बड़ी खबरें

78 हजार केंद्रीय राज्य कर्मियों को 188 करोड़ से ज्यादा दिवाली बोनस के रूप में बड़ी धनराशि मिलेगी।78 हजार केंद्रीय राज्य कर्मियों को 188 करोड़ से ज्यादा दिवाली बोनस के रूप में बड़ी धनराशि मिलेगी। राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दियाराज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को 18 अक्टूबर के होने वाले कार्यक्रमों के लिए निर्देशक प्राथमिक शिक्षा ने पत्र जारी कर दिया बेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहरबेसिक ग्रेड के नियोजित शिक्षकों को अब जल्द मिल सकेगा प्रमोशन का आ गया फैसला शिक्षकों में अत्यंत खुशी की लहर सरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धिसरकारी कर्मियों के साथ नियोजित शिक्षकों को भी सरकार ने दिया दिवाली से पहले धमाकेदार तोहफा DA में हुआ 4% की वृद्धि हो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबितहो जाएं सावधान, चहक कार्यक्रम में विभाग द्वारा भेजे गए सामग्री को गलत तरीके से लेने को लेकर शिक्षक हो रहे निलंबित 2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी2015 तक के बहाल नियोजित शिक्षकों को स्नातक ग्रेड में होगा प्रोन्नत वरीता के आधार पर वेतन में होगी बढ़ोतरी

राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में पढ़ाई के साथ अब यह व्यवस्था नियमित रूप से चलेगा, जान ले पूरी नियम।

राज्य के 80 हजार सरकारी स्कूलों में पढ़ाई के साथ अब यह व्यवस्था नियमित रूप से चलेगा, जान ले पूरी नियम।

कोरोना की लहर थमने पर क्षेत्रों में अनलॉक होने के बाद मार्च 2020 से बंद सभी सरकारी विद्यालय अब पूरी तरह सरकारी आदेश पर खुल गये हैं। छात्र- छात्राओं की उपस्थिति सामान्य दिनों की तरह होने लगी है। कोरोना काल में विद्यालयों में बंदी के कारण विद्यालयों में प्रधानमंत्री पोषण योजना के तहत चलने वाले मध्याह्न भोजन योजना (एमडीएम) भी बंद था। हालांकि अब विद्यालय खुल गये हैं, इसलिए कक्षा-1 से 8 तक के विद्यालयों में 28 फरवरी से मध्याह्न भोजना योजना फिर से शुरू होने को लेकर तैयारी की जा रही है। इसके लिए रजौली प्रखंड के मध्यान्ह भोजन योजना के प्रभारी शंकर कुमार ने प्रखंड के सरकारी स्कूलों के प्रधानाध्यापक एवं प्रभारी प्रधानाध्यापकों के साथ इंटर विद्यालय के परिसर में बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश दिया बैठक के दौरान प्रधानाध्यापक एवं प्रभारी प्रधानाध्यापकों को 28 फरवरी से भोजन शुरू करने को लेकर की गई तैयारियों का अवलोकन एमडीएम प्रभारी को कराया। साथ ही साथ सिंगल नॉडल एजेंसी के तहत ऑनलाइन राशि भेजे जाने को लेकर तैयारी को प्रशिक्षित किया गया।

यह भी पढ़ें - लाखों नियोजित शिक्षकों को नौकरी से हटाने को लेकर शुरू होगा आंदोलन ।

बताते चलें कि मिड डे मील केंद्र सरकार के द्वारा चलाया गया योजना है जिसके जरिए स्कूल में पढ़ रहे छोटी आयु के बच्चों को पोषक भोजन खाने के लिए दिया जाता है। यह योजना काफी सालों से हमारे यहां चल रही है और इस योजना को हरेक सरकारी स्कूलों में चलाया जा रहा है। इस स्कीम के तहत हर रोज स्कूली बच्चों को स्कूल में भोजन करवाया जाता है। मध्याह्न भोजन के तहत वर्ग 1 से 5 तक के प्रत्येक बच्चों को 100 ग्राम और कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों को 150 ग्राम चावल विद्यालय को उपलब्ध कराया जाता है। विद्यालय को कक्षा- एक से पांच के लिए 4 रुपए 97 पैसे और कक्षा छह से आठ के लिए 7 रुपये 45 पैसा परिवर्तन शुल्क दिया जाता है।

 

नौवीं वार्षिक परीक्षा आज 14 लाख छात्र होंगे शामिल

 

• मैट्रिक सेंटअप की तरह होगी परीक्षा, अंक भेजना है बोर्ड को

• हर जिले से 20 हजार से अधिक छात्र परीक्षा में शामिल होंगे

 

नौवीं की वार्षिक परीक्षा शनिवार से शुरू होगी। यह 26 फरवरी से तीन मार्च तक चलेगी। इसमें राज्यभर से 14 लाख विद्यार्थी परीक्षा में शामिल होंगे।

 

छात्र अपने ही स्कूल में परीक्षा देंगे। परीक्षा पूरी तरह से बिहार बोर्ड द्वारा ली जा रही है। बोर्ड द्वारा सभी स्कूलों को डीईओ कार्यालय के माध्यम से प्रश्न पत्र, उत्तर पुस्तिका भेजी गयी है। पहली बार नौंवीं परीक्षा ओएमआर पर ली जायेगी। सभी विद्यार्थियों को अपने उत्तर ओएमआर पर भरनी होगी। नौंवीं वार्षिक परीक्षा में पटना जिले से 60 हजार विद्यार्थी शामिल होंगे। वहीं, हर जिले से 20 हजार से अधिक छात्र परीक्षा में शामिल होंगे।

 

मैट्रिक सेंटअप की तरह होगी परीक्षा : पहली बार मैट्रिक के सेंटअप की तरह नौवीं की परीक्षा ली जायेगी। परीक्षा के बाद हर जिला शिक्षा कार्यालय को नौंवी का रिजल्ट बिहार बोर्ड को भेजना है। इसके लिए बिहार बोर्ड ने सभी स्कूलों के साथ डीईओ कार्यालय को निर्देश जारी किया है। परीक्षा में प्रश्नपत्र पढ़ने के लिए 15 मिनट का समय दिया जायेगा । परीक्षा में कितने छात्र उपस्थित हुए, इसकी जानकारी भी दी जायेगी।

 

नेत्रहीन छात्र विज्ञान के बदले देंगे संगीत की परीक्षा : नेत्रहीन छात्र विज्ञान के बदले संगीत और गणित विषय के बदले गृह विज्ञान की परीक्षा में शामिल होंगे। यह परीक्षा 26 फरवरी को ही पहली और दूसरी पाली में ली जायेगी। प्रायोगिक परीक्षा भी ली जायेगी। ऐच्छिक विषय की प्रायोगिक परीक्षा चार मार्च को ली जायेगी। नेत्रहीन छात्रों और लिखने में असमर्थ छात्र को प्रति घंटा 20 मिनट का अतिरिक्त समय दिया जायेगा। 

 

बीपीएससी की परीक्षा आज

 

बीपीएससी की परीक्षा 26 फरवरी को है। इसके लिए कई स्कूलों में केंद्र बनाया गया है। ऐसे में इन स्कूलों में 26 फरवरी से नौंवीं की वार्षिक परीक्षा शुरू नहीं हो पायेगी। ऐसे स्कूलों में 26 फरवरी की परीक्षा • तीन मार्च को ली जायेगी।


Buy Amazon Product