बड़ी खबरें

78 हजार केंद्रीय राज्य कर्मियों को 188 करोड़ से ज्यादा दिवाली बोनस के रूप में बड़ी धनराशि मिलेगी।78 हजार केंद्रीय राज्य कर्मियों को 188 करोड़ से ज्यादा दिवाली बोनस के रूप में बड़ी धनराशि मिलेगी। राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दियाराज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दिया बेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहरबेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर सरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धिसरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धि हो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबितहो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबित 2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी

शिक्षकों की प्रोन्नति की नई व्यवस्था के तहत वित्त व विधि विभाग से सहमति के साथ कैबिनेट में गई 7 प्रस्ताव अब मिलेगी मंजूरी।

शिक्षकों की प्रोन्नति की नई व्यवस्था के तहत वित्त व विधि विभाग से सहमति के साथ कैबिनेट में गई 7 प्रस्ताव अब मिलेगी मंजूरी।

1)प्रोन्नति की नई व्यवस्था के तहत शैक्षणिक प्रदर्शन होगा आधार।
2)वित्त व विधि विभाग की सहमति, कैबिनेट के समक्ष प्रस्तुत होगा प्रस्ताव।
3)प्रोन्नति की व्यवस्था
4) कुलपति की अध्यक्षता में गठित समिति द्वारा मिलेगी प्रोन्नति।
5)समिति के विषय विशेषज्ञ राज्यपाल द्वारा मनोनीत सदस्य और  विश्वविद्यालय के मनोनीत सदस्य होंगे।
6) संबंधित शिक्षक द्वारा प्रोन्नति के लिए करना होगा आवेदन।
7)शोध कार्य, शोध-पत्र के प्रकाशन, पुस्तक लेखन, अकादमिक कार्य और शैक्षणिक उत्तरदायित्व आदि पर मिलेंगे अंक।
बिहार के विश्वविद्यालयों के शिक्षकों को यूजीसी (विश्वविद्यालय अनुदान आयोग) की गाइडलाइन के तहत प्रोन्नति का लाभ मिलेगा। शैक्षणिक प्रदर्शन के आधार पर उन्हें समय पूर्व इसके लिए प्रारूप (ड्राफ्ट) को अंतिम रूप दे दिया गया है। प्रस्ताव पर वित्त विभाग और विधि विभाग की स्वीकृति मिल चुकी है। मंत्रिमंडल के समक्ष यह प्रस्ताव यथाशीघ्र प्रस्तुत होगा।

यह भी पढ़ें - शिक्षा विभाग के उप सचिव ने सरकारी स्कूलों में तैयार किया नई गाइडलाइन पत्र हुआ जारी, अब लागू होगा प्रोन्नति का नया कानून

शिक्षा विभाग के सचिव असंगबा चुबा आओ ने राज्य के विश्वविद्यालयों के शिक्षकों को करियर एडवांसमेंट स्कीम के तहत प्रोन्नति के परिनियम का प्रारूप तैयार कराया है। कुलपतियों की तीन सदस्यीय समिति ने प्रारूप तैयार किया है। कुलाधिपति कार्यालय ने पांच जुलाई को अधिसूचना जारी की थी। परिनियम के तहत विश्वविद्यालय शिक्षकों को प्रोन्नति मिल पाती, उसके पहले ही सरकार ने राजभवन को पत्र भेज कर सूचित किया कि उसके अनुमोदन व सहमति के बाद करियर एडवांसमेंट स्कीम से संबंधित परिनियम क्रियान्वित किया जाना चाहिए। इस संबंध में राज्यपाल एवं कुलाधिपति के प्रधान सचिव राबर्ट एल चोंग्यू को संबोधित पत्र शिक्षा विभाग के सचिव के हस्ताक्षर से राजभवन को भेजा गया था। राजभवन के स्तर से राज्य के विश्वविद्यालयों के शिक्षकों को करियर एडवांसमेंट स्कीम के तहत प्रोन्नति संबंधी परिनियम का प्रारूप समिति में विषय विशेषज्ञ, राज्यपाल शिक्षा विभाग में सहमति हेतु प्राप्त है। उस पर सरकार का अनुमोदन सहमति प्राप्त करने की कार्रवाई प्रक्रियाधीन है।
शिक्षकों के शोध पर ज्यादा जोर दिया गया है। अब नया परिनियम प्रक्रिया शुरू होने के बाद सहायक प्रोफेसर से एसोसिएट प्रोफेसर और इसके बाद प्रोफेसर स्तर के प्रोन्नति में शोध कार्यों और उसके प्रकाशन, पुस्तक लेखन, शिक्षण कार्य की जवाबदेही और शोधार्थियों के बीच शोध का माहौल विकसित करने संबंधी यूजीसी की गाइडलाइन को प्राथमिकता दी।

यह भी पढ़ें - शिक्षा विभाग के उप सचिव ने सरकारी स्कूलों में तैयार किया नई गाइडलाइन पत्र हुआ जारी, अब लागू होगा प्रोन्नति का नया कानून

डाकघर से खरीदें तिरंगा, अमृत महोत्सव को बनाएं यादगार।
गयाः आजादी के 75वें वर्ष को ऐतिहासिक और यादगार बनाने के लिए हर सरकारी महकमा और आम लोग जुटे हैं। इस ऐतिहासिक क्षण को लेकर हर भारतीय अपने-अपने घरों में राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा झंडे को 15 अगस्त को फहराने वाले हैं। आमलोगों को तिरंगा ध्वज सुलभ और सहज मिले। इसलिए डाकविभाग राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री कर रहा है।
जिले के प्रधान डाकघर समेत डाकघरों में राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा बिक्री के लिए उपलब्ध है। जहां से लोग तिरंगा खरीद सकते हैं। झंडे को लोग अपने घरों में 15 अगस्त को फहराएंगे। इस दिवस विशेष के लिए झंडा मंगाया गया है। डाक विभाग के अनुसार गया और जहानाबाद जिले के प्रधान डाकघर समेत सभी उप डाकघरों में आमलोगों की सहूलियत के लिए मात्र 25 रुपये में एक झंडे की बिक्री हो रही है। यह व्यवस्था आमलोगों की सुविधा के लिए की गई है, ताकि झंडा खरीदने में इधर- उधर भटकना नहीं पड़े। डाकघरों से झंडा खरीदे और अपने-अपने घरों पर फहरा दें। यहां बिकने वाले झंडा को प्रत्येक दिन संध्याकाल में उतारने की जरूरत नहीं होगी। पूरे शहर में उत्सव का माहौल बनाना है। इसी सोच के तहत पहली बार अमृत महोत्सव पर डाकघरों झंडा की बिक्री हुई है। जिला मुख्यालय के साथ-साथ अनुमंडल, प्रखंड और पंचायत स्तर पर संचालित डाकघरों में भी तिरंगा झंडा बेचने की व्यवस्था की जा रही है ताकि ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोग भी डाकघरों से झंडा खरीदकर घरों में फहराएं।


Buy Amazon Product