बड़ी खबरें

पंचायतीराज व नगर निकाय नियोजित शिक्षकों ने उठायी विशेष भत्ते की मांग, मिलेंगे ऐसे।

पंचायतीराज व नगर निकाय नियोजित शिक्षकों ने उठायी विशेष भत्ते की मांग, मिलेंगे ऐसे।

पटना । कोरोना से बचाव कार्य में सेवा देने वाले पंचायतीराज एवं नगर निकाय शिक्षकों ने भी सामाजिक सुरक्षा, विशेष भत्ता और बीमा सुविधा की मांग उठायी है।
पंचायतीराज एवं नगर निकाय शिक्षकों की मांग है कि उन्हें सरकारी कर्मचारियों की भांति ही विशेष पारिवारिक पेंशन, पचास लाख रुपये काइसके बीमा, विशेष भत्ता एवं अन्य सुविधाएं मिले। कोरोना महामारी के दौरान विभिन्न सरकारी कार्यों एवं सामुदायिक किचेन आदि में स्थानीय निकायों के शिक्षकों से कार्य लिये जा रहे हैं। 

योगदान नहीं देने पर 12 शिक्षकों का रूका वेतन जान ले विस्तार से।


इससे शिक्षक कोरोना संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं। कई शिक्षकों की जान भी इस महामारी ने ले ली है। इसके मद्देनजर टीईटी-एसटीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ (गोपगुट) ने सरकार से नियमित कर्मियों के भांति ही स्थानीय निकायों में कार्यरत शिक्षकों के लिए विशेष भत्ता, विशेष पारिवारिक पेंशन, पचास लाख की बीमा, अनुकम्पा पर सरकारी नौकरी एवं अन्य सुविधाओं की मांग की है।


 संघ के प्रदेश अध्यक्ष मार्कण्डेय पाठक एवं प्रदेश प्रवक्ता अश्विनी पाण्डेय ने कहा है कि कोरोना संक्रमण की गिरफ्त में बड़ी संख्या में शिक्षक आ रहे हैं। 
सैकड़ो शिक्षकों की जान भी जा चुकी है। सामुदायिक किचन हो या को अन्य कार्य उसमें शिक्षक पूरी तन्मयता के साथ अपना योगदान दे रहे हैं। ऐसे में शिक्षकों की सुरक्षा और सुविधा का ध्यान रखना सरकार का दायित्व है। तत्काल जिन शिक्षकों की जान कोरोना संक्रमण से गयी है। उनके परिजन को ईपीएफ एवं अन्य सुविधा के अतिरिक्त तत्काल आपदा राहत के तहत चार लाख की विशेष अनुग्रह राशि का भुगतान सुनिश्चित कर परिवार को राहत दिये जायें। पचास लाख का बीमा, विशेष पारिवारिक पेंशन, अनुकम्पा, विशेष भत्ता आदि का लाभ देने पर विचार कर उसे लागू किया जाय ।


Buy Amazon Product