बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

नियोजित शिक्षकों के बकाए एरियर भुगतान की मांग हुई तेज जान ले कितना मिलेगा राशि।

नियोजित शिक्षकों के बकाए एरियर भुगतान  की मांग हुई तेज जान ले कितना मिलेगा राशि।

बेतिया | जिले के प्रारंभिक व हाई स्कूलों के 70 से अधिक शिक्षक व शिक्षकेतर कर्मी पिछले दो सालों से बकाए एरियर भुगतान की टकटकी लगाए बैठे हैं। आलम यह है कि उनमें से कई सेवानिवृत्त हो भी हो चुके हैं। लेकिन पाया है। यह सिलसिला अनवरत बढ़ता ही जा रहा है। लेकिन इंतजार की घड़ियां हैं कि समाप्त होने का नाम नहीं ले रही। इसपर शिक्षक नेताओं द्वारा भी मांग उठाई जा रही है। लेकिन अभी भी शिक्षकों को एरियर भुगतान की आस है। कई शिक्षक बकाया भुगतान नहीं होने से भारी आर्थिक परेशानी से जूझ रहे हैं।

यह भी पढ़ें - नियोजित शिक्षक केलकुलेटर से बने वेतन निर्धारण को डाउनलोड कर गड़बड़ी होने पर आपत्ति दर्ज कर सकेंगे इस प्रकार।

पठन अभियान: आज से पढ़ेंगे 8वीं तक के बच्चे।
मुजफ्फरपुर : सौ दिवसीय रीडिंग कैम्पेन के जरिए सरकारी स्कूल के आठवीं तक के बच्चों को पढ़ाने की शुरुआत शनिवार से होगी। बिहार शिक्षा परियोजना की ओर से इसके लिए साप्ताहिक कैलेंडर बनाया गया है। घर पर माता-पिता व भाई बहनों के सहयोग से भी बच्चे पढ़ाई कर सकेंगे।

यह भी पढ़ें - नियोजित शिक्षक केलकुलेटर से बने वेतन निर्धारण को डाउनलोड कर गड़बड़ी होने पर आपत्ति दर्ज कर सकेंगे इस प्रकार।

स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग शिक्षा मंत्रालय की ओर से बाल वाटिका से कक्षा आठवीं तक के बच्चों में पठन के माध्यम से प्रभावी शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए सौ दिवसीय पठन अभियान से संबंधित दिशा- निर्देश जारी किया गया है। इस अभियान के लिए विकसित दिशा-निर्देशों में पढ़ना क्यों महत्वपूर्ण है, समझ कर लिखना और पढ़ना, लक्ष्य समूह अभियान की अवधि, बच्चों तक पहुंच, अभियान के लिए कार्य योजना, स्रोत एवं दस्तावेज के साथ गतिविधियों का एक साप्ताहिक कक्षा वार कैलेंडर शामिल है। इसे बच्चों की ओर से माता-पिता, साथियों भाई-बहनों या परिवार के अन्य सदस्यों की मदद से किया जा सकता है। जिले के सभी प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी को यह गाइडलाइन उपलब्ध कराई गई है। डीईओ अब्दुस सलाम अंसारी ने बताया कि ये क्रियाकलाप सरल और आनंददायक है।


Buy Amazon Product