बड़ी खबरें

नियोजित शिक्षकों के चालू वित्तीय वर्ष एवं बकाया वेतन का भुगतान के लिए राशि हुआ आवंटन जान ले कितना मिलेगा ।नियोजित शिक्षकों के चालू वित्तीय वर्ष एवं बकाया वेतन का भुगतान के लिए राशि हुआ आवंटन जान ले कितना मिलेगा । नियोजित शिक्षकों के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी बिहार सरकार ने वेतन के साथ एरिया का भी कर दिया आवंटन कौन सा महीना का मिलेगानियोजित शिक्षकों के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी बिहार सरकार ने वेतन के साथ एरिया का भी कर दिया आवंटन कौन सा महीना का मिलेगा सरकारी स्कूलों में चल रहे वर्ग में बैठकर अफसर करेंगे निरीक्षण, शिक्षकों को मिलेगा 15 जून के बाद सेवांत लाभ का मौका। सरकारी स्कूलों में चल रहे वर्ग में बैठकर अफसर करेंगे निरीक्षण, शिक्षकों को मिलेगा 15 जून के बाद सेवांत लाभ का मौका। डीईओ कार्यालय में मची हड़कंप, 2006 के बाद वाले नियोजित शिक्षकों के दक्षता को लेकर सबसे बड़ी खुशखबरी ।डीईओ कार्यालय में मची हड़कंप, 2006 के बाद वाले नियोजित शिक्षकों के दक्षता को लेकर सबसे बड़ी खुशखबरी । प्रारंभिक विद्यालय में प्रधान शिक्षक की बीपीएससी से होने वाली परीक्षा जून के इस तारीख की हो गई घोषणा जान ले पूरा दिशा निर्देश।प्रारंभिक विद्यालय में प्रधान शिक्षक की बीपीएससी से होने वाली परीक्षा जून के इस तारीख की हो गई घोषणा जान ले पूरा दिशा निर्देश। नियोजित शिक्षकों के लिए इस वक्त बड़ी खुशखबरी स्कूलों को मिलेगा दूरी का प्रमाण पत्र अब बढ़ेगा DAनियोजित शिक्षकों के लिए इस वक्त बड़ी खुशखबरी स्कूलों को मिलेगा दूरी का प्रमाण पत्र अब बढ़ेगा DA

CM का ऐलान कोरोना से मौत पर राज्य कर्मियों को मिलेंगे 25 लाख रु. मुआवजा

CM का ऐलान कोरोना से मौत पर राज्य कर्मियों को मिलेंगे 25 लाख रु. मुआवजा

अस्थाई और संविदाकर्मियों को भी मिले कोरोना की दूसरी लहर में कोविड से मरने वाले राज्यकर्मियों के परिजनों को झारखंड सरकार 25-25 लाख रुपए मुआवजा देगी। स्थाई अस्थाई और संविदा पर काम करने वाले सभी कर्मचारी इसके दायरे में आएंगे। एक अप्रैल से 30 सितंबर तक कोरोना से मौत होने वाले कर्मचारियों के आश्रितों को इसका लाभ मिलेगा। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के निर्देश पर यह प्रस्ताव तैयार किया गया है। 

बिहार के नियोजित शिक्षकों के लिए SWSP की फिर उठी मांग दो साल में भी नहीं दिए गए नियुक्ति पत्र: तेजस्वी

इसके इसी सप्ताह लागू होने की उम्मीद है। कोरोना की दूसरी लहर में कर्मचारियों के सामने चुनौती बढ़ गई है। इसी को देखते हुए सरकार ने यह फैसला लिया है। अब तक राज्य में 500 से अधिक सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों की कोरोना से मौत हो चुकी है। इनमें 32 पुलिसकर्मी, 28 डॉक्टर, 150 पारा मेडिकल कर्मचारी, 70 शिक्षक और पारा शिक्षक, सचिवालय के 20 कर्मचारी और झारखंड प्रशासनिक सेवा के आठ अधिकारी शामिल हैं।

ड्यूटी पर आने से कतराने लगे हैं कर्मचारी। 
कोरोना महामारी में मौत के बढ़ते आंकड़ों को देखते हुए बड़ी संख्या में कर्मचारी ड्यूटी पर आने से कतराने लगे थे। ऐसे में परिजनों को मदद देकर कर्मचारियों को प्रोत्साहित करने के लिए ऐसी योजना शुरू कर रही है।


Buy Amazon Product