बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

शिक्षकों ने अवकाश में परिवर्तन के लिए विभाग से किया मांग जाने कब मिलेगा अवकाश,एक्शन में दिखे शिक्षा मंत्री।

शिक्षकों ने अवकाश में परिवर्तन के लिए विभाग से किया मांग जाने कब मिलेगा अवकाश,एक्शन में दिखे शिक्षा मंत्री।

समस्तीपुर। बिहार पंचायत नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ (मूल) के जिला अध्यक्ष कुमार रजनीश ने जिला शिक्षा अधिकारी मदन राय व जिला शिक्षा स्थापना के डीपीओ सुमन शर्मा को पत्र देकर उनसे तीज व चौठचंद्र पर्व के घोषित अवकाश क्रमशः आठ व नौ सितंबर में आशिक संशोधन कर नौ व 10 सितंबर करने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा है कि अवकाश तालिका में तीज आठ सितंबर को व चौठचंद नौ सितंबर को घोषित है।

पाठ्यक्रम से नहीं निकाले जायेंगे जेपी- लोहिया
मुख्यमंत्री के दखल के बाद कुलाधिपति तक पहुंचा मामला
पाठ्यक्रम में ऐसे किसी बदलाव की इजाजत नहीं: विजय चौधरी। 
जेपी यूनिवर्सिटी का मामला सामने आने के बाद पड़ताल के आदेश
पटना । विश्वविद्यालय के राजनीतिशास्त्र के स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम से लोक नायक जयप्रकाश नारायण एवं डॉ. राम मनोहर लोहिया के राजनीतिक विचार एवं दर्शन नहीं निकाले जायेंगे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के दखल के बाद शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने मामले को कुलाधिपति के संज्ञान में लाया है। कुलाधिपति के पटना लौटते ही समस्या का निराकरण हो जायेगा । शिक्षा मंत्री श्री चौधरी ने कहा है कि विश्वविद्यालयों के पाठ्यक्रम में ऐसे किसी बदलाव की इजाजत नहीं दी जायेगी । शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने गुरुवार को संवाददाताओं बातचीत कहा कि लोकनायक जयप्रकाश विश्वविद्यालय के राजनीति विज्ञान के स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम से लोक नायक जयप्रकाश नारायण। 

डॉ. राम मनोहर लोहिया के राजनीतिक विचार एवं दर्शन निकाले जाने को सरकार एवं शिक्षा ! विभाग ने गंभीरता से लिया है। इस बात के प्रकाश में आते ही शिक्षा मंत्री के निर्देश पर अपर मुख्यसचिव एवं उच्च शिक्षा निदेशक द्वारा कुलपति एवं कुलसचिव को स्थिति स्पष्ट करने को कहा गया। संतोषजनक जानकारी नहीं मिलने पर विश्वविद्यालय के उन दोनों पदाधिकारियों को शिक्षा विभाग में बुला कर स्थिति स्पष्ट करने को कहा गया । शिक्षा मंत्री श्री चौधरी ने स्पष्ट किया कि सरकार और विभाग की नजर में यह अनुचित तो है ही, साथ ही साथ इसमें सामान्य परंपरा का भी पालन नहीं किया गया है । यह स्थापित मान्यता है कि बिहार के विश्वविद्यालय से संबंधित कोई भी नियम, परिनियम, ऑर्डिनेन्स (जिसमें पाठ्यक्रम भी शामिल है) आदि सरकार के बिहार राज्य उच्चतर शिक्षा परिषद की सहमति के बाद ही लागू किया जाता है, जिसका पालन नहीं किया गया। 

यह मामला मीडिया के माध्यम से आते ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी इस पर घोर आश्चर्य एवं क्षोभ व्यक्त किया एवं तत्काल इसके निराकरण का निर्देश दिया। शिक्षा मंत्री श्री चौधरी ने बताया कि यह मामला कुलाधिपति के भी संज्ञान में लाया गया है ।फिलहाल वे राज्य से बाहर हैं और वापस आकर इसमें आवश्यक सुधार कराने का उन्होंने भरोसा दिलाया है। शिक्षा मंत्री श्री चौधरी ने शिक्षा विभाग को निर्देश दिया है कि राज्य के अन्य विश्वविद्यालयों से भी पाठ्यक्रमों में पिछले दिनों में किये गये बदलाव की सूचना एकत्रित की जाय। अगर दूसरे किसी विश्वविद्यालय में भी इस तरह की कोई अनुचित एवं अनियमित बात सामने आती है, तो उसमें भी आवश्यक सुधार की व्यवस्था की जायेगी। बिहार की जनभावना एवं सरकार की प्राथमिकताओं के विरुद्ध विश्वविद्यालयों के विभिन्न विषयों के पाठ्यक्रमों में किये गये बदलाव की इजाजत नहीं दी जा सकती है ।


Buy Amazon Product