बड़ी खबरें

आखिरकार शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी को नियोजित शिक्षकों की बात माननी ही पड़ी होगी समस्या खत्म।

आखिरकार शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी को नियोजित शिक्षकों की बात माननी ही पड़ी होगी समस्या खत्म।

शिक्षक संघ, बिहार का शिष्टमंडल मिला शिक्षा मंत्री से साथियों आप अवगत हैं कि नियोजित शिक्षकों की कई समस्याएं अब भी पेचीदगी से भरी है,जिसका निदान स्थानीय पदाधिकारी नहीं कर पा रहे।उन्हीं में से एक है-5 सितंबर2019 की तिथि को हड़ताल अवधि मानकर सामंजित कर,वेतन भुगतान करना।यद्यपि सरकार ने हड़ताल अवधि को सामन्जित कर वेतन भुगतान का आदेश जारी कर दिया है,तथापि इस तिथि पर उसने कुछ नहीं कहा है,जिसके कारण समस्या बरकरार है।

27 जनवरी से कक्षा 1 से 8 तक के बच्‍चे भी जा सकते हैं स्‍कूल, सरकार कर रही तैयारी.

दूसरी समस्या है कि,सरकार ने स्थांनांतरण नीति तो बनाई है पर इसका क्रियान्वयन कैसे हो,यह स्पष्ट नहीं किया है तथा इसके लिए विस्तृत निर्देश का निकालना आवश्यक है साथ ही 15% वेतनवृद्धि के पश्चात वेतन स्ट्रक्चर कैसा हो,उसमें कोई त्रुटि न हो,जिसके कारण पहले ही वेतन संबंधित खामियों को झेल रहे नियोजित शिक्षकों को और आर्थिक नुकसान न होने पाए,इसके लिए स्पष्ट पे स्ट्रक्चर का आदेश निकलने की आवश्यकता है।

निष्ठा प्रशिक्षण नहीं करने वाले शिक्षकों का वेतन होगा बंद ,क्या है उसका उपाय जरूर देखें.

राज्य भर के नियोजित शिक्षकों की इन परेशानियों को समझते हुए ,दिनांक 12/01/2021 को शिक्षक संघ, बिहार के अध्यक्ष श्री केशव कुमार ने कल कड़ाके की सर्दी में अपने साथियों प्रदेश सचिव श्री ऋतुराज सौरभ, प्रदेश कोषाध्यक्ष श्री राकेश सिंह,प्रदेश प्रतिनिधि श्री धनंजय मिश्रा, तथा पटना जिलाध्यक्ष श्री रामशेखर  के साथ सचिवालय जाकर संबंधित पदाधिकारी तथा शिक्षा मंत्री से मिलकर आवेदन सौंपा तथा विस्तृत वार्ता की,जिसका फलाफल शीघ्र ही मिलने की उम्मीद है।

इसके उपरांत सभी लोगों ने माननीय उच्च न्यायालय में अप्रशिक्षित शिक्षकों को हटाने से रोकने संबंधित दायर की गयी याचिकाओं की अद्यतन स्थिति की जानकारी विद्वान अधिवक्ता से मिलकर ली।


जय शिक्षक, जय शिक्षक संघ बिहार।
आपका
केशव कुमार
प्रदेश अध्यक्ष, शिक्षक संघ बिहार।


Buy Amazon Product