बड़ी खबरें

 राज्य के नियोजित शिक्षकों को वरीयता को लेकर शिक्षा मंत्री मुख्यमंत्री अपर मुख्य सचिव का संयुक्त बयान जारी राज्य के नियोजित शिक्षकों को वरीयता को लेकर शिक्षा मंत्री मुख्यमंत्री अपर मुख्य सचिव का संयुक्त बयान जारी सुबे के लाखों शिक्षकों को मिलेगी बड़ी राहत शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह को मिलीसुबे के लाखों शिक्षकों को मिलेगी बड़ी राहत शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह को मिली शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं

सरकारी स्कूलों में होने वाले साप्ताहिक अवकाश में हुआ भारी परिवर्तन शिक्षा विभाग ने पत्र हुआ जारी।

 सरकारी स्कूलों में होने वाले साप्ताहिक अवकाश में हुआ भारी परिवर्तन शिक्षा विभाग ने पत्र हुआ जारी।


सामान्य स्कूलों में उर्दू शब्द जोड़ने पर होगी कार्रवाई
राज्य में सामान्य सरकारी स्कूलों में उर्दू शब्द जोड़ने, साप्ताहिक छुट्टी को बदल कर शुक्रवार करने और प्रार्थना पद्धति में बदलाव के मामले में सरकार ने सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी है. स्कूली शिक्षा व साक्षरता विभाग के सचिव राजेश कुमार शर्मा ने सोमवार को राज्य के सभी जिलों के डीसी को पत्र लिखा है. सचिव ने लिखा है कि निर्देश को क्रियान्वित करने में यदि किसी भी व्यक्ति, विद्यालय प्रबंधन या अन्य बाधा उत्पन्न करते हैं, तो दोषी मानते हुए कार्रवाई की जाये. अधिसूचित  उर्दू विद्यालय को छोड़कर जिन विद्यालयों में उर्दू शब्द जोड़ा गया है, उनके नाम में से अविलंब उर्दू शब्द हटाया जाये. साप्ताहिक अवकाश अधिसूचित उर्दू विद्यालयों को छोड़कर शुक्रवार की जगह रविवार को हो. मध्याह्न भोजन का संचालन रविवार को नहीं होगा। गैर अधिसूचित उर्दू विद्यालयों में रविवार को शैक्षणिक गतिविधि नहीं होगी. यह भी सुनिश्चित हो कि गैर अधिसूचित उर्दू विद्यालयों में पूर्व पद्धति के अनुसार ही प्रार्थना हो।

यह भी पढ़ें - नियोजित शिक्षकों को मिलेगा वित्तीय संरक्षण का लाभ, अब वेतन में हो जाएगी वृद्धि जान ले कितना मिलेगा

आकस्मिक अवकाश को लेकर फैसला वापस नहीं तो आंदोलन'।
मुजफ्फरपुर | स्कूलों में एक साथ एक से अधिक शिक्षक को आकस्मिक अवकाश नहीं देने संबंधी डीएम के निर्देश का विरोध शुरू हो गया है। जिला प्राथमिक शिक्षक संघ ने इस फैसले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए वापस लेने की मांग की है। जिला संघ के संयुक्त प्रधान सचिव रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि नियोजित व नियमित शिक्षकों के आकस्मिक अवकाश संबंधी जो वर्तमान में नियमावली लागू है, इसमें इस तरह का कोई प्रावधान नहीं है। विद्यालय संचालन में किसी तरह का व्यवधान न हो इसको देखते हुए प्रधानाध्यापक को इस अवकाश को स्वीकृत करने का पूर्ण अधिकार प्राप्त है। जिला संघ के सचिव राजीव रंजन ने कहा, जरूरतमंद शिक्षक, शिक्षिकाओं को व्यवहारिक रूप से कठिनाई तो होगी ही। वहीं, उनका आकस्मिक अवकाश शेष रह जाएगा तथा भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलेगा। जिला प्राथमिक शिक्षक संघ ने डीएम के आदेश पर पुनर्विचार कर नियम के अनुसार फैसला लेने के अनुरोध किया है।

यह भी पढ़ें - 2006 से अब तक के नियोजित शिक्षकों के 15 फ़ीसदी बढ़ोतरी एवं अंतर वेतन भुगतान हेतु DEO ने सभी BEO को दिया ऐसा निर्देश।

कक्षा नौ में अब तक 16 लाख से अधिक नामांकन उपलब्धि
1)15 जिलों में 50 हजार से अधिक एडमिशन
2)प्रवेशोत्सव में अब तक 1.37 लाख नामांकन
पटना। कक्षा नौ में प्रदेश के सरकारी स्कूलों में अब तक 16.25 लाख से अधिक नामांकन हो चुके हैं. एक से 15 जुलाई तक चलाये गये प्रवेशोत्सव अभियान में अब तक 1.37 लाख नामांकन हुए. हालांकि, प्रवेशोत्सव अभियान को 31 जुलाई तक बढ़ाया गया था. शिक्षा विभाग की आधिकारिक जानकारी के मुताबिक नामांकन की संख्या में अभी 18 जिलों से संख्या आना बाकी है. उल्लेखनीय है कि 2022 में बिहार के सरकारी स्कूलों में कक्षा आठ में उत्तीर्ण विद्यार्थियों की संख्या 18.48 लाख है. इस तरह अभी भी कक्षा आठ में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों की तुलना में करीब दो लाख बच्चों के नामांकन कम हुए हैं. जानकारी के मुताबिक इससे पहले 30 जून तक कक्षा नौ में कुल नामांकन 14.91 लाख थे. एक से 15 जुलाई तक सभी जिलों में कुल मिला कर 3.40 लाख नामांकन करने का टारगेट दिया गया था. इस टारगेट के मद्देनजर सभी 38 जिलों 1.16 लाख से कुछ अधिक ही नामांकन कराये जा सके. लक्ष्य से काफी कम उपलब्धि पर शिक्षा विभाग ने प्रवेशोत्सव की तारीख 15 जुलाई से बढ़ा कर 31 जुलाई तक कर दी थी। जिलों से जुटायी गयी जानकारी के मुताबिक 15 जिलों में कक्षा नौ में 50 हजार से अधिक नामांकन हुए हैं. इनमें सर्वाधिक नामांकन वाले जिलों में मुजफ्फरपुर में 83842 पूर्वी चंपारण में 77502, सारण में 74886, मधुबनी में 73113, पटना में 61904, गया में 61761 सीतामढ़ी में 61427, वैशाली में 59174, सीवान में 56496 पश्चिमी चंपारण में 56096 जिलों में नामांकन किये गये हैं।


Buy Amazon Product