मांग लेकर शिक्षकों का अनिश्चितकालीन धरना शुरू शिक्षा विभाग के अधिकारी क्या बोले सुन लीजिए। नियोजित शिक्षकों के 3 माह के वेतन का हुआ आवंटन 15% वृद्धि का एरियर एवं वेतन का लिस्ट हुआ जारी एक मुश्त होगा भुगतान।नियोजित शिक्षकों के 3 माह के वेतन का हुआ आवंटन 15% वृद्धि का एरियर एवं वेतन का लिस्ट हुआ जारी एक मुश्त होगा भुगतान। सबसे बड़ी खुशखबरी 15 अगस्त से सभी कर्मचारियों के साथ शिक्षकों को पुरानी पेंशन योजना हो जाएगी लागू।सबसे बड़ी खुशखबरी 15 अगस्त से सभी कर्मचारियों के साथ शिक्षकों को पुरानी पेंशन योजना हो जाएगी लागू।

अब शिक्षकों को मिला न्याय अपर मुख्य सचिव एवं शिक्षा मंत्री का संयुक्त बयान हुआ जारी

अब शिक्षकों को मिला न्याय अपर मुख्य सचिव एवं शिक्षा मंत्री का संयुक्त बयान हुआ जारी

पटना। शिक्षा विभाग के उच्चाधिकारियों के इंस्पेक्शन में जिला शिक्षा कार्यालयों में अनियमितताएं उजागर हुईं हैं। शिक्षकों को परेशान करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों पर काररवाई की गाज गिरी है।

शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने शुक्रवार को बताया कि पिछले दिनों उच्चस्तरीय विमर्श के क्रम अतयह निर्णय लिया गया था कि प्रखंड से लेकर में मुख्यालय तक के अधिकारी नियमित रूप से क्षेत्र भ्रमण कर विभागीय कार्यालय एवं विद्यालयों का निरीक्षण करेंगे। इससे विभाग कार्यालयों में व्याप्त अनियमितताएं दूर होंगी तथा बेहतर कार्य संस्कृति का निर्माण होगा। साथ ही, विद्यालयों में भी शिक्षकों की शतप्रतिशत उपस्थिति एवं कार्य संचालन सुनिश्चित होने से शैक्षिक वातावरण में सुधार होगा।

यह भी पढ़ें - ढाई साल के बाद आखिरकार ने शिक्षकों को मिली सफलता न्यायालय के आदेश के बाद विभाग को अब एकमुश्त होगी भुगतान।

इसके मद्देनजर बुधवार को मुख्यालय स्तर के सभी वरीय अधिकारी क्षेत्र भ्रमण पर रहे। अपर मुख्यसचिव दीपक कुमार सिंह ने मुजफ्फरपुर, सचिव असंगबा चुबा आओ ने औरंगाबाद, माध्यमिक शिक्षा निदेशक मनोज कुमार ने सारण एवं प्राथमिक शिक्षा निदेशक रवि प्रकाश ने समस्तीपुर जिले का भ्रमण किया। सभी अधिकारियों ने खास तौर पर जिला शिक्षा कार्यालयों का निरीक्षण किया तथा क्षेत्रीय अधिकारियों के साथ विभागीय गतिविधियों की समीक्षा की।

शिक्षा मंत्री श्री चौधरी ने बताया कि निरीक्षण के क्रम में विभिन्न कार्यालयों में कई खामियां एवं अनियमितताएं उजागर हुईं, जिन्हें दूर करने का तत्क्षण आदेश दिया गया। इरादतन शिक्षकों को परेशान करने वाले अधिकारियों को चिन्हित किया गया एवं कुछ कर्मियों पर काररवाई की गयी । अनेक शिक्षकों के वेतन पेंशनादि के लंबित मामलों का निष्पादन किया गया। शिक्षा मंत्री श्री चौधरी ने बताया कि शिक्षा विभाग की मंशा स्पष्ट है कि अधिकारी नियमित रूप से विद्यालयों का निरीक्षण करें, ताकि कक्षाएं पूरे समय तक सही ढंग से चले। क्षेत्रीय अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने की हिदायत दी गयी है कि वाजिब मामलों में शिक्षकों को विभाग के दफ्तर का चक्कर नहीं लगाना पड़े।

यह भी पढ़ें - डीपीई उत्तीर्ण शिक्षकों के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी 30 जुलाई को शिक्षा विभाग के उप सचिव द्वारा जारी होगी अधिसूचना।

इस संबंध में एक महत्वपूर्ण राज्य स्तरीय समीक्षा बैठक 12 जून को बुलायी गयी है। उसमें मुख्यालय के सभी अधिकारियों के साथ सभी जिला स्तरीय अधिकारी भी शामिल होंगे।

 

7 वें चरण की नियुक्ति की बारी, शुरू हुई तैयारी

■ जिलों से ली गयीं प्रारंभिक शिक्षक पदों की रिक्तियां

रिक्त पदों की गणना को कल होगी समीक्षा

पटना। राज्य में सातवें चरण की प्रारंभिक शिक्षकों की नियुक्ति की तैयारी शुरू हो गयी है । इसके लिए प्राथमिक एवं मध्य विद्यालयों में मूल कोटि एवं स्नातक कोटि के शिक्षकों की रिक्तियां सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर शिक्षा विभाग द्वारा ली है । रिक्तियों में छठे चरण की प्रारंभिक शिक्षकों की बहाली में खाली रह गये पद भी शामिल हैं। रिक्त पदों के गणना की समीक्षा शिक्षा विभाग द्वारा 12 जून को की जायेगी।

रिक्तियों का ब्योरा ई-मेल से भेजने को लेकर प्राथमिक शिक्षा निदेशक रवि प्रकाश द्वारा शुक्रवार को जिला शिक्षा पदाधिकारियों एवं जिला कार्यक्रम पदाधिकारियों (स्थापना) को दिये गये। इसमें खास बात यह है कि ईमेल से रिक्तियों का ब्योरा भेजने के लिए जिला शिक्षा पदाधिकारियों एवं जिला कार्यक्रम पदाधिकारियों (स्थापना) को समय भी शुक्रवार तक के ही दिये गये, जिसकी मियाद पूरी हो गयी है । हालांकि, इस बाबत जिला शिक्षा पदाधिकारियों एवं जिला कार्यक्रम पदाधिकारियों (स्थापना) को 26 मई को भी निर्देश दिये गये थे । उसमें अगले अगले नियोजन की काररवाई प्रारंभ करने के पूर्व जहां नियोजन की प्रक्रिया वर्तमान चरण में पूर्ण हुई हो, वहां 30 जून, 2022 तक रिक्त पदों की गणना 31 मई, 2022 की स्थिति के अनुसार विद्यालवार एवं नियोजन इकाईवार करने के संबंध में निर्देश दिया गया था।

यह भी पढ़ें - शिक्षकों के लंबित वेतन भुगतान नहीं करने के कारण अधिकारियों को किया गया निलंबित अब वेतन दूसरे तरीके से मिलेगा

शिक्षा विभाग द्वारा 12 जून को की जाने वाली प्रारंभिक शिक्षकों के रिक्त पदों की गणना की समीक्षा के लिए प्राथमिक शिक्षा निदेशक रवि प्रकाश द्वारा शुक्रवार को जिला शिक्षा पदाधिकारियों एवं जिला कार्यक्रम पदाधिकारियों (स्थापना) से लिये गये ब्योरे में वर्ष 2019-20 में प्रकाशित रिक्ति के विरुद्ध नियुक्ति के उपरांत रिक्त रह गये पदों का विवरण, 31 मार्च, 2022 तक सेवानिवृत्ति, त्याग पत्र एवं सेवामुक्ति के कारण रिक्ति तथा छात्र - शिक्षक अनुपात में शिक्षक पद की आवश्यकता की विद्यालयवार व नियोजन इकाईवार पदों का समेकित विवरणी शामिल है ।

आपको याद दिला दूं कि छठे चरण की नियुक्ति में प्रारंभिक शिक्षकों के 90762 पद थे। इन पदों के विरुद्ध तकरीबन 42 हजार शिक्षकों की बहाली हुई । इसके साथ ही तकरीबन 48 पद खाली रह गये । ये 48 हजार खाली रह गये पद अब सातवें चरण की बहाली में शामिल होंगे। इसके साथ सातवें चरण के लिए तकरीबन 30 हजार रिक्तियां संभावित हैं। इससे माना जा रहा है कि सातवें चरण की प्रारंभिक शिक्षकों की बहाली में तकरीबन 80 हजार पद होंगे।


Buy Amazon Product