बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

पुरानी पेंशन योजना लागू करने के लिए प्रधानमंत्री को मिला पत्र, एनपीएस में 4.4% मिलेगी जान ले कैसे मिलेगा

पुरानी पेंशन योजना लागू करने के लिए प्रधानमंत्री को मिला पत्र, एनपीएस में 4.4% मिलेगी जान ले कैसे मिलेगा

पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर एम्स नर्सेज यूनियन ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है। यूनियन अध्यक्ष हरीश कुमार काजला द्वारा लिखे पत्र के अनुसार देश की अर्थव्यवस्था विश्व में तेजी से बढ़ रही है। सरकारी कर्मचारी राष्ट्र निर्माण के लिए प्रतिबद्ध है। लेकिन भविष्य को लेकर चिंतित है। एनपीएस से मिलने वाला बकाया 4.4 फीसदी से भी घट गया है। जिसका कर्मचारियों को कोई लाभ नहीं मिलेगा।

 

यह भी पढ़ें - पुरानी पेंशन व्यवस्था की मांग को आजाद लेकर कर्मचारियों ने किया प्रदर्शन,मांग पूरी नहीं हुई, तो करेंगे रेल चक्का जाम।

एक जुलाई से 5000 स्कूलों में प्री-प्राइमरी की पढ़ाई

 

प्राइवेट स्कूलों की तर्ज पर उत्तराखंड के पांच हजार स्कूलों में एक जुलाई से प्री- प्राइमरी कक्षाएं शुरू हो जाएंगी। ये वो स्कूल हैं, जिनके परिसरों पर आंगनबाड़ी केंद्र भी चल रहे हैं। आंगनबाड़ी में आने वाले छात्रों को प्री-प्राइमरी में अक्षर और संख्या ज्ञान कराया जाएगा। शिक्षा सचिव आर. मीनाक्षी सुंदरम ने एससीईआरटी को जल्द से जल्द प्री-प्राइमरी का सिलेबस तैयार करने के निर्देश दिए हैं। छात्रों की पुस्तकों को आकर्षक, सरल और चित्रों पर आधारित बनाने को कहा गया है। पर बनाने को कहा है। एससीईआरटी के अपर निदेशक डॉ. आरडी शर्मा ने बताया कि सिलेबस को अंतिम रूप दे दिया गया है। इसे पुस्तक के रूप में प्रकाशित कराया जा रहा है।

 

यह भी पढ़ें - नियोजित शिक्षकों को प्रमोशन नहीं दिए जाने पर कोर्ट जाएगा शिक्षक संघ, मिलेगा स्नातक ग्रेड में प्रमोशन।

यह फायदा मिलेगा

 

वर्तमान व्यवस्था में सरकारी स्कूलों में पढ़ाई की शुरुआत पहली कक्षा से होती है। छात्र को पहली कक्षा से अक्षर और संख्या ज्ञान सीखना होता है। प्री-प्राइमरी में अक्षर-संख्या ज्ञान से वाकिफ हो जाने से छात्र पहली कक्षा के सिलेबस को आसानी से समझ सकेंगे। विभिन्न स्तर पर हुए सर्वेक्षण में अक्सर सरकारी स्कूलों के छात्रों को उनकी कक्षा के मुकाबले कम शैक्षिक स्तर का पाया गया है।


Buy Amazon Product