बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

राज्य के नियोजित शिक्षकों के वेतन मद में 586 करोड रुपए की हो गई आवंटन एरियर के साथ वेतन का होगा भुगतान देख ले कितना मिलेगा

राज्य के नियोजित शिक्षकों के वेतन मद में 586 करोड रुपए की हो गई आवंटन एरियर के साथ वेतन का होगा भुगतान देख ले कितना मिलेगा

राज्य में समग्र शिक्षा अभियान के राज्यांश के मद में 586 करोड़ 41 लाख 39 हजार 42 रुपये की राशि जारी हुई है।इससे प्रारंभिक विद्यालयों एवं उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालयों के समग्र शिक्षा अभियान के पदों पर कार्यरत लाखों शिक्षकों का वेतन भुगतान होगा। ऐसे शिक्षकों की संख्या तकरीबन पौने तीन लाख है। इनमें 2.67 लाख प्रारंभिक शिक्षक हैं ।
समग्र शिक्षा अभियान के तहत राशि जारी करने को लेकर शिक्षा विभाग ने महालेखाकार को पत्र भेज दिया है। समग्र शिक्षा अभियान केंद्र प्रायोजित योजना है, जिसमें केंद्र और राज्य की हिस्सेदारी 60-40 है।

डीपीई योग्यताधारी शिक्षकों ने उठायी आवाज।
पटना। राज्य के प्राथमिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षकों की नियुक्ति के लिए होने वाली परीक्षा में डीपीई सहित सभी तरह के प्रशिक्षित शिक्षकों को बैठने की अनुमति देने की मांग सरकार से बिहार पंचायत नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ ने की है। संगठन ने कहा है कि परीक्षा में बैठने के लिए आठ वर्षों के न्यूनतम शिक्षण अनुभव की अनिवार्यता को शिथिल करते हुए उसे पांच वर्ष या प्रशिक्षित होने की तिथि से दो वर्ष किया जाय।इस बाबत बिहार पंचायत नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री एवं प्राथमिक शिक्षा निदेशक को ज्ञापन भेजा है। उसमें कहा गया है कि राज्य सरकार द्वारा प्रारंभिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षकों की नियुक्ति का ऐतिहासिक निर्णय लिया गया है, जिसमें पंचायतीराज के अधीन नियुक्त शिक्षकों को आयोग द्वारा आयोजित परीक्षा में सम्मिलित होने का अवसर प्रदान किया गया है, निर्गत अधिसूचना के अनुसार प्रक्षैणिक योग्यता डीईएलएड बीएड, बीएएड, बीएससीएडअथवा बीएलएड रखी गयी है।

बिहार पंचायत नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ के प्रदेश कार्यकारिणी अध्यक्ष समस्तीपुर के संघीय जिलाध्यक्ष रामचंद्र राय ने कहा कि बिहार सरकार बार-बार शिक्षकों के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है । इग्नू के माध्यम से 2007-09, 2008-10, 2009-11 और 2010-12 में लगभग दो लाख शिक्षकों को डीपीई सेवाकालीन प्रशिक्षण दिलाया गया, जिसे एनसीटीई की मान्यता भी थी। लेकिन, डीपीई की मान्यता प्रधान शिक्षक की नियुक्ति में नहीं दिये जाने से कुल साढ़े तीन लाख पंचायती राज के अधीन नियुक्त शिक्षकों में से लगभग दो लाख शिक्षक प्रधान शिक्षक की परीक्षा में बैठने से वंचित रह जायेंगे ।
इस बीच संगठन के प्रदेश उपसचिव कुमार गौरव ने कहा है कि अधिसूचना में उल्लिखित उच्चतम उम्र सीमा में सुधार करते हुए इसे शिथिल किया जाना चाहिये । इसके साथ ही कंडिका 16 में प्रधान शिक्षक के लिए अस्पष्ट पे स्केल का उल्लेख स्पष्ट रूप से किया जाना चाहिये ।


Buy Amazon Product