बड़ी खबरें

शिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगाशिक्षकों को मिली खुशखबरी सरकारी स्कूल के संचालन में हुआ भारी परिवर्तन जान ले अब कितने बजे तक स्कूल चलेगा 2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा2006 से लेकर अब तक के नियोजित शिक्षकों के लिए बड़ी खबर मिलेगी सरकारी राज्य कर्मी का दर्जा खुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूचीखुशखबरी शिक्षकों के लिए प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा विभाग ने अवकाश तालिक में हुआ भारी परिवर्तन जारी हुआ सूची प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएंप्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक दिए गए लिंक पर जाकर जल्द सूचना प्राप्त कर लें आप कहीं छूट ना जाएं शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसलाशिक्षकों को भी पुरानी पेंशन योजना शीघ्र लागू हो इस पर लिया गया बड़ा फैसला सभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतानसभी जिलों में शिक्षकों के लिए दिसंबर महीने का वेतन एवं अंतर राशि के लिए 11 अरब 92 करोड़ 85 लाख का हुआ आवंटन अब होगा भुगतान

मानव संसाधन मंत्रालय से आई बड़ी खबर राज्य के 38 जिलों के सरकारी स्कूलों के लिए नए सत्र के लिए आदेश कर दिया जारी।

मानव संसाधन मंत्रालय से आई बड़ी खबर राज्य के 38 जिलों के सरकारी स्कूलों के लिए नए सत्र के लिए आदेश कर दिया जारी।

पटना: नए सत्र में शैक्षणिक प्रदर्शन के आधार पर सभी जिलों की ग्रेडिंग होगी। इसके लिए अप्रैल से सभी 38 जिलों में अभियान चलेगा। इसी आधार पर सरकारी स्कूलों में शैक्षणिक व्यवस्था में सुधार का आकलन भी किया जाएगा। इसके आधार पर जिलास्तर पर शिक्षा में गुणात्मक सुधार में तेजी लाने के लिए रणनीति भी बनेगी। इसकी रिपोर्ट केंद्र सरकार को भेजी जाएगी। हाल ही में मानव संसाधन मंत्रालय के स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने बिहार सरकार को परफार्मेंस ग्रेडिंग इंडेक्स बनाने का आदेश दिया है।

यह भी पढ़ें - नियोजित शिक्षकों के वेतन मद के लिए 22.98 अरब जारी, बढ़ा हुआ वेतन एवं एरियर के साथ होगा भुगतान।

बच्चों की क्षमता का आकलन : बच्चों की क्षमता का आकलन होगा। प्राथमिक से मध्य विद्यालय में जाने वाले बच्चों की प्रतिशत, भाषा, विज्ञान व गणित जैसे विषय में समझ की परख होगी। शिक्षकों के शिक्षण कार्य क्षमता विकास एवं कक्षाओं में उपस्थिति आदि का आकलन होगा। क्लासरूम ट्रांजेक्शन के तहत शिक्षण कार्य और बच्चों को पढ़ाने के तरीके का आकलन होगा। स्वच्छ भारत अभियान, फिट इंडिया, नागरिक कर्त्तव्य का पालन, शैक्षणिक व विकास गतिविधियां और एक भारत, श्रेष्ठ भारत पर आकलन होगा।

यह भी पढ़ें - सरकारी स्कूल के शिक्षकों के लिए बल्ले बल्ले समग्र शिक्षा के लिए 4,441 करोड रुपया हुआ जारी जान ले इसे कैसे करना है खर्च।

 

छह सूचकांक पर 600 अंकों पर माकिंग

केंद्र सरकार की ओर से स्कूलों का ग्रेडिंग सूचकांक बनाने का दिए गए निर्देश के मुताबिक 6 सूचकांक (इंडीकेटर्स) की 84 बिंदुओं पर मार्किंग की जाएगी। पूरी जांच 600 अंकों की होगी। रैंकिंग के आधार पर विद्यालय शिक्षा की वास्तविक स्थिति को भी समझा जा सकेगा। केंद्र सरकार ने सूचकांक पर अलग-अलग अंक तय किया है। नतीजे ( आउटकम्स) पर 350, क्लासरूम ट्रांजेक्शन पर 30, आधारभूत संरचना पर 51, स्कूल सेफ्टी एंड चाइल्ड प्रोटेक्शन पर 35, डिजिटल लर्निंग पर 50 एवं स्कूल प्रबंधन एवं प्रशासन पर 84 अंक निर्धारित है।


Buy Amazon Product