बड़ी खबरें

नियोजित शिक्षकों के ईपीएफओ को लेकर प्राथमिक शिक्षा निदेशक को फिर ज्ञापन सौंपा अब क्या होगा जान ले

नियोजित शिक्षकों के ईपीएफओ को लेकर प्राथमिक शिक्षा निदेशक को फिर ज्ञापन सौंपा अब क्या होगा जान ले

अनुग्रह राशि की मांग। राज्य में एक सितंबर, 2020 के बाद सेवाकाल में मृत पंचायतीराज एवं नगर निकाय शिक्षकों के आश्रितों को ईपीएफ के तहत देय अनुग्रह राशि के भुगतान की मांग शिक्षक अस्मिता बचाओ अभियान समिति ने की है। इस बाबत समिति के प्रदेश प्रतिनिधि शशिरंजन सुमन ने मुख्यमंत्री, शिक्षा विभाग अपर मुख्यसचिव एवं प्राथमिक शिक्षा निदेशक को सम्बोधित ज्ञापन में कहा है कि एक सितंबर, 2020 के बाद सेवाकाल में मृत पंचायतीराज एवं नगर निकाय शिक्षकों के आश्रितों को ईपीएफ के तहत देय अनुग्रह राशि के भुगतान की दिशा में पहल की जाय।

नियोजित शिक्षक नियोजित नहीं नियुक्त कहेंगे 50 प्रतिशत प्रोन्नति मिलेंगे मिली खुशखबरी।

 

परीक्षक बने शिक्षकों को विरमित नहीं करने वालों पर होगी काररवाई। 
मैट्रिक परीक्षा की कॉपियों की जांच के लिए परीक्षक बनाये गये शिक्षकों को विरमित नहीं करने वाले प्रधानाध्यापकों पर काररवाई होगी। इससे संबंधित निर्देश जिले के माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों के
प्राचार्यों एवं प्रधानाध्यापकों को जिला शिक्षा पदाधिकारी नीरज कुमार द्वारा सोमवार को निर्देश दिये गये हैं । मैट्रिक परीक्षा की कॉपियों की जांच 12 मार्च से ही चल रही है।24 मार्च तक कॉपियों की जांच का कार्य पूरा करने का बिहार विद्यालय परीक्षा समिति का लक्ष्य है।

यहां पटना जिले में 14 मूल्यांकन केंद्रों पर मैट्रिक परीक्षा की कॉपियों की जांच चल रही है । कॉपियों की जांच के लिए बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा हर मूल्यांकन केंद्र पर विषयवार आवंटित उत्तर पुस्तिकाओं के अनुरूप प्रधान परीक्षक एवं सह परीक्षक नियुक्त कर नियुक्ति पत्र निर्गत किये गये हैं । लेकिन, मूल्यांकन केंद्रों की रिपोर्ट के मुताबिक मूल्यांकन केंद्र पर आवंटित संख्या के अनुरूप प्रधान परीक्षकों एवं सह परीक्षकों द्वारा योगदान नहीं किया गया है।

इसे गंभीरता से लेते हुए जिला शिक्षा पदाधिकारी नीरज कुमार ने जिले के माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों के प्राचार्यों एवं प्रधानाध्यापकों को निर्देश दिया है कि प्रधान परीक्षक एवं सह परीक्षक के रूप में नियुक्त किये गये शिक्षकों को बिना किसी चूक के मूल्यांकन कार्य के लिए विरमित करें । इसके लिए उन्हें सोमवार का ही वक्त दिया गया था। विरमित नहीं करने वाले प्राचार्य-प्रधानाध्यापकों पर बिहार परीक्षा संचालन अधिनियम के तहत काररवाई होगी।


Buy Amazon Product