बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

देश में उठा जोरो जोरो से मांग आप सभी राज्यों में भी पुरानी पेंशन लागू करने कालिया जा सकता है बड़ा फैसला

देश में उठा जोरो जोरो से मांग आप सभी राज्यों में भी पुरानी पेंशन लागू करने कालिया जा सकता है बड़ा फैसला

अखिल भारतीय शिक्षा मंच के प्रदेश अध्यक्ष आलोक आजाद ने बिहार सरकार से मांग की है कि वह राजस्थान की तर्ज पर बिहार में भी पुरानी पेंशन स्कीम तुरंत लागू करे। आलोक आजाद ने कहा कि इससे पहले पंजाब में भी ऐसा किया जा चुका है। ऐसे में बिहार सरकार को पुरानी पेंशन योजना को तुरंत लागू करने फैसला लेना चाहिए।

आलोक आजाद ने कहा कि राजस्थान सरकार द्वारा पुरानी पेंशन स्कीम लागू करना ऐतिहासिक व कर्मचारी हितैषी फैसला है। पंजाब में भी सरकार ऐसा निर्णय ले चुकी है, जबकि उत्तराखंड तथा झारखंड सरकार भी लागू करने की तैयारी कर रही है। उन्होंने कहा कि पेंशन स्कीम को केन्द्र का मुद्दा बताकर कर्मचारी वर्ग की बड़ी मांग को सरकार लटकाती रही लेकिन दो राज्यों की सरकारों ने इस स्कीम को लागू करके साबित कर दिया है। ऐसे में बिहार सरकार को चाहिए कि वह पंजाब व राजस्थान सरकार का अनुसरण करते हुए कर्मचारी हितैषी फैसला ले और पुरानी पेंशन स्कीम लागू करके बिहार के शिक्षक, पुस्तकालयाध्यक्ष तथा कर्मचारी वर्ग को उसका हक दे।

यह भी पढ़ें - लाखों नियोजित शिक्षकों को नौकरी से हटाने को लेकर शुरू होगा आंदोलन ।

 

आलोक आजाद ने कहा कि पंजाब व राजस्थान की सरकारों द्वारा कर्मचारी वर्ग के हित में लिए गए निर्णय से इस मसले पर बिहार के सभी कर्मचारी संगठनों के आंदोलन को बल मिला है। उन्होंने कहा कि सरकार की जनल्याणकारी नीतियों को लागू करने, उन्हें अमलीजामा पहनाने, उन्हें जनता तक पहुंचाने और जनता को उनका लाभ देने सहित हर कार्य में बिहार के शिक्षक, पुस्तकालयाध्यक्ष तथा कर्मचारी वर्ग पर निर्भर करता है।

यह भी पढ़ें - लाखों नियोजित शिक्षकों को नौकरी से हटाने को लेकर शुरू होगा आंदोलन ।

 

सरकार व जनता के बीच में कर्मचारी महत्वपूर्ण कड़ी है लेकिन सरकार ने शिक्षक, पुस्तकालयाध्यक्ष तथा कर्मचारी वर्ग को पेंशन योजना से बाहर करके इस कड़ी को नजरअंदाज कर दिया, जो पूरी तरह से अन्यायपूर्ण है।

शराब पीकर हंगामा कर रहे दो पकड़े गए राघोपुर (वैशाली) । राघोपुर थाने की पुलिस ने दो अलग-अलग जगहों से शराब पीकर हंगामा कर रहे दो शराबियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। राघोपुर थानाध्यक्ष मुकेश कुमार पुष्पेंद्र ने बताया कि हैबतपुर निवासी गनौर साह हैबतपुर चौक पर तथा पहाड़पुर पश्चिमी निवासी राजू राय पहाड़पुर चौक s के पास शराब पीकर आने-जाने वाले राहगीरों तथा दुकानदारों के साथ मारपीट कर रहा था।


Buy Amazon Product