बड़ी खबरें

शिक्षकों के वेतन एवं एरियर मध्य में 26 करोड़ 18 लाख ₹90000 हुए जारी जान ले अपने जिले में कितना आया।

शिक्षकों के वेतन एवं एरियर मध्य में 26 करोड़ 18 लाख ₹90000 हुए जारी जान ले अपने जिले में कितना आया।


अल्पसंख्यक माध्यमिक विद्यालयों को मिले 26. 18 करोड़

पटना। राज्य के गैरसरकारी मान्यता प्राप्त अल्पसंख्यक माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षक एवं शिक्षकेतर कर्मचारियों हैं । के वेतनादि के लिए 26 करोड़ 18 लाख 90 हजार रुपये की राशि जारी हुई है। इससे संबंधित आदेश में कहा गया है कि गैरसरकारी मान्यता प्राप्त अल्पसंख्यक माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षक एवं शिक्षकेतर कर्मियों के वेतनादि भुगतान के लिए जिलावार आवंटनादेश के आधार पर संबंधित जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (स्थापना) के द्वारा संबंधित कोषागार द्वारा किया जायेगा। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (स्थापना) यह सुनिश्चित करेंगे कि राशि का भुगतान विधिवत संचालित अल्पसंख्यक विद्यालयों में विधिवत रूप से स्वीकृत पद के विरुद्ध नियमित रूप से नियुक्त कर्मियों को ही किया गया है। संबंधित जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (स्थापना) प्राप्त राशि का उपयोगिता प्रमाण पत्र निर्धारित अवधि के अंतर्गत महालेखाकार को उपलब्ध करायेंगे। उसकी एक प्रति शिक्षा विभाग को भी उपलब्ध कराने को  कहा गया है। राशि के व्यय में मितव्ययिता बरतने तथा राशि का विचलन अन्य मदों में नहीं करने के भी निर्देश दिये गये

यह भी पढ़ें - नियोजित शिक्षकों के लिए खुशखबरी ढाई सालों के बाद आखिरकार मिली सफलता न्यायालय ने दिया आदेश एकमुश्त ₹700000 मिलेगा

विमुक्त हुई राशि में पटना के लिए 8,45, 10, 000, शेखपुरा के लिए 34,90,000, दरभंगा के लिए 54,00,000, समस्तीपुर के लिए 22,0000, भागलपुर के लिए 2, 14,20000, अररिया के लिए 46, 10,000, सहरसा के लिए 21,70,000, रोहतास के लिए 51,50,000, नालंदा के लिए 2,66,00,000, पश्चिम चंपारण के लिए 1,74,80,000, जहानाबाद के लिए 29,70,000, मुजफ्फरपुर के लिए 1,21,80,000, गोपालगंज के लिए 1,50,10,000, सीवान के लिए 1,50,00,000, गया के लिए 1,51,10,000, नवादा के लिए 10,20,000, सारण के लिए 11,70,000, कटिहार के लिए 41,90,000, पूर्णिया के लिए 25,40,000, खगड़िया के लिए 8,00,000, मुंगेर के लिए 58,70,000, भोजपुर के लिए 1,40,20000, पूर्वी चंपारण के लिए 20,90,000 एवं बांका के लिए 48,70,000 रुपये शामिल हैं।

यह भी पढ़ें - अब शिक्षकों को मिला न्याय अपर मुख्य सचिव एवं शिक्षा मंत्री का संयुक्त बयान हुआ जारी

साक्षरता केंद्रों में चल रहे समर कैंप की होगी मॉनीटरिंग डीईओ, डीपीओ, एसआरपी, केआरपी को जन शिक्षा निदेशालय का निर्देश।

पटना। राज्य में 26,882 साक्षरता केंद्रों में चल रहे समर कैंप के संचालन की मॉनीटरिंग होगी।

प्रशिक्षण की पूर्ण तिथि से लाभ देने की मांग।

इस बाबत शिक्षा विभाग के जन शिक्षा निदेशालय द्वारा राज्य के सभी जिलों के जिला शिक्षा पदाधिकारियों, जिला कार्यक्रम पदाधिकारियों (साक्षरता), राज्य साधनसेवी समूह के सदस्यों (एसआरपी) एवं मुख्य साधनसेवियों (के आरपी) को निर्देश दिये गये हैं। निर्देश में यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि समर कैंप का संचालन शिक्षा विभाग के निर्देशों के अनुरूप हो रहा है। अगर संचालन के क्रम में कोई विसंगति आ रही हो, तो अविलंब उसका निराकरण करने और उसकी सूचना जन शिक्षा निदेशालय को देने के निर्देश भी दिये गये हैं । जन शिक्षा निदेशालय द्वारा दिये गये निर्देश में कहा गया है कि महादलित, दलित एवं अल्पसंख्यक अतिपिछड़ा वर्ग अक्षर आंचल योजना के तहत 'प्रथम' संस्था के सहयोग से सभी जिलों में 'कोई बच्चा पीछे नहीं छूटे।

यह भी पढ़ें - ढाई साल के बाद आखिरकार ने शिक्षकों को मिली सफलता न्यायालय के आदेश के बाद विभाग को अब एकमुश्त होगी भुगतान।

माता भी छूटे नहीं' कार्यक्रम के तहत चाल जून माह में सभी शिक्षा सेवक एवं सभी तालीमी मरकज के शिक्षा सेवक के माध्यम से समर कैंप का तक चलेगा । संचालन किया जा रहा है। समर कैंप में टोला स्तर शिक्षा सेवक एवं सभी तालीमी मरकज के शिक्षा सेवक के सहयोग से जो बच्चे शैक्षिक सत्र 2021-22 में 3री से 5वीं कक्षा में पढ़ते थे, उन्हें एक से दो घंटा भाषा एवं गणित संबंधी गतिविधियां की जानी हैं और असाक्षर महिलाओं को बुनियादी साक्षरता प्रदान करनी है। इसके लिए 'प्रथम' संस्था द्वारा सभी  जिलों के के आरपी एवं एसआरपी को रंजन सुमन व प्रदेश महासचिव आनंद ऑनलाइन चार घंटे का प्रशिक्षण दिया गया है। उसके बाद केआरपी एवं एसआरपी द्वारा शिक्षा सेवकों एवं सभी तालीमी मरकज के शिक्षा सेवकों को दो से तीन घंटे का प्रशिक्षण दिया गया है। आपको याद दिला दूं कि 26,882 साक्षरता केंद्रों में चल रहे समर कैंप एक जून से ही चल रहा है। यह 30 जून।

यह भी पढ़ें - डीपीई उत्तीर्ण शिक्षकों के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी 30 जुलाई को शिक्षा विभाग के उप सचिव द्वारा जारी होगी अधिसूचना।

पटना। प्रारंभिक शिक्षकों को  प्रशिक्षण पूर्णता की तिथि से प्रशिक्षण का लाभ देने की मांग  गयी है।

इस बाबत प्रारंभिक शिक्षक कल्याण संघ के प्रदेश अध्यक्ष शशि कुमारकुमार मिश्रा ने मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री, शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव एवं प्राथमिक शिक्षा निदेशक को ज्ञापन भेजा है। उसमें कहा गया है कि पंचायतीराज संस्थानों में प्रारंभिक शिक्षकों को शिक्षा विभाग द्वारा सेवाकालीन प्रशिक्षण के तहत डीएलएड रेगुलर व ओडीएल मोड में कराया गया था। शिक्षकों को प्रशिक्षण शिक्षण पूर्णता की तिथि से लाभ नहीं देते हुए परीक्षाफल प्रकाशन की तिथि से लाभ दिया गया है, जबकि इस संबंध में न्यायालय के भी निर्देश हैं। मांग करने वालों में प्रवीण कुमार रंजन, प्रकाश चंद्र जोशी, ज्योति कुमार रंजन, रामाशंकर कुमार, राहुल रंजन, दिलीप कुमार, अमित कुमार, कौशल पासवान, पंकज कुमार एवं मुकेश कुमार भी शामिल हैं।


Buy Amazon Product