बड़ी खबरें

बिना रिश्वत शिक्षा विभाग में नहीं बढ़ती एक भी फाइल, अधिकारियों को भी चाहिए पैसा!

बिना रिश्वत शिक्षा विभाग में नहीं बढ़ती एक भी फाइल, अधिकारियों को भी चाहिए पैसा!

1).बीईपी के जेई की कथित वॉयरल आडियो से हड़कंप, डीपीओ ने प्रभार छीनते हुए मांगा जवाब। 

2)स्कूल भवन निर्माण के मद में मोबाइल पर रिश्वत मांगने का कथित मामला। 

3).बीईपी के सहायक अभियंता कार्यालय में की गयी कथित रूप से आरोपित जेई की प्रतिनियुक्ति। 

सरकार में जारी किया गाइडलाइन छठी कक्षा से ऊपर के विद्यालय संचालन शुरू होंगे।

 

बिहार शिक्षा परियोजना अन्तर्गत बैरिया अंचल में पदस्थापित कनीय अभियंता द्वारा मोबाइल फोन पर रिश्वत मांगने का एक ऑडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल है. दावा किया जा रहा है कि वायरल ऑडियो में बीईपी के कनीय अभियंता धनंजय कुमार की आवाज है, जो वैरिया अंचल के ही एक प्रधान शिक्षक से फोन के माध्यम से रिश्वत की मांग कर रहे हैं. याँयरल आडियो में साफतौर से शिक्षा विभाग में रिश्वतखोरी का खुलासा किया गया है, बताया गया है कि बीईपी कार्यालय में बना रिश्ता कोई भी फाइल आगे नहीं बढ़ती है। 

 

अधिकारी तक रिश्वत लेते शिक्षक व शिक्षा विभाग के व्यभिन्न सोशल मीडिया ग्रुपों यह ऑडियो क्लिप वायरल होने के बाद । हड़कंप मच गया है. मामले में समा शिक्षा अभियान के डीपीओ राघवे मणि त्रिपाठी ने कड़ा एक्शन लेते ह कथित रूप से आरोपी बनाये गये ज धनंजय कुमार का प्रभार छीनते हुए उन्हें सहायक अभियंता के कार्यालय में योगदान देने का निर्देश दिया है, साथ ही वायरल आडियो के संदर्भ में जवाब का पर बर्खास्त करने की सिफारिश विभाग में करने की चेतावनी दी है। 

 

 डीपीओ ने अपने सम्बन्धित पत्र में स्पष्ट किया है कि आप इसका साक्ष्य सहित स्पष्टीकरण दें कि क्यों न इस निराधार व गंभीर अपराध के लिये आपको पदमुक्त करने की अनुशंसा विहार शिक्षा परियोजना परिषद के प्रोजेक्ट डायरेक्टर से कर दी जाय, उन्होंने तत्काल प्रभाव से बैरिया अंचल के असैनिक निर्माण कार्यों का प्रभार भितहा के कनीय अभियंता रंजीत कुमार राम को 24 घंटों के अंदर सौंपने का निर्देश दिया है,।

 

 


Buy Amazon Product