बड़ी खबरें

बड़ी खबर: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पढ़ाई के साथ कमाई भी होगी: धर्मेंद्र प्रधानबड़ी खबर: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पढ़ाई के साथ कमाई भी होगी: धर्मेंद्र प्रधान दिवाली से पहले कर्मचारियों ब शिक्षकों को मिल सकता है बंपर तोहफा 3 जगह से आएगा पैसा जान ले कैसे?दिवाली से पहले कर्मचारियों ब शिक्षकों को मिल सकता है बंपर तोहफा 3 जगह से आएगा पैसा जान ले कैसे? कैचअप कोर्स से बच्चों और शिक्षकों का 3 ग्रेड में होगा मूल्यांकन जाने विस्तार से उसके बाद शिक्षकों का क्या होने वाला है? कैचअप कोर्स से बच्चों और शिक्षकों का 3 ग्रेड में होगा मूल्यांकन जाने विस्तार से उसके बाद शिक्षकों का क्या होने वाला है? 3.57 लाख शिक्षकों को 15% वेतन वृद्धि का लाभ वित्त विभाग से आने के बाद अब नए साल में मिलने की उम्मीद: अपर मुख्य सचिव3.57 लाख शिक्षकों को 15% वेतन वृद्धि का लाभ वित्त विभाग से आने के बाद अब नए साल में मिलने की उम्मीद: अपर मुख्य सचिव प्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक प्रधानाध्यापक पद का जिला भार हुआ आवंटन पत्र हुआ जारी।:प्राथमिक शिक्षा निर्देशकप्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक प्रधानाध्यापक पद का जिला भार हुआ आवंटन पत्र हुआ जारी।:प्राथमिक शिक्षा निर्देशक शिक्षकों को बरगला रही सरकार 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी स्थानांतरण एवं प्रोन्नति का भी मामला लटका। शिक्षकों को बरगला रही सरकार 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी स्थानांतरण एवं प्रोन्नति का भी मामला लटका।

राज्य के इन सभी सरकारी स्कूलों के शिक्षकों पर कार्रवाई तय शिक्षा विभाग ने जारी कर दिया निर्देश।

राज्य के इन सभी सरकारी स्कूलों के शिक्षकों पर कार्रवाई तय शिक्षा विभाग ने जारी कर दिया निर्देश।

राज्यभर के 127 शिक्षकों पर कार्रवाई तय।
पटना। विभागीय आदेश की अवहेलना करने वाले राज्य के 127 स्कूली शिक्षकों पर शिक्षा विभाग की कार्रवाई तय मानी जा रही है। ये ऐसे शिक्षक हैं जो संकुल संसाधन केन्द्र समन्वयक थे और जिन्हें अपने मूल पदस्थापना वाले विद्यालयों में तत्काल प्रभाव से योगदान करने को कहा गया था। परंतु सितम्बर के अंत तक विभागीय समीक्षा में यह स्पष्ट था कि 27 सितम्बर तक 127 शिक्षकों ने मूल पद पर योगदान नहीं किया था। विभाग ने ऐसे शिक्षकों पर कार्रवाई आरंभ कर दी है। निलंबन से लेकर आदेश की अवहेलना के चलते इन्हें विभागीय कार्रवाई के अधीन भी लिया जा सकता है। इनकी वजह से संबंधित जिला शिक्षा अधिकारियों से भी स्पष्टीकरण पूछने की शुरुआत की जा चुकी है।

यह भी पढ़ें - बिहार के साढे चार लाख नियोजित शिक्षकों के वेतन से पेशा कर कटौती को लेकर वाणिज्य विभाग ने शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव को लिखा, पत्र हुआ जारी।

शिक्षा विभाग तक निरंतर शिकायत आ रही थी कि 'कृपापात्र' शिक्षक संकुल संसाधन केन्द्र में बतौर समन्वयक वर्षो से पदस्थापना कराकर जमे हैं। अपने मूल काम, बच्चों को पढ़ाए बिना ही उन्हें वेतन मिल रहा है। ऐसे शिक्षकों की संख्या भी राज्यभर में 5317 थी। अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने 2 सितम्बर को इन सभी 5317 का पदस्थापना रद्द करते हुए मूल विद्यालय में योगदान कर बच्चों को पढ़ाने के कार्य में लग जाने का आदेश दिया। सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को तत्काल प्रभाव से इसे सुनिश्चित कराते हुए 16 सितम्बर तक अनुपालन रिपोर्ट देने को कहा गया। इसके बाद जो रिपोर्ट मुख्यालय में आयी, उसके मुताबिक 5190 शिक्षकों ने ही मूल स्कूल में योगदान दिया। सीआरसीसी में अपना प्रभार इनमें से 4827 ने ही सौंपा। अर्थात 313 ऐसे समन्वयक 27 सितम्बर तक थे, जिन्होंने अपना प्रभार नहीं सौंपा था पर वे मूल विद्यालय लौट गये थे। अब इस सप्ताह इस मामले की समीक्षा होगी।

यह भी पढ़ें - शिक्षकों के वेतन से होगी कटौती विभाग करेगी वसूली होगी शिक्षा विभाग ने दिया आदेश।

जेईई एडवांस में फिजिक्स व मैथ के प्रश्नों ने उलझाया।
पटना : जेईई एडवांस की रविवार को हुई परीक्षा में मैथ एवं फिजिक्स के सवालों ने अभ्यर्थियों को काफी परेशान किया। परीक्षा दो सत्रों में आयोजित की गई थी। राजधानी में 20 एवं राज्य में 40 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। परीक्षा सुबह नौ बजे ही प्रारंभ हो गई, जो शाम को साढ़े पांच बजे तक चली। प्रथम पेपर की परीक्षा नौ से 12 बजे तक चली। दूसरे पेपर की परीक्षा 2.30 से 5.30 बजे तक चली। एडवांस की परीक्षा के आधार पर ही छात्रों का देश के आइआइटी संस्थानों में नामांकन होगा।
मुंगेर से पाटलिपुत्र स्थित केंद्र से पर परीक्षा देने आए गौरव कुमार का कहना था कि गणित के सवालों से थोड़ी परेशानी हुई। केमिस्ट्री के सवाल सबसे आसान थे। सवाल अधिक कठिन नहीं थे, लेकिन उन्हें हल करने में समय लग रहा था। इसी परीक्षा केंद्र पर कंकड़बाग से परीक्षा देने आई मोनी कुमारी का कहना था कि जेईई एडवांस में उम्मीद के अनुसार ही सवाल आए। पेपर में दस फीसद सवाल कठिन थे। इन्हें हल करने में काफी समय लग गया। बाकी सवाल औसत दर्जे के थे। दस अक्टूबर तक प्रोविजनल आंसर की जारी की जा सकती है। 15 अक्टूबर को रिजल्ट जारी हो सकता है।


Buy Amazon Product