बड़ी खबरें

राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दियाराज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दिया बेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहरबेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर सरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धिसरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धि हो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबितहो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबित 2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी मुख्यमंत्री का कार्यालय बिहार सरकार (जनसंपर्क कोपांग) से शिक्षकों के लिए प्रेस विज्ञप्ति जारी हो गई आखिरकार शिक्षकों को मिल ही गयामुख्यमंत्री का कार्यालय बिहार सरकार (जनसंपर्क कोपांग) से शिक्षकों के लिए प्रेस विज्ञप्ति जारी हो गई आखिरकार शिक्षकों को मिल ही गया

नियोजित शिक्षकों के बकाया वेतन /अंतर वेतन भुगतान के लेकर शिक्षा विभाग के अधिकारी ने जारी किया निर्देश पत्र हुआ जारी।

नियोजित शिक्षकों के बकाया वेतन /अंतर वेतन भुगतान के लेकर शिक्षा विभाग के अधिकारी ने जारी किया निर्देश पत्र हुआ जारी।

बकाया वेतन / अन्तर वेतन भुगतान हेतु मांग पत्र उपलब्ध कराने के संबंध में अंकित करना है कि अधोहस्ताक्षरी कार्यालय पत्रांक-1018 दिनांक 03.08.2021 द्वारा बकाया वेतन / अन्तर वेतन भुगतान हेतु मांग पत्र माँग किया गया, जो अबतक अप्राप्त है। आपके स्तर से मांग पत्र नहीं देने के कारण संबंधित शिक्षकों के बकाया वेतन / अन्तर वेतन का भुगतान हेतु मांग पत्र नहीं भेजी जा सकी है। संबंधित शिक्षकों के बकाया वेतन / अन्तर वेतन भुगतान हेतु गणना चार्ट एवं वास्तविक राशि का भुगतान हेतु मांग पत्र की आवश्यकता है। मांग पत्र में बकाया वेतन रहने का कारण भी स्पष्ट रूप से अंकित करने की कृपा की जाय। अतः पुनः स्मारित करते हुए निदेश दिया जाता है कि संबंधित शिक्षकों के बकाए वेतन / अन्तर वेतन का भुगतान हेतु अद्यतन मांग पत्र वेतन / अन्तर वेतन बकाया रहने का कारण सहित सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर एक सप्ताह के अन्दर अधोहस्ताक्षरी को उपलब्ध करायी जाय ताकि बकाए वेतन / अन्तर वेतन भुगतान की मांग की जा सके।

यह भी पढ़ें - दिवाली छठ से पहले शिक्षकों को वेतन भुगतान हो नहीं तो होगा आंदोलन संघ ने दे दिया अल्टीमेटम।

दीपावली और छठ पूजा से पहले हो वेतन भुगतान : मशकूर आलम।
मधुबनी। बिहार प्रदेश प्रारंभिक शिक्षक संघ जिला इकाई मधुबनी के जिला अध्यक्ष मशकूर आलम ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सरकार से मांग कि के दीपावली और छठ पूजा से पहले सरकार वेतन भुगतान हेतु आवंटन सभी जिलों को यथा शिघ्र मोहैया कराये ताकि स समय शिक्षकों का वेतन भुगतान हो सके। उन्होंने कहा के नवम्बर के पहले सप्ताह में दीपावली और दूसरे सप्ताह में लोक आस्था का महापर्व छठ पूजा है। इन महत्वपूर्ण त्योहारों के देखते हुए वेतन के साथ डीपीई ऐरीयर का भुगतान दीपावली से पहले करने की मांग सरकार से की है, ताकि शिक्षक और उनके आश्रित दीपावली और छठ पर्व हर्षोल्लास के साथ मना सकें। दुगार्पूजा में अधिकांश जिलों में वेतन भुगतान नहीं हो सका जिससे शिक्षकों और उनके आश्रितों में निराशा व्याप्त रही।

यह भी पढ़ें - दिवाली छठ से पहले शिक्षकों को वेतन भुगतान हो नहीं तो होगा आंदोलन संघ ने दे दिया अल्टीमेटम।

जिला प्रवक्ता सह जिला सचिव श्री अरविन्द नाथ झा ने कहा के मधुबनी जिले में दुगार्पूजा में ररअ से आच्छादित शिक्षकों का वेतन भुगतान तो हुआ लेकिन ॠडइ से आच्छादित शिक्षकों का वेतन भुगतान ट्रेजरी से पैसा हस्तांतरित नहीं होने के कारण नहीं हो सका जिससे शिक्षकों में पदाधिकारी के प्रति नाराजगी दिखाई दे रही है और नाराजगी भी स्वाभाविक है। जिला उपाध्यक्ष तकी अख्तर और जिला सचिव मो० एहसान ने कहा के डीपीई से प्रशिक्षित शिक्षक को प्रशिक्षित हुए करीब चार वर्ष होगए लेकिन अभी तक उनके अंतर वेतन का भुगतान नहीं हो सका, संघ के द्वारा डीपीई ऐरीयर भुगतान हेतु कई बार जिला शिक्षा पदाधिकारी मधुबनी को पत्र के माध्यम से लिखा गया है लेकिन पदाधिकारी के द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है।

वहीं बेनीपट्टी प्रखण्ड अध्यक्ष श्री अखिलेश कुमार झा एवं रहिका प्रखण्ड अध्यक्ष श्री श्रवण कुमार राय ने कहा है के नव प्रशिक्षित शिक्षकों ने जनवरी 2019,31 मार्च 2019, और 22 मई 2019 में ही प्रशिक्षण प्राप्त कर लिया है लेकिन दो सालों से विभाग के द्वारा अंतर राशि का भुगतान नहीं किया गया है जो खेद का विषय है । रहिका प्रखण्ड के प्रधान सचिव मो० सदरे आलम ने कहा के वेतन में 15% की वृद्धि की घोषणा का भी एक वर्ष होने जा रहा है लेकिन सरकार अभी तक कोई ठोस कदम नहीं उठायी है, सरकार हमेशा नियोजित शिक्षकों के साथ सौतेला व्यवहार करती रही है । सभी ने एक स्वर में सरकार से मांग कि के दीपावली और छठ पूजा को देखते हुए बकाया वेतन भुगतान हेतु सभी जिलों को आवंटन यथा शिघ्र मोहैया कराये ताकि ससमय वेतन भुगतान हो सके।

यह भी पढ़ें - शिक्षा विभाग के अधिकारी ने जारी किया निर्देश कहा 31 अक्टूबर तक सभी शिक्षकों को वेतन का होगा भुगतान पत्र हुआ जारी।

यह भी पढ़ें - 14000 शिक्षकों के लिए शिक्षा विभाग के निर्देशालय ने जारी कर दिया निर्देश,अभी और इंतजार करना होगा।

केंद्रीय शिक्षा एवं विदेश राज्य मंत्री ने राजगीर और नालंदा के धरोहरों का किया परिभ्रमण।
राजगीर (नालंदा ) । केंद्रीय शिक्षा एवं विदेश राज्य मंत्री डॉ राजकुमार रंजन सिंह द्वारा राजगीर प्रवास के दूसरे दिन राजगीर और नालंदा के सुप्रसिद्ध धरोहरों का दीदार किया गया। उनके साथ विदेश मंत्रालय के अधिकारियों का दल भी था। सबसे पहले उन्होंने भारत-जापान मैत्री का प्रतीक विश्व शांति स्तूप का दीदार किया। केन्द्रीय मंत्री रोपवे का आनन्द लेते हुए विश्व शांति स्तूप पहुंचे। वहीं से उन्होंने राजगीर के जंगल की वादियों और ऐतिहासिक गृद्धकूट पर्वत का अवलोकन किया। विश्व शांति स्तूप का भ्रमण के बाद केन्द्रीय मंत्री का काफिला नालंदा पहुंचा। उन्होंने विश्व धरोहर प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय के भग्नावशेष और भारत-चीन मैत्री का प्रतीक ह्वेनसांग मेमोरियल हॉल का भ्रमण किया। प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय के गौरवशाली इतिहास की जानकारी उन्होंने पर्यटक मार्गदर्शक से ली। इसके अतीत को जानकर केंद्रीय मंत्री काफी प्रभावित हुए। डॉ सिंह ने नालंदा विश्वविद्यालय का भी मुआयना किया। उनके आगमन पर राजगीर और नालंदा में सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था की गयी थी। केन्द्रीय मंत्री के प्रोटोकॉल ड्यूटी में राजगीर के डीसीएलआर संजय कुमार साथ चल रहे हैं।


Buy Amazon Product