बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

सरकार ने किया बड़ा आदेश अब ग्रीष्मा अवकाश या गर्मी छुट्टी मात्र 10 दिनों का ही होगा

सरकार ने किया बड़ा आदेश अब ग्रीष्मा अवकाश या गर्मी छुट्टी मात्र 10 दिनों का ही होगा

ओडिशा सरकार ने स्कूलों में ग्रीष्मकालीन अवकाश 50 दिन से घटाकर 10 दिन करने की शनिवार को घोषणा की. कोविड-19 के कारण स्कूलों के बंद रहने से पढ़ाई को हुए नुकसान के मद्देनजर विद्यार्थियों के हित में यह फैसला लिया गया है. स्कूल और सर्व शिक्षा विभाग द्वारा जारी एक अधिसूचना में कहा गया कि " ग्रीष्म अवकाश की अवधि को कम कर 6 जून 16 जून, 2022 तक किया गया है. एक अधिकारी ने बताया कि स्कूलों में होने वाली 50 दिनों की गर्मी की छुट्टियां अब 10 दिनों की होंगी. साथ ही उन्होंने कहा कि गर्मी को ध्यान में रखते हुए 1 मई से 5 जून तक स्कूलों में शिक्षण का समय सुबह 6 बजे से 9 बजे तक होगा. पिछले दो वर्षों से राज्यों में कोविड-19 के कारण लागू लॉकडाउन के चलते स्कूल बंद रहे. बिना परीक्षा दिये ही विद्यार्थियों को अगली कक्षा में प्रोन्नति दे दी गयी.

यह भी पढ़ें - राज्य के सरकारी स्कूलों में अब नए कार्यक्रम होंगे संचालित शिक्षकों के लिए लागू होंगे नियम जरूर जान ले।

 

कोर्ट के आदेश पर शिक्षक नियोजन के लिए काउंसिलिंग

 

शिक्षक नियोजन राज्य अपीलीय प्राधिकार के निर्देश पर करीब 12 वर्षों से चले आ रहे एक मामले में शनिवार को प्रखंड की सुखरौली पंचायत में दो अभ्यर्थियों की काउंसिलिंग कराई गई। शनिवार को सुखरौली के पंचायत भवन में पंचायत सचिव ने शिक्षक नियोजन के लिए इब्राहिमपुर निवासी राजबल्लभ सिंह और बचरी निवासी लालमोहर राम के पुत्र कमलेश राम की काउंसिलिंग कराई।

यह भी पढ़ें - आखिरकार नियोजित शिक्षकों के लिए शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने लगा दिया मुहर इस तारीख से यह सब लागू होने लगेंगे.

 

कमलेश राम ने बताया कि वर्ष 2008 के पंचायत शिक्षक नियोजन के दौरान सुखरौली पंचायत में राजबल्लभ सिंह और कमलेश राम ने आवेदन दिया था, लेकिन कथित तौर पर उस दौरान मेधा अंक होने के बावजूद नियोजन इकाई ने उनसे कम अंक वाले अभ्यर्थियों का नियोजन कर दिया था । तब इसके विरुद्ध दोनों अभ्यर्थियों ने जिला अपीलीय प्राधिकार का दरवाजा खटखटाया था। अपीलीय प्राधिकार के बाद हाईकोर्ट और राज्य अपीलीय प्राधिकार में 12 वर्षों तक लंबी लड़ाई लड़ने के बाद राज्य अपीलीय प्राधिकार ने भोजपुर जिला प्रशासन को उक्त दोनों अभ्यर्थियों की काउंसिलिंग कराने का निर्देश दिया है। उक्त निर्देश के आलोक में शनिवार को दोनों अभ्यर्थियों की काउंसिलिंग कराई गई। काउंसिलिंग कराये जाने के बाद दोनों अभ्यर्थियों ने खुशी जाहिर करते हुए इसे न्याय की जीत बताया है।


Buy Amazon Product