बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

2006 से लेकर अब तक के दक्षता वाले शिक्षकों के लिए आ गई सबसे बड़ी खबर पत्र हो गया जारी।

2006 से लेकर अब तक के दक्षता वाले शिक्षकों के लिए आ गई सबसे बड़ी खबर पत्र हो गया जारी।

पटना। राज्य के प्रारंभिक स्कूलों में नई शिक्षक नियोजन नियमावली लागू होने के बाद नियुक्त ऐसे शिक्षक जो तीन बार राज्य शिक्षा शोध एवं प्रशिक्षण परिषद द्वारा आयोजित प्रारंभिक शिक्षक दक्षता (मूल्यांकन) परीक्षा में फेल हो गये हैं, उनके लिए विभाग ने विशेष पढ़ाई की व्यवस्था की है। ऐसे शिक्षक छह माह की विशेष पढ़ाई करेंगे। उनके लिए एससीईआरटी ने प्रशिक्षण का मॉडल तैयार किया है। जिलावार दक्षता परीक्षा में फेल शिक्षकों को यह विशेष प्रशिक्षण उनके नजदीक के शिक्षक प्रशिक्षण संस्थान के व्याख्याता द्वारा कराया जाएगा। इसी सप्ताह प्राथमिक निदेशक रवि प्रकाश ने इसको लेकर सभी जिलों के जिला शिक्षा पदाधिकारियों को विस्तृत निर्देश जारी किया था। गौरतलब है कि आरंभिक चरणों में नियोजित शिक्षकों की दक्षता पर कई प्रकार के सवाल उठने के बाद शिक्षा विभाग ने उनके मूल्यांकन की परीक्षा का आयोजन करने का निर्णय लिया था।

यह भी पढ़ें - अब शिक्षकों को नियुक्ति तिथि से मिलेगा वेतनमान का लाभ अन्य जिलों के शिक्षकों को मिलेगा लाभ शिक्षकों में खुशी की लहर।

तब विभाग ने यह निर्णय किया था कि इस परीक्षा को उत्तीर्ण करने के लिए नियोजित शिक्षकों को दो अवसर दिए जायेंगे, साथ ही उत्तीर्ण करने वालों को ही वेतनवृद्धि समेत अन्य लाभ दिया जाएगा। दो बार फेल करने वालों को हटाने का भी प्रावधान था। पहली बार 2009 में दक्षता परीक्षा ली गई थी। इसमें एक लाख से अधिक शिक्षक शामिल हुए थे। दूसरी बार 2010, फिर 2013 और चौथी बार 2016 में दक्षता परीक्षा ली गई। दूसरी बार दक्षता परीक्षा में 2734 शिक्षक फेल हो गए, तो ऐसे शिक्षकों ने इस निर्णय को हाईकोर्ट में चुनौती दी। तब कोर्ट ने विभाग को इन्हें एक और मौका देने को कहा, पर तीसरी बार की परीक्षा में भी करीब 800 शिक्षक फेल हो गये। उन्हें सुप्रीम कोर्ट से राहत मिली।

यह भी पढ़ें - आखिरकार बरसों इंतजार के बाद शिक्षकों को स्थानांतरण तबादला करना ही पड़ा विभाग ने पत्र किया जारी।

38 जिलों में कुल 724 हैं असफल, 14 डायट को मिला जिम्मा

राज्यभर के 34 जिलों में शिक्षा विभाग को मिली रिपोर्ट के मुताबिक कुल 724 दक्षता परीक्षा में तीसरी बार असफल शिक्षक हैं। इनमें सबसे अधिक अररिया में 77 सुपौल में 66, किशनगंज में 61, कटिहार में 57, मधुबनी, पूर्णिया और मधेपुरा में 44-44, दरभंगा में 36, सहरसा में 29, समस्तीपुर में 25, गया में 24, पू. चंपारण में 20, जमुई में 18 है। अन्य जिलों में यह संख्या कम है। विभाग ने 14 डायट को इनके छह माह के प्रशिक्षण का दायित्व सौपा है। गया डायट को 44, फारबिसगंज 77, भागलपुर 30, पीटीईसी महेन्द्र पटना 33, पूरब सराय मुंगेर 58, रामबाग मुजफ्फरपुर 61 दरभंगा 61, सारण 12, सहरसा सीटीई को दो बैच में 95, मधेपुरा 44, कटिहार 57 किशनगंज 61, मधुबनी 44 और पूर्णिया डायट को भी 44 असफल शिक्षकों के प्रशिक्षण का दायित्व विभाग ने सौंपा है।

यह भी पढ़ें - 2003 से अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए आ गई सबसे बड़ी खबर इस फंड से 50 हजार से 75 हजार तक एकमुश्त होगा भुगतान।

प्रशिक्षण शुरू

शिक्षकों को विशेष प्रशिक्षण के जरिए दक्षता परीक्षा उत्तीर्ण करने की तैयारी 2 जुलाई से आरंभ हो गई है। मिली जानकारी के मुताबिक अगले शनिवार, रविवार (9, 10 जुलाई) से यह प्रशिक्षण जोर पकड़ेगा।

 

पीएमओ के हस्तक्षेप के बाद छेड़खानी मामले में दर्ज हुई प्राथमिकी

डेढ़ साल पहले शिक्षिका ने दिया था आवेदन

गया। जिले के रामरुचि बालिका इंटर विद्यालय की एक शिक्षिका ने 6 मार्च 2021 को म्यूजिक शिक्षक के खिलाफ छेड़खानी की शिकायत विद्यालय के प्राचार्य से की थी। इसके बाद महिला थाना और पीएमओ में भी आवेदन भेजा था। विद्यालय में दिए गए आवेदन पर शिक्षा विभाग की ओर से प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी ने मामले की जांच की जिसमें शिक्षक को निर्दोष बताया।  इसके बाद मामला दर्ज न होता देख पीड़ित शिक्षिका ने पीएमओ से गुहार लगाई। आखिर में प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के दखल के बाद 27 जून को घटना के डेढ़ साल बाद कोतवाली थाना में शिक्षक और स्कूल के क्लर्क के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।

यह भी पढ़ें - UTI, SSA, EPFO राशि भुगतान को लेकर जिला अध्यक्ष रंजीत वर्मा एवं अन्य संगठन पदाधिकारी के साथ लिया अहम फैसला जल्द होगा भुगतान

इस संबंध में पीड़ित शिक्षिका ने बताया कि गया संग्रहालय में 26 जनवरी 2021 को सांस्कृतिक कार्यक्रम संपन्न होने के बाद वह लौट रही थी, इसी बीच छेड़खानी की कोशिश की गई थी। इसकी शिकायत के बाद म्यूजिक शिक्षक को विभागीय जांच में क्लीन चिट मिल गई। पीएमओ कार्यालय से आए जांच के आदेश के बाद गया पुलिस ने संज्ञान लेते हुए कोतवाली थाना में म्यूजिक शिक्षक और क्लर्क पर प्राथमिकी दर्ज की है। इस मामले में टाउन डीएसपी पीएन साहू ने बताया कि पीएमओ के आदेश के बाद छेड़खानी की शिकायत पर कोतवाली थाना में प्राथमिकी दर्ज कर अनुसंधान की जा रही है।

हाईस्कूल में एक ही साथ बैठते हैं दो-तीन क्लास के बच्चे

गया। शेरघाटी के गोपालपुर हाई स्कूल में शिक्षकों की कमी के कारण दो-तीन क्लास के बच्चों को एक ही कमरे में बैठाने की मजबूरी है। पढ़ाई के कमरों का भी इस स्कूल में अभाव है।


Buy Amazon Product