बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

शिक्षकों ने चलाई कैम्पेन 12 वर्ष सेवा पूर्ण करने वाले नियोजित शिक्षकों को अब मिल जाएगी यह सबसे बड़ी सुविधा।

शिक्षकों ने चलाई कैम्पेन 12 वर्ष सेवा पूर्ण करने वाले नियोजित शिक्षकों को अब मिल जाएगी यह सबसे बड़ी सुविधा।

पटना। प्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षकों की होने वाली बहाली में शिक्षण अनुभव की अनिवार्यता समाप्त करते हुए इसमें तमाम टीइटी शिक्षकों को शामिल करने की मांग टीईटी शिक्षकों ने सोमवार को ट्विटर पर कैम्पेन चलाया।कैम्पेन में शामिल टीईटी शिक्षक नेता अश्विनी पांडे और राहुल विकास ने बताया कि कैम्पेन के जरिये टीईटी शिक्षकों ने अपनी बात जनप्रतिनिधियों तक पहुंचायी। प्रधान शिक्षकों की बहाली में प्रशिक्षणोपरांत आठ वर्षों के शिक्षण अनुभव की अनिवार्यता है। इससे अधिकांश टीईटी शिक्षक परीक्षा में शामिल नहीं हो पायेंगे।

यह भी पढ़ें - सरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों का 3%बढ़ा डीए  अब हो गया 34% वेतन में होगी काफी वृद्धि।

दूसरी ओर प्रधान शिक्षकों की बहाली में सीपीएड एवं डीपीएड योग्यताधारी शिक्षकों को शामिल करने एवं शिक्षण अनुभव की समाप्ति की मांग को लेकर बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ ने छह अप्रैल को जिला मुख्यालयों पर धरना-प्रदर्शन का आह्वान किया है। बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार पप्पू ने कहा कि मांगों में वेतन में 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी के निर्धारण में विसंगतियों का निराकरण, 12 वर्षों की सेवा पर वेतन उन्नयन एवं आठ वर्षों की सेवा पर स्नातक ग्रेड में प्रोन्नति, डीपीई शिक्षकों एवं नव प्रशिक्षित शिक्षकों के बकाये का भुगतान भी शामिल है।

 

यह भी पढ़ें - शिक्षक, डॉक्टर और आंगनवाड़ी का बिहार सरकार ने कर दिया खेला, अब प्रत्येक स्कूल में बायोमेट्रिक से हाजरी बनेगा और उसी को वेतन का भुगतान होगा।

पहले ड्रॉपआउट का पता लगे फिर शिक्षा की नीति बने।

पटना। जातिगत जनगणना इस बात का पता लगाने के लिए हो कि किन जातियों के कितने बच्चे स्कूल की पढ़ाई छोड़ देते हैं। बिहार स्मृति व्याख्यान विश्वविद्यालय के कार्मिक ये बातें पटना विश्वविद्यालय के दूर शिक्षा निदेशालय के निदेशक प्रो. खगेंद्र कुमार ने सोमवार को यहां ब्रह्मदेव नारायण स्मृति व्याख्यान में कहीं। यह आयोजन राज्य शिक्षा अधिकार मंच एवं प्रबंधन एवं औद्योगिक संबंध विभाग ने सोमवार को दरभंगा हाउस में किया था। प्रो. कुमार ने कहा कि किन-किन जातियों के बच्चों में ड्रॉपआउट का कितना प्रतिशत है, इसका पता चलने से शैक्षिक नीतियों के सूत्रण में मदद मिलेगी।

 

यह भी पढ़ें - शिक्षक, डॉक्टर और आंगनवाड़ी का बिहार सरकार ने कर दिया खेला, अब प्रत्येक स्कूल में बायोमेट्रिक से हाजरी बनेगा और उसी को वेतन का भुगतान होगा।

इसकी अध्यक्षता प्रो. कामेश्वर प्रसाद ने की। विषय प्रवेश प्रो. वसी अहमद ने किया। बिहार राज्य शिक्षा अधिकार मंच के सचिव आशुतोष कुमार राकेश ने आयोजन के औचित्य की चर्चा की। वक्ताओं में रामाकांत सुधांशु भी शामिल थे। संचालन मनोज कुमार ने किया तथा बिहार राज्य शिक्षा अधिकार मंच के अध्यक्ष सुदेश प्रसाद ने किया। इस अवसर पर अक्षय कुमार, अंजय कुमार यादव, प्रो. शशिभूषण कुमार एवं दानी प्रजापति भी उपस्थित थे।


Buy Amazon Product