बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

शिक्षकों को बरगला रही सरकार 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी स्थानांतरण एवं प्रोन्नति का भी मामला लटका।

शिक्षकों को बरगला रही सरकार 15 प्रतिशत की वेतन बढ़ोतरी स्थानांतरण एवं प्रोन्नति का भी मामला लटका।

पटना। राज्य सरकार सूबे के प्राथमिक से उच्च माध्यमिक विद्यालयों में पदस्थापित करीव 3.69 लाख शिक्षकों के साथ दोयम दर्जे का रवैया अपना रही है। कदम कदम पर शिक्षकों को वरगलाती है सरकार । देती है कम और ढ़िढ़ोरा पीटती है उससे कहीं ज्यादा वेतन का भुगतान भी किया जाता है तो ढ़िढ़ोरा ऐसे पीटा जाता है जैसे शिक्षकों को खैरात दिया जा रहा है। ये बातें शिक्षक अस्मिता वचाओ अभियान समिति के प्रदेश प्रतिनिधि आनंद मिश्रा ने कही। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में भी राज्य का सबसे ज्वलंत मुद्दा है। यदि कुल मिलाकर देखा जाए तो शिक्षकों की ऐतिहासिक लंबी चली हड़ताल एवं उसके बाद सरकार की घोषणा और आदेशों को लागू नहीं होने से शिक्षकों एवं पुस्तकालयाध्यक्षों में काफी निराशा है और वे अपने आप को ठगा महसूस कर रहे हैं। टालमटोल नीति की वजह से शिक्षक तनाव में हैं। उसके कारण गुणवतापूर्ण शिक्षा पर भी असर पड़ना लाजिमि है।

यह भी पढ़ें - प्रारंभिक विद्यालयों के शिक्षकों का भविष्य निधि खाता अद्यतन होगा वेतन में होगी काफी वृद्धि।

हड़ताल में हुए समझौते के बावजूद में के सरकार ने नहीं की पूरी मांग आनंद मिश्रा ने बताया कि वर्ष 2015 में शिक्षकों ने अपनी वाजिव मांग को लेकर 37 दिन और वर्ष 2020 में 78 दिनों का हड़ताल किया। 2015 में लिपिक व चतुर्थवर्गीय कर्मियों को दिया गया वेतनमान उन्होंने बताया कि 2009 से लागतार अपनी मांगों को लेकर आंदोलन करनेवाले राज्य के नियोजित शिक्षकों एवं पुस्तकालयाध्यकक्षों को 2015 में सरकार से हुई समझौता के बाद कुछ आस जगी। मगर वेतनमान देने के नाम पर उन्हें लिपिक और चतुर्थवर्गीय कर्मचारी का वेतनमान सरकार द्वारा लागू किया गया। जिसे शिक्षकों ने उक्त वेतनमान को चाईनीज नाम दिया गया। क्योंकि उक्त वेतनमान में भी कटौती कर गई । इतना ही नहीं सेवाशर्त की मांग पर एक कमिटी वना दी गई, जिसे तीन महीने के अंदर अपनी रिपोर्ट देनी थी।

यह भी पढ़ें - बरसों का इंतजार हुआ खत्म 15 दिसंबर के बाद होगा शुरू शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव ने दिया आदेश।

उसके बाद 2020 के आंदोलन के बाद सरकार ने वेतन में 15 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी, सेवाशर्त जिसमें स्थांतरण, प्रोन्नति सहित कई आदेश शामिल थे और ईपीएफ का लाभ सितंबर 2020 से देने की बात कही गई। ईपीएफ की बात करें तो उसे भी पटना हाईकोर्ट के आदेश और केन्द्रीय नियमावली के के विपरित नियुक्ति तिथि से लागू नहीं की गई । इतना ही नहीं सभी शिक्षकों का मूल वेतन 15,000 हजार पर ही ईपीएफ की कटौती की घोषणाओं पर अमल नहीं होने से ठगा महसूस कर रहे हैं शिक्षक जा रही है। उक्त मामले को लेकर कई शिक्षकों ने पटना हाईकोर्ट में अवमानना वाद भी दायर कर चुके हैं। अधिसूचना जारी होने के एक साल बाद भी नहीं हुई बढ़ोतरी आनंद मिश्रा ने बताया कि वहीं वेतन की वात करें तो मांग को दरकिनार कर एवं सरकार द्वारा उच्चत्तम न्यायालय में दिए गए।

यह भी पढ़ें - राज्य के 38 जिलों के डीईओ स्कूलों में अब इन चीजों की करेंगे निरीक्षण शिक्षक हो जाएं तैयार मिल गया निर्देश।

हलफनामा के में विपरित 1 अप्रैल 2021 से 15 प्रतिशत बढ़ोत्तरी की घोषणा की। कैविनेट का आदेश और शिक्षा विभाग की अधिसूचना जारी करने के एक साल से अधिक समय बीत जाने के बाद भी अब तक शिक्षकों को 15 प्रतिशत वेतन बढ़ोतरी का भुगतान नहीं किया गया।

प्रोन्नति का मामला भी लटका।

उन्होंने बताया कि शिक्षकों की प्रोन्नति के मामले में पहले विभाग ने नियम बनाया था कि 7 वर्षों की सेवा के उपरांत शिक्षकों को प्रोन्नति दी जाएगी। बाद में सेवाशर्त में इसे बदल दिया गया और जो बदलाव किया गया।


Buy Amazon Product