बड़ी खबरें

विधानसभा अध्यक्ष के चेंबर के बाहर विपक्ष ने किया बवाल, स्पीकर को बंधक बनाने की कोशिश, डीएम व एसएसपी के साथ की धक्का-मुक्की

विधानसभा अध्यक्ष के चेंबर के बाहर विपक्ष ने किया बवाल, स्पीकर को बंधक बनाने की कोशिश, डीएम व एसएसपी के साथ की धक्का-मुक्की

बिहार विधानसभा में मंगलवार को विपक्षी दल के सदस्यों द्वारा भारी हंगामे के बीच पुलिस विधेयक पेश कर दिया गया। विधेयक पेश करने के साथ ही भारी हंगामे को देखते हुए सदन की कार्यवाही साढ़े चार बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। विपक्ष के भारी हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही साढ़े चार बजे के बाद भी शुरू नहीं हो पाई। विधानसभा अध्यक्ष के चेंबर के बाहर विपक्षी विधायकों ने जमकर हंगामा किया। इस दौरान पुलिस को बुलाया गया। पटना डीएम और एसएसपी समेत भारी पुलिस फोर्स सदन के अंदर पहुंची। विपक्षी सदस्यों डीएम और एसएसपी समेत पुलिसकर्मियों के साथ जमकर धक्का-मुक्की की। 

नियोजित शिक्षकों को मिल गया खुशखबरी ऑनलाइन मोड में निष्ठा प्रशिक्षण पाने वाले के लिए राशि मिलेंगे जान ले क्या है?

 

विपक्ष के कई विधायकों ने डीएम और एसएसपी के साथ बदसलूकी भी की। विधानसभा चेंबर के बाहर मौजूद विपक्षी विधायकों को हटाने के लिए मार्शल को भी बुलाया गया। वहां पहुंचे दर्जनों मार्शलों ने विपक्षी दलों के सदस्यों को वहां से हटाने की कोशिश में जुटे रहे। खबर लिखे जाने तक मौके पर भारी पुलिस फोर्स बुला ली गई है। इस बीच सदन में मंत्री अशोक चौधरी और राजद विधायक चंद्रशेखर के बीच हाथापाई हो गई। अशोक चौधरी ने राजद विधायक को धक्का दे दिया। वहीं विधायक चंद्रशेखर ने भी मंत्री अशोच चौधरी की ओर माइक्रोफोन फेंका।

 

इससे पहले विपक्ष ने बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस विधेयक के विरोध में न केवल जमकर हंगामा किया बल्कि उसकी प्रति भी फाड़ दी, जिसके बाद सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गई। विधानसभा में मंगलवार दोपहर बारह बजे सभा की कार्यवाही पुन: शुरू होते ही विपक्षी दल के सदस्य अपनी सीट से खड़े होकर बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस विधेयक के विरोध में नारेबाजी करने लगे। सभाध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने हंगामा कर रहे सदस्यों से शांत रहने का आग्रह किया। इसके बाद उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के समीर कुमार महासेठ समेत अन्य सदस्यों के कार्यस्थगन प्रस्ताव को नियमानुकूल न पाते हुए अस्वीकृत कर दिया।


Buy Amazon Product