बड़ी खबरें

नियोजित शिक्षकों के चालू वित्तीय वर्ष एवं बकाया वेतन का भुगतान के लिए राशि हुआ आवंटन जान ले कितना मिलेगा ।नियोजित शिक्षकों के चालू वित्तीय वर्ष एवं बकाया वेतन का भुगतान के लिए राशि हुआ आवंटन जान ले कितना मिलेगा । नियोजित शिक्षकों के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी बिहार सरकार ने वेतन के साथ एरिया का भी कर दिया आवंटन कौन सा महीना का मिलेगानियोजित शिक्षकों के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी बिहार सरकार ने वेतन के साथ एरिया का भी कर दिया आवंटन कौन सा महीना का मिलेगा सरकारी स्कूलों में चल रहे वर्ग में बैठकर अफसर करेंगे निरीक्षण, शिक्षकों को मिलेगा 15 जून के बाद सेवांत लाभ का मौका। सरकारी स्कूलों में चल रहे वर्ग में बैठकर अफसर करेंगे निरीक्षण, शिक्षकों को मिलेगा 15 जून के बाद सेवांत लाभ का मौका। डीईओ कार्यालय में मची हड़कंप, 2006 के बाद वाले नियोजित शिक्षकों के दक्षता को लेकर सबसे बड़ी खुशखबरी ।डीईओ कार्यालय में मची हड़कंप, 2006 के बाद वाले नियोजित शिक्षकों के दक्षता को लेकर सबसे बड़ी खुशखबरी । प्रारंभिक विद्यालय में प्रधान शिक्षक की बीपीएससी से होने वाली परीक्षा जून के इस तारीख की हो गई घोषणा जान ले पूरा दिशा निर्देश।प्रारंभिक विद्यालय में प्रधान शिक्षक की बीपीएससी से होने वाली परीक्षा जून के इस तारीख की हो गई घोषणा जान ले पूरा दिशा निर्देश। नियोजित शिक्षकों के लिए इस वक्त बड़ी खुशखबरी स्कूलों को मिलेगा दूरी का प्रमाण पत्र अब बढ़ेगा DAनियोजित शिक्षकों के लिए इस वक्त बड़ी खुशखबरी स्कूलों को मिलेगा दूरी का प्रमाण पत्र अब बढ़ेगा DA

नियोजित शिक्षकों में खुशी की लहर मिल गई सबसे बड़ी सम्मान जान ले क्या है

नियोजित शिक्षकों में खुशी की लहर मिल गई सबसे बड़ी सम्मान जान ले क्या है

डीएम की पहल से जिले में शुरू हुआ स्मार्ट क्लास व फेसबुक पर परीक्षा की तैयारी , अभिभावक प्रभावित
सरकारी स्कूलों के प्रति बढ़ा छात्राओं का रूझान। 
सूबे में नीतीश सरकार के आने बाद से समय बदला और समय बदलने के साथ ही बदल रहा है निजी विद्यालयों के प्रति लोगों की राय। पहले जहा लोग सरकारी विद्यालय से अपने बच्चों और बच्चों को निकालकर निजी नामांकन करवा रहे थे। वहीं अब खुद बच्चियों ने कमान संभालते हुए सरकारी विद्यालयों में नामांकन करवाना शुरू करदिया है। 

साढे तीन लाख नियोजित शिक्षकों को जल्द होगा अपलोड, 31 मई तक पुरानी पेंशन के लिए आवेदन जमा करें।

 

बनकटवा की बिट्टू कुमारी ने अपना नाम सातवीं कक्षा में सरकारी विद्यालय में लिखवाया है। मध्य विद्यालय बगहा में नामांकन करवाने के बाद बताया कि निजी विद्यालयों में पढ़ाई न के बराबर हो रही है और आर्थिक शोषण हो रहा है सो अलग। दूसरी तरफ सरकारी विद्यालयों में शिक्षा के गुणवत्ता में भी सुधार हुआ आयुषी कुमारी नगर के एक निजी विद्यालय में सातवीं कक्षा की छात्र थी। बुधवार को उसने नगर के ही मध्य विद्यालय पटखौली में नाम लिखाया । वह भी निजी विद्यालयों के शोषण करने वाले रवैए से प्रभावित थी।

 ये दोनों नामांकन तो बानगी मात्र है इस तरह ने दर्जनों मामले है जिसमे निजी विद्यालय को छोड़कर सरकारी में विद्यालय में लड़कियों ने नाम लिखवाया है। मध्य विद्यालय पटखौली के एचएम रवीन्द्र गिरी ने बताया कि विद्यालय में शिक्षा के स्तर को देख अभिभावक अपने बच्चो को निजी विद्यालय से निकाल कर सरकारी में नामांकन करवा रहे हैं। अभिभावक छोटेलाल प्रसाद अखिलेश्वर प्रसाद,
गुडू लाल गुप्ता, महेंद्र यादव आदि ने बताया कि सरकारी विद्यालय में स्मार्ट क्लास की शुरूवात हो चुकी है। समय समय पर सरकारी विद्यालयों में बच्चो की प्रतिभा को निखारने के लिए कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। 

सबसे बड़ी बात तो यह है कि निजी विद्यालयों में जिस कार्यक्रम के लिए अभिभावकों से मोटी फीस वसूली जाती है वह सरकारी विद्यालयों में निशुल्क है।पिछले साल का लॉस पाटने के लिएकैचअपकोर्स: कोरोना के कारण 2020 में पढ़ाई नहीं हो सकी। सरकारी विद्यालयों में पिछले साल के पढ़ाई के लॉस को पूरा करने के किए तीन महीना का कैच अप कोर्स लाया गया है। लेकिन किसी भी निजी विद्यालय की तरफ से इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया गया। सरकार के इस कदम ने अभिभावकों को सरकारी विद्यालय की तरफ आकर्षित किया है।


Buy Amazon Product