बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

शिक्षकों को समान काम समान वेतन पुरानी पेंशन राज्य कर्मी का दर्जा अब जल्द मिलेगी ले लिया ऐसे मिलना तय है

शिक्षकों को समान काम समान वेतन पुरानी पेंशन राज्य कर्मी का दर्जा अब जल्द मिलेगी ले लिया ऐसे मिलना तय है

संघर्ष के कारण ही शिक्षकों को मिला अधिकार
बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ के आह्वान पर बाईपास स्थित संघ भवन में शिक्षक आंदोलन की 17वीं वर्षगांठ पर संकल्प सभा आयोजित कर संघर्ष दिवस मनाया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता संघ के जिलाध्यक्ष रमेश कुमार सिंह ने की वहीं संचालन अशोक पाण्डेय ने किया।
बतौर अतिथि उपस्थित संघ के प्रदेश सचिव धनंजय सिंह, जिलाध्यक्ष रमेश कुमार सिंह, जिला उपाध्यक्ष संतोष सिंह, जिला मीडिया प्रभारी अशोक पाण्डेय ने संयुक्त रूप से कहा कि शिक्षकों ने संघर्ष कर विभिन्न समस्याओं से निजात पाई है।

यह भी पढ़ें - 31 दिसंबर तक सभी सरकारी एवं प्राइवेट स्कूल हो गए बंद जिलाधिकारी ने दिया आदेश पत्र हुआ जारी

 राज्यकर्मी का दर्जा, समान काम-समान वेतन, पुरानी पेंशन, वरीयता, ऐच्छिक स्थानांतरण, प्रोन्नति वेतन विसंगति दूर करने जैसी मांगे वर्तमान में लंबित हैं। इसके निदान हेतु शिक्षकों को एकजुट होकर ठोस आंदोलन करने की आवश्यकता है। कहा कि 24 दिसंबर 2005 को लाखों अनुबंध मानदेय पर काम करने वाले शिक्षकों ने सरकार की शिक्षा व शिक्षक विरोधी नीति के विरुद्ध राजधानी पटना में जोरदार आंदोलन किया था। सरकार की दमनकारी नीतियों का कोपभाजन शिक्षकों को बनाया गया। आंदोलन को चकनाचूर करने हेतु पुलिसिया जुल्म किए गए परंतु शिक्षक अपनी मांगों को लेकर आंदोलन करते रहे। अंततः सरकार ने सेवा के नियमितीकरण एवं वेतन सुधार करते हुए कई सुविधाएं दी। 

यह भी पढ़ें - अधिक ठंड के कारण 26 दिसंबर से 31 दिसंबर तक सभी सरकारी स्कूल होंगे बंद शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव ने जारी किया पत्र

आंदोलन की वर्षगांठ प्रत्येक वर्ष संघ द्वारा मनाई जाती है। वक्ताओं ने कहा कि शिक्षा से ही समाज विकास के पथ पर अग्रसर होता है लेकिन सरकार शिक्षकों को आर्थिक सामाजिक व मानसिक रुप से प्रताड़ित कर नया बिहार बनाने का सपना देखती आ रही है। जिला उपाध्यक्ष रणविजय कुमार, उदय कुमार, जिला कोषाध्यक्ष सुनील कुमार सिंह, जिला सलाहकार मनोज कुमार, जिला कार्यालय सचिव सुबोध कुमार सुमन, जिला उपाध्यक्ष श्री रजक, जिला प्रवक्ता डॉ चंद्र दीप राम, जिला सचिव उपेंद्र कुमार, संजय कुमार, राकेश रंजन, 

यह भी पढ़ें - शिक्षकों के अंतर वेतन एवं एरियर के भुगतान का समय निर्धारण हो गया आप भी जान ले

प्रभात कुमार, सरोज पांडेय, आलोक कुमार, रामाशीष चौरसिया, सुनील कुमार रंजन, विजय कुमार, नंदकिशोर कुमार प्रमोद वर्मा, बैद्यनाथ प्रसाद, श्रवण कुमार सिंह, केदार प्रसाद, शैलेंद्र कुमार, नंदकिशोर कुमार, राजेश कुमार सिंह, किशोर कुनार, मीना कुमारी, रामाशीष सिंह, नंदकिशोर सिंह, अमिताभ कुमार सिंह, रोशन कुमार सिंह, अमित कुमार, अजय कुमार यादव, राजेश कुमार, श्रवण कुमार सिंह, उपेंद्र कुमार सिंह, रूपेश कुमार सिंह, भूपेश कुमार सिंह, कामेश्वर मेहता, सिद्धेश्वर भगत उपस्थित रहे।


Buy Amazon Product