बड़ी खबरें

नियोजित शिक्षकों के कालबद्ध प्रोन्नति के लिए स्थापना ले नियोजन इकाई से मांगी शिक्षकों की सूचीनियोजित शिक्षकों के कालबद्ध प्रोन्नति के लिए स्थापना ले नियोजन इकाई से मांगी शिक्षकों की सूची राज्य के लाखों नियोजित शिक्षकों के लिए सबसे बड़ी खबर आखिरकार मिल ही गया समय अत्यंत खुशी कि लहरराज्य के लाखों नियोजित शिक्षकों के लिए सबसे बड़ी खबर आखिरकार मिल ही गया समय अत्यंत खुशी कि लहर सरकारी कर्मचारियों के लिए खुशखबरी आठवें वेतन आयोग पर बड़ी खबर बढ़ेगी सैलरी अब होंगे 95 हजार वेतनसरकारी कर्मचारियों के लिए खुशखबरी आठवें वेतन आयोग पर बड़ी खबर बढ़ेगी सैलरी अब होंगे 95 हजार वेतन 80 हजार सरकारी स्कूलों के शिक्षकों के लिए अपर मुख्य सचिव ने जारी किया निर्देश अब ऐसे कटेंगे वेतन  इसे जल्द कर ले80 हजार सरकारी स्कूलों के शिक्षकों के लिए अपर मुख्य सचिव ने जारी किया निर्देश अब ऐसे कटेंगे वेतन इसे जल्द कर ले शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने जारी किया निर्देश 15 नवंबर तक हर हाल में सरकारी स्कूल के शिक्षक कर ले अन्यथा विधि सम्मत होगी कार्यवाही पत्र हुआ जारीशिक्षा विभाग के अधिकारियों ने जारी किया निर्देश 15 नवंबर तक हर हाल में सरकारी स्कूल के शिक्षक कर ले अन्यथा विधि सम्मत होगी कार्यवाही पत्र हुआ जारी राज्य के शिक्षा मंत्री का बड़ा ऐलान कल से सभी सरकारी स्कूल में हो गए लागू शिक्षक को मिला आरामराज्य के शिक्षा मंत्री का बड़ा ऐलान कल से सभी सरकारी स्कूल में हो गए लागू शिक्षक को मिला आराम

बेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर

बेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर

मुजफ्फरपुरबेसिक ग्रेड के शिक्षकों के प्रमोशन की मांग जल्द ही पूरी होने वाली है. पात्रता के आधार पर उन्हें जूनियर हाइस्कूल में प्रमोट किया जायेगा. विभाग ने तै शुरू कर दी है. अधिकारियों का कहना कि छठे चरण के नियोजन के बाद सभी जिलों में रिक्त पदों में 50 प्रतिशत प्रमोशन से भरे जायेंगे. विभाग की ओर से वर्ष 2020 में प्रमोशन के लिए नियमावली तैयार की गयी है. हालांकि अब तक उसका लाभ शिक्षकों को नहीं मिल सका है।

यह भी पढ़ें - सरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धि

शिक्षक संगठन लगातार प्रमोशन की मांग भी करते रहे हैं. छठवें चरण की नियुक्ति की प्रक्रिया सभी जिलों में पूरी हो चुकी है. इसमें मार्च 2019 तक के रिक्त पदों को शामिल किया गया था. अप्रैल 2019 के बाद से अब तक रिक्त हुए पदों के साथ ही छठवें चरण के शेष पदों को जोड़कर सभी जिलों में रिक्ति तैयार की गयी है. विभाग की ओर से सातवें चरण के नियोजन की प्रक्रिया शुरू कर दी गयी है. विभाग के एक वरीय अधिकारी ने बताया कि कक्षा 6 से 8 के लिए रिक्त सीटों के 50 प्रतिशत के लिए ही नियोजन की प्रक्रिया पूरी की जायेगी. शेष 50 प्रतिशत सीट प्रमोशन के जरिये भरे जायेंगे. इसको लेकर पिछले दिनों पटना में हुई राज्य स्तरीय बैठक में ही सहमति बन गयी थी।

यह भी पढ़ें - हो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबित

कक्षा 8 तक के डेढ़ करोड़ बच्चों को मुफ्त में दी जायेगी डायरी
पटना। बिहार के सभी 71 हजार से अधिक प्राथमिक और माध्यमिक सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे डेढ़ करोड़ से अधिक बच्चों को विशेष डायरी दी जायेंगी. ऐसा हर साल होगा. इन डायरियों में महात्मा गांधी और मौलाना अबुल कलाम आजाद जैसे व्यक्तित्वों का जीवन पर आधारित प्रेरित करने वाली जानकारी होगी. ताकि बच्चे इनसे प्रेरणा ले सकें.

यह भी पढ़ें - 2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी

अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह ने बताया कि इन डायरियों में सामाजिक सुधार से जुड़ी और भी जानकारियां साझा की जायेंगी. आधिकारिक जानकारी के मुताबिक यह कवायद आगामी शैक्षणिक सत्र 2023-24 से शुरू होगी. हालांकि इन डायरियों का पैटर्न तय किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि यह कदम राज्य शैक्षणिक मानकों में सुधार के लिए सरकार द्वारा उठाये जा रहे उपायों का एक हिस्सा है. इसके अलावा शिक्षकों को छात्रों और अन्य गतिविधियों के प्रदर्शन को दर्ज करने के लिए डायरी दी जायेगी. जानकारी के मुताबिक अगले शैक्षणिक सत्र से प्राथमिक कक्षाओं के
लिए अभ्यास पुस्तकें भी मुद्रित करके दी जायेंगी. उल्लेखनीय है कि बच्चों को विशेष प्रकार की डायरी देने का ने पहली बार लिया गया है. राणा

यह भी पढ़ें - मुख्यमंत्री का कार्यालय बिहार सरकार (जनसंपर्क कोपांग) से शिक्षकों के लिए प्रेस विज्ञप्ति जारी हो गई आखिरकार शिक्षकों को मिल ही गया

प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों में रोजाना चेतना सत्र प्रारंभ करने के निर्देश दिये गये हैं. इन चेतना सत्रों में सभी बच्चों को महात्मा गांधी और मौलाना अबुल कलाम की जीवनी साझा की जायेगी. साथ ही इन महापुरुषों के जीवन वृत पर आधारित किताबें भी बांटी जायेंगी. इधर एक अन्य जानकारी के मुताबिक शैक्षणिक सत्र 2022-23 के लिए अभी एक करोड़ 20 लाख से अधिक स्कूली बच्चों के खाते में किताबें खरीदने के लिए राशि डाल दी गयी है. शेष बच्चों के लिए राशि जल्दी ही डाली जायेगी. बता दें कि इस साल किताबों खरीदने के लिए बच्चों के खाते में अभी तक 416 करोड़ की राशि डाली गयी है।


Buy Amazon Product