बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

जनगणना कार्य अवधि के लिए नियोजित एवं नियमित शिक्षकों विभाग ने जारी कर दिया निर्देश इसे जरूर पढ़ ले

जनगणना कार्य अवधि के लिए नियोजित एवं नियमित शिक्षकों  विभाग ने जारी कर दिया निर्देश इसे जरूर पढ़ ले

स्कूल ऑवर के बाद ही जनगणना कार्य
एसडीएम ने कहा कि जातीय जनगणना के पहले चरण में नजरी नक्शा के साथ मकान की नंबरिंग तथा संक्षिप्त मकान की सूची बनाई जाएगी। जातीय जनगणना में अगर कोई भी त्रुटि होती है वास्तविक जनगणना प्रभावित होगी इसलिए गंभीरतापूर्वक प्रशिक्षण लेकर ही जनगणना का कार्य 5 जनवरी से शुरू करें। आपके मूल ड्यूटी के अलावा जनगणना कार्य का अलग से मानदेय दिया जाएगा, इसलिए कार्यालय अवधि के बाद ही जनगणना का कार्य करें।

यह भी पढ़ें - प्राइमरी से लेकर हाईस्कूल तक के शिक्षक इस परीक्षा को पास कर लेंगे तो वेतन में हो जाएगा वृद्धि जरूर जान ले

 उन्होंने कहा कार्यालय अवधि में अनुपस्थित पाए जाने पर सख्त कार्रवाई करें की जाएगी। जब तक बच्चे विद्यालय में नहीं आ रहे हैं तब तक आप जनगणना के कार्य से विद्यालय छोड़कर जाने पर रजिस्टर पर उसको मेंशन करके जाना है। जब विद्यालय में बच्चे आने लगेंगे तो किसी भी हाल में इसी को छोड़कर जनगणना कार्य में नहीं जाएंगे। जनगणना अवधि में हम खासकर सभी विद्यालय और कार्यालय का निरीक्षण करेंगे। जो भी कम अपने यूटी से गायब पाए जाएंगे उनके मानदेय पर रोक लगाई जाएगी। जनगणना कार्य में किसी भी कर्मी की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

यह भी पढ़ें - जनगणना कार्य अवधि के लिए नियोजित एवं नियमित शिक्षकों विभाग ने जारी कर दिया निर्देश इसे जरूर पढ़ ले

राज्य के विश्वविद्यालयों में पांच हजार कर्मियों की होगी नियुक्ति
पटना।
बिहार में नौकरी की तलाश कर रहे  युवाओं के लिए राज्य सरकार नए साल में बड़ा अवसर लेकर आई है। राज्य के विश्वविद्यालयों में शिक्षकेत्तर कर्मियों के खाली पांच हजार पदों पर नियमित नियुक्ति होगी। यह नियुक्ति बिहार राज्य कर्मचारी चयन आयोग के माध्यम से होगी। इसे लेकर शिक्षा विभाग ने गाइड लाइन तैयार किया है। इसमें विश्वविद्यालयों के अतिरिक्त उनके अधीनस्थ अंगीभूत महाविद्यालयों में तृतीय श्रेणी के कर्मियों की नियमित नियुक्ति का एजेंडा शामिल है। विभाग ने कर्मियों के सृजित पदों और उसके विरुद्ध रिक्तियों की सूचना देने का आदेश कुलपतियों को दिया है। यह सूचना शिक्षा विभाग के पोर्टल पर देनी है। 

यह भी पढ़ें - शिक्षकों के वेतन के लिए 33 अरब 50 करोड़ जारी देख ले वेतन बढ़ोतरी के साथ कितना होगा भुगतान

उच्च शिक्षा निदेशालय के मुताबिक राज्य के 13 पारंपरिक विश्वविद्यालयों में पटना विश्वविद्यालय, पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय, मगध विश्वविद्यालय, वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय, जयप्रकाश विश्वविद्यालय, बीआरए बिहार विश्वविद्यालय, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, बीएन विश्वविद्यालय, पूर्णिया विश्वविद्यालय, तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय, मुंगेर विश्वविद्यालय, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय एवं मौलाना मजहरुल हक अरबी-फारसी विश्वविद्यालय में कर्मचारियों की नियुक्ति हेतु जानकारी मांगी गई है। इन विश्वविद्यालयों के अधीन लगभग 268 अंगीभूत महाविद्यालय हैं।

यह भी पढ़ें - लाखों नियोजित शिक्षकों के वेतन के साथ एरियर का भुगतान जल्द होगा ₹21 अरब का हो गया आवंटन संयुक्त सचिव ने जारी किया पत्र

 इससे राज्य के विश्वविद्यालयों में प्रशासनिक एवं वित्तीय व्यवस्था दुरुस्त होगी। शैक्षिक सत्र नियमित होगा एवं उच्च शिक्षा में सकल नामांकन अनुपात बढ़ेगा। इसे शिक्षा विभाग के उच्च शिक्षा निदेशालय ने अपनी भावी योजनाओं में शामिल किया है। प्रस्तावित योजनाओं के मुताबिक विश्वविद्यालयों में प्रशासनिक सुधार के लिए अधिकारियों को प्रशिक्षित किया जाएगा। विश्वविद्यालयों का बजट साफ्टवेयर से बनेगा। बजट की मानीटरिंग भी साफ्टवेयर से होगी। शैक्षिक सत्र नियमित करने के लिए परीक्षाएं समय से होंगी। परीक्षा परिणाम भी समय से दिए जाएंगे।


Buy Amazon Product