बड़ी खबरें

बड़ी खबर: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पढ़ाई के साथ कमाई भी होगी: धर्मेंद्र प्रधानबड़ी खबर: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पढ़ाई के साथ कमाई भी होगी: धर्मेंद्र प्रधान दिवाली से पहले कर्मचारियों ब शिक्षकों को मिल सकता है बंपर तोहफा 3 जगह से आएगा पैसा जान ले कैसे?दिवाली से पहले कर्मचारियों ब शिक्षकों को मिल सकता है बंपर तोहफा 3 जगह से आएगा पैसा जान ले कैसे? कैचअप कोर्स से बच्चों और शिक्षकों का 3 ग्रेड में होगा मूल्यांकन जाने विस्तार से उसके बाद शिक्षकों का क्या होने वाला है? कैचअप कोर्स से बच्चों और शिक्षकों का 3 ग्रेड में होगा मूल्यांकन जाने विस्तार से उसके बाद शिक्षकों का क्या होने वाला है? 3.57 लाख शिक्षकों को 15% वेतन वृद्धि का लाभ वित्त विभाग से आने के बाद अब नए साल में मिलने की उम्मीद: अपर मुख्य सचिव3.57 लाख शिक्षकों को 15% वेतन वृद्धि का लाभ वित्त विभाग से आने के बाद अब नए साल में मिलने की उम्मीद: अपर मुख्य सचिव प्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक प्रधानाध्यापक पद का जिला भार हुआ आवंटन पत्र हुआ जारी।:प्राथमिक शिक्षा निर्देशकप्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक प्रधानाध्यापक पद का जिला भार हुआ आवंटन पत्र हुआ जारी।:प्राथमिक शिक्षा निर्देशक शिक्षकों को बरगला रही सरकार 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी स्थानांतरण एवं प्रोन्नति का भी मामला लटका। शिक्षकों को बरगला रही सरकार 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी स्थानांतरण एवं प्रोन्नति का भी मामला लटका।

स्कूल-कॉलेज शिक्षकों ने फिर की उपस्थिति से मुक्त करने की मांग।

स्कूल-कॉलेज शिक्षकों ने फिर की उपस्थिति से मुक्त करने की मांग।

पटना :स्कूलों से लेकर कॉलेजों तक के शिक्षक कर्मचारियों ने तैंतीस फीसदी उपस्थिति की अनिवार्यता समाप्त करने की मांग फिर उठायी है । परिवर्तनकारी शिक्षक महासंघ के कार्यकारी संयोजक नवनीत कुमार एवं संगठन महामंत्री शिशिर कुमार पाण्डेय ने कहा है कि प्राइमरी से लेकर प्लस टू स्कूलों तक में शिक्षक-कर्मचारियों की तैंतीस फीसदी उपस्थिति अनिवार्य है। पब्लिक ट्रांसपोर्ट से स्कूल आने-जाने के क्रम में शिक्षक संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं । 

कोरोना से अबतक 21 जिलों में 64 शिक्षकों की हुई मौत फिर भी शिक्षकों के लिए विभाग से आया आदेश।

 

कोरोना की चपेट में आने से शिक्षकों की सांस टूटने का सिलसिला जारी है। संगठन ने कहा है कि उपस्थिति की अनिवार्यता समाप्त नहीं हुई, तो मानवाधिकार आयोग का दरवाजा खटखटाया जायेगा। दूसरी ओर बिहार राज्य सम्बद्ध डिग्री महाविद्यालय शिक्षक-शिक्षकेतर कर्मचारी महासंघ (फैक्टनेब) के प्रधान संयोजक डॉ. शंभुनाथ प्रसाद सिन्हा, राज्य संयोजक प्रो. राजीव रंजन एवं प्रवक्ता प्रो. अरुण  गौतम ने कॉलेजों में शिक्षक-कर्मचारियों को तैंतीस फीसदी उपस्थिति की अनिवार्यता से मुक्त करने की मांग की है । 

इस बाबत संगठन ने कुलाधिपति, मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री एवं शिक्षा विभाग = के अपर मुख्यसचिव को पत्र लिखा है । - संगठन ने कहा है कि संक्रमण की वजह से अब तक दर्जनों शिक्षक कर्मियों की सांस टूट चुकी है। शिक्षक-कर्मियों के संक्रमित होने और उनकी सांस टूटने की खबर संगठन को लगातार मिल रही है ।


Buy Amazon Product